अश्वनी खड्ड सीवरेज प्लांट देख दंग रह गई केंद्रीय टीम, योग्य एवं आधुनिक न होने के बाद भी हो रहा संचालन

0
299
Seweage Treatment plant malyana

शिमला- शिमला शहर में भारत मिशन के तहत निरीक्षण करने पहुंची केंद्र की तीन सदस्यीय टीम अश्वनी खड्ड में बने सीवरेज प्लांट को देखकर दंग रह गई। टीम के सदस्य हैरान थे कि सीवरेज का ट्रीटमेंट प्लांट क्षमता योग्य एवं आधुनिक न होने के बाद भी संचालन हो रहा है। टीम ने रिपन अस्पताल और नगर निगम का भी दौरा किया।

मंगलवार को टीम के तीन सदस्य पहले मल्याणा स्थित अश्वनी खड्ड के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने पानी के सैंपल भी लिए। फिर ढली के प्लांट का भी निरीक्षण किया। इसके साथ ही स्थानीय लोगों से भी पूछा कि आखिर पीलिया का शिकार शहर की जनता हो रही है। ऐसे में आप किस क्षेत्र और किस माध्यम का पेयजल स्त्रोत इस्तेमाल कर रहे हैं। जिन भी लोगों से पूछताछ की है। उनका पूरा पता टीम ने अपने रिकॉर्ड में रखा है, साथ ही साथ खुले में बहने वाली सीवरेज को मुआयना किया।

हालांकि टीम स्थानीय प्रशासन के किसी भी अधिकारी को अपने साथ नहीं ले जा रही है। अकेले ही हर मौके का निरीक्षण कर रही है। टीम ने रिपन अस्पताल की लैब का निरीक्षण भी किया है। जहां पर पीलिया के टेस्ट हो रहे थे। उन्होंने इस्तेमाल होने वाले उपकरणों पर चिंता जताई है। टीम अभी दो दिन तक शिमला में ही रहेगी। देर शाम को टीम ने नगर निगम आयुक्त पंकज राय के साथ बैठक की । बैठक में पिछले एक साल में शहर में स्वच्छता को लेकर क्या क्या प्रयास किए गए। इसमें कितना सुधार हुआ है। इसके साथ ही इस वित्तीय वर्ष में स्वच्छता मिशन को लेकर क्या योजना बनाई गई है।

पीलिया पर फोकस है टीम

पिछले दो दिनों से शिमला में पहुंची टीम मुख्य तौर पर पीलिया को लेकर काफी चिंतित है। सोमवार शाम को आते ही सबसे रिपन में पीलिया के मामले का औचक निरीक्षण लिया था। मंगलवार सुबह भी टीम ने उन क्षेत्रों को दौरा किया जहां से अधिकतर पीलिया ग्रस्त मरीज है। यहां से पानी के सैंपल लिए है। इन्हें दिल्ली जांच के लिए ले जाया जाएगा।

टीम शिमला के विभिन्न हिस्सों को औचक निरीक्षण किया है। टीम के साथ बैठक हुई है। इसके स्वच्छता मिशन के तहत हुए कार्यो के बारे में समीक्षा की गई है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS