शिमला रिज के वाटर टैंक में सफाई के दौरान मिले चूहे और खाली बोतलें

0
815
mc-shimla-mayor-dy-mayor-ridge-water-tank

शिमला — शिमला रिज के नीचे अंगे्रजों द्वारा बनाए गए जल भंडारण टैंक को सोमवार को नगर निगम शिमला ने साफ करवाया। सफाई के दौरान टैंक के पानी के बीच चूहे और खाली बोतलें मिली हैं। ऐसे में फिर से निगम की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में आ गई है। चूंकि आधे शहर को इसी टैंक से पानी की सप्लाई की जाती है।

ऐसे में टैंक के अंदर सफाई के दौरान चूहे व खाली बोतलें मिलना जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड़ है। इससे पहले भी निगम की कार्यप्रणाली पर कई बार सवाल उठ चुके हैं। शहर के कई क्षेत्रों में गंदे पानी की वजह से कई लोगों की पीलिया के कारण जान तक जा चुकी है। उक्त भंडारण टैंक की सफाई में सात घंटे का समय लगा। नगर निगम शिमला द्वारा रिज जल भंडारण टैंक की सफाई का कार्य सोमवार सुबह के समय शुरू किया गया।

टैंक में सबसे पहले गाद को बाहर निकाला गया। इसके बाद पानी से टैंक की सफाई की गई। टैंक की सफाई के बाद इसमें क्लोरीन का छिड़काव किया गया। करीब सात घंटे तक चले सफाई कार्य को निगम के 35-40 कर्मचारियों ने अंजाम दिया। इस दौरान निगम के महापौर संजय चौहान व उपमहापौर टिकेंद्र पंवर भी उपस्थित रहे और उन्होंने टैंक की सफाई का पूर्ण जायजा लिया। निगम के एमई राजेश कश्यप ने बताया कि रिज भंडारण टैंक की सफाई की गई है, जिसमें करीब सात घंटे का समय लगा।

एक सप्ताह तक रहेगी पानी की किल्लत

रिज पर बने पेयजल स्टोरेज टैंक को सफाई के लिए खाली करवाया गया है। अब इसमें पानी का स्तर बनाने के लिए कई दिन का समय लगेगा। ऐसे में उक्त टैंक से जिन क्षेत्रों को पानी की सप्लाई होती है, उन क्षेत्र के लोगों को आगामी एक सप्ताह तक पानी की किल्लत का सामना करना पड़ सकता है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS