Connect with us

अन्य खबरे

सिरमौर: गोबर के ढेर में मिली नवजात बच्ची की माँ निकली बारहवीं कक्षा की छात्रा, दुष्कर्म के आरोप में जीजा गिरफ्तार

sirmaur newborn girl child thrown in fields

सिरमौर-  प्रदेश में कुछ दिन पहले सिरमौर जिले के शिलाई उपमंडल के एक गांव में नवजात बच्ची को खेत में गोबर के ढेर के पास फेंकने का मामला सामने आया था। पुलिस ने कुछ समय के पश्चात ही इस मामले को सुलझा दिया है। पुलिस ने बच्ची को जन्म देने वाली मां की पहचान कर ली है और बुधवार को उसका मेडिकल करवाया गया है। बताया जा रहा है कि नवजात बच्ची को जन्म देने वाली माँ स्कूल में पढ़ने वाली बारहवीं कक्षा की छात्रा है। पुलिस ने जब लड़की का बयान लिया तो उसने बताया कि उसके जीजा ने उसके साथ दुष्कर्म किया था, जिसके बाद वो गर्भवती हो गई थी। इसलिए लोकलाज के डर से उसने अपनी नवजात बच्ची को पैदा होने के बाद ही खेत में गोबर के ढेर में लावारिस छोड़ दिया था। फिलहाल नवजात बच्ची नाहन मेडिकल कॉलेज में चिकित्सकों की देखरेख में स्वास्थ्य लाभ ले रही है और उसकी हालत स्थिर बताई जा रही है।

पांवटा साहिब के डीएसपी बीर बहादुर ने मामले की पुष्टि की और उन्होंने बताया कि नवजात बच्ची को जन्म देने के बाद लावारिस छोड़ने पर लड़की के खिलाफ आईपीसी की धारा 317 और आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 व पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर इन पर करवाई की जाएगी।

बता दे कि रोनहाट उपतहसील की शंखोली पंचायत के कमियारा (खड़काह) नामक स्थान पर मंगलवार को किसी ने एक बच्ची को जन्म देने के बाद खेत में गोबर के ढेर के पास फेंक दिया था। सुबह जब एक व्यक्ति अपने खेत मे काम करने गया तो उसने उस नवजात बच्ची को वहां देखा तो उसने तुरंत पुलिस को इस मामले की सूचना दी। पुलिस की टीम सीएचसी रोनहाट में तैनात डॉक्टर को साथ में लेकर तत्काल मौके पर पहुंची और नवजात शिशु को प्राथमिक उपचार देने के बाद आगामी ईलाज और देखभाल के लिए 108 एम्बुलेंस से सिविल अस्पताल शिलाई पहुंचाया गया था।

Advertisement

अन्य खबरे

किन्नौर: पहाड़ी से भारी चट्टानें गिरने से हुआ दर्दनाक हादसा, 9 लोगों की मौत, तीन लोग घायल

kinnaur landslide in batseri

किन्नौर-  रविवार को प्रदेश के किन्नौर जिले के बटसेरी के गुंसा के पास सांगला-छितकुल मार्ग पर भूस्खलन होने के कारण पहाड़ी से पत्थर गिरने से कई वाहन इसकी चपेट में आ गए। इस दुर्घटना में पर्यटकों से भरी ट्रैवलर गाड़ी पर भारी पत्थर गिरने से उसमें सवार नौ लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि तीन लोग बुरी तरह से घायल हुए हैं। घायलों को सीएचसी सांगला रेफर किया गया है। हादसा इतना भयानक था कि वाहन को चट्टानों ने हवा में ही उड़ा दिया और वाहन बास्पा नदी के किनारे दूसरी सड़क पर जा गिरा।

बताया जा रहा है कि गाड़ी में सवार पर्यटक दिल्ली,राजस्थान,छत्तीसगढ़ तथा महाराष्ट्र के थे जो हिमाचल में प्रदेश घूमने आए थे। सभी पर्यटक दिल्ली से ट्रैवल एजेंसी के वाहन में किन्नौर घूमने आए थे। इस भरी भरकम भूस्खलन के कारण बस्पा नदी पर बना 120 मीटर लम्बा पुल भी टूट गया है।

हादसे की सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासन की टीमें मौके पर पहुंच गई हैं। किन्नौर जिले के डीसी आबिद हुसैन सादिकऔर एसपी एस.आर राणा मौके पर मौजूद रहे। यह हादसा उसी जगह हुआ जहां एक दिन पहले शनिवार को पहाड़ी से पत्थर गिरने से पर्यटकों की कार चकनाचूर हो गई थी तथा लोगों ने भागकर अपनी जान बचाई थी। प्रशासन ने पत्थर हटवाकर मार्ग बहाल कर दिया और दूसरे दिन ही दोपहर को यह हादसा हो गया है।

मृतकों की सूची

1-अनुराग बियानी (31) सिकर,राजस्थान

2-माया देवी बियानी (55) सिकर,राजस्थान

3-ऋचा बियानी (25) शिकार,राजस्थान

4- दीपा शर्मा (34) जयपुर

5 -सतीश (34) छत्तीसगढ़

6 -अमोघ बापट (27) कोरबा ड्ररी, छत्तीसगढ़

7 -प्रतीक्षा सुनील पाटिल (27)सद्भावना नगर,नागपुर,महाराष्ट्र

8 -उमराव सिंह- वाहन चालक (42) दिल्ली

9 – कुमार उल्लास वेदपाठक (37 )

घायल लोगों की सूची 

1- श्रीरील ओबराय (39) वेस्ट दिल्ली

2- नवीन भारद्वाज (37) खरल पंजाब

3- रणजीत सिंह (45) बटसेरी सांगला (किन्नौर)

Continue Reading

अन्य खबरे

परिवहन मंत्री के वार्ता पर बुलाने पर एचआरटीसी के चालकों और परिचालकों की हड़ताल सोमवार तक स्थगित (वीडियो)

hrtc strike over rm transfer

शिमला- हिमाचल प्रदेश पथ परिवहन निगम के चालको और परिचालकों ने अपनी हड़ताल को 24 जुलाई को रात 8 बजे सथगित कर बसों का संचालन शुरू कर दिया है। परिवहन मंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर ने कर्मियों को सोमवार को वार्ता के लिए बुलाया है। प्रदेश में दो दिनों से एचआरटीसी के चालक और परिचालक अपनी मांगो को लेकर हड़ताल पर थे। इस दौरान बसें न चलने से लोगों को कई तरह की परेशानियों का समना करना पड़ा।

कर्मचारियों का कहना है कि इनकी देय राशि को पिछले तीन सालों से रोककर रखा है। हाल ही में एचआरटीसी के क्षेत्रीय प्रबंधक देवसेन नेगी ने एक मीटिंग रखी थी, लेकिन निजी बस ऑपरेटरों के दबाव के चलते मीटिंग से पहले ही उनका तबादला कर दिया गया। कर्मचारियों  का कहना है कि आर एम् उनके हक के लिए लड़ रहे थे। परिचालकों ने कहा है कि उन्हें 5500 रूपये मासिक वेतन मिलता है इतने कम वेतन से भारी भरकम मंहगाई में उनके परिवार का जीवन यापन हो पाना काफी मुश्किल है। सरकार ने इन्हे 11000 महीना देने का आश्वासन दिया था लेकिन अब तक इन्हे यह वेतन नहीं मिला है।

एचआरटीसी चालक यूनियन के प्रधान रणजीत सिंह ने कहा है कि चालकों और परिचालकों की बहुत सारी समस्याएं है। कर्मचारियों का तीन साल से ओवर टाइम पेंडिंग रखा गया है और समय से रेगुलशन के आर्डर भी नहीं मिल रहे है।

इन्होने मांग की है कि मैनेजमेंट कर्मचारिओं की तरफ ध्यान दे और जितना पैसा रोक कर रखा है उसे जल्दी से जल्दी इन्हे दिया जाये ताकि वे भी अपने परिवार की जरूरतों को पूरा कर सकें। कर्मचारियों  का कहना है कि इनकी बात कोई भी नहीं सुन रहा है और यह कर्मचारी रात को ठहरने का 150 रुपए भी अपनी जेब से देते है। इन्होने यह भी कहा कि चालक और परिचालक दिन रात जनता की सेवा में हाजिर रहते है पर फिर भी सरकार उनको सिर्फ आश्वासन ही देती आ रही है। दो साल से जो ओवर टाइम पेंडिंग है वह राशि भी अभी तक नहीं  मिली है और जो भी अधिकारी इनके हक के लिए लड़ता है उसकी ट्रांसफर कर दी जाती है।

इन सभी का कहना है की आरएम् और निजी बस ऑपरेटर की मीटिंग थी लेकिन इससे पहले ही सरकार ने निजी बस ऑपरेटरों के दबाव में आकर आर एम् की ट्रांसफर कर दी  क्योंकि आर एम् इनके हक के लिए लड़ रहा था। एचआरटीसी के चालकों और परिचालकों का कहना है की बस के समय को लेकर भी निजी बस ऑपरेटर इनके साथ लड़ाई करते है। कर्मचारियों का कहना है कि उनके पास और कोई चारा नहीं था इसलिए उन्हें यह हड़ताल करनी पड़ी।

Continue Reading

अन्य खबरे

हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के दिग्गज नेता राजा वीरभद्र सिंह का निधन, प्रदेश में शोक की लहर

former cm virbhdara singh passes away

शिमला–  हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री राजा वीरभद्र सिंह का निधन बुधवार रात को हो गया है। उनहोंने  शिमला के इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज में बुधवार रात को 3:40 मिनट पर अंतिम सांस ली। आईजीएमसी के एमएस डॉक्टर जनक राज ने उनके निधन की पुष्टि की है।वीरभद्र सिंह के निधन की खबर से पुरे प्रदेश में शोक की लहर है। उनके पार्थिव शरीर को आईजीएमसी से उनके आवास हॉलीलॉज ले जाया जाएगा है और वहां अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है।

बता दे की वीरभद्र सिंह कई दिनों से बीमार थे यह 12 अप्रैल को कोरोना संक्रमित पाए गए थे, उन्हें इलाज के लिए चंडीगढ़ के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। इसके बाद 30 अप्रैल को शिमला लौटने के दौरान एक बार फिर उनकी तबियत बिगड़ गई थी।  जिसके चलते उन्हें आईजीएमसी अस्पताल में भर्ती किया गया था। इस दौरान वह दूसरी बार कोरोना संक्रमित हो गया थे। लेकिन उन्होंने कोरोना को मात दे दी थी और बाद में उन्हें कोविड वार्ड से शिफ्ट किया गया था।  सोमवार से वीरभद्र सिंह वेंटिलेटर पर थे। उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी।

जीवन परिचय 

वीरभद्र सिंह का जन्म 23 जून, 1934 को शिमला, हिमाचल प्रदेश में हुआ था। उनके पिता का नाम पिता राजा पदम सिंह और उनकी माता का नाम श्रीमति शांति देवी था।वीरभद्र सिंह की ने स्नातकोत्तर तक की शिक्षा प्राप्त की थी। उनका विवाह श्रीमति प्रतिभा सिंह के साथ हुआ था और उनके 1 बेटा और 4 बेटियाँ है। वीरभद्र सिंह कांग्रेस के दिग्गज नेता थे। यह 6 बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे। 8 जुलाई 2021 को शिमला के इंदिरा गाँधी मेडिकल कॉलेज में इनका निधन हो गया है।

राजनितिक सफर

  • वीरभद्र सिंह 1962 में तीसरी लोकसभा के लिए चुने गए।
  • इसके बाद पुन: 1967 में चौथी लोकसभा के लिए चुने गए।
  • एक बार फिर 1972 में पाँचवीं लोकसभा के लिए चुने गए।
  • 1980 में सातवीं लोकसभा के लिए चुने गए।
  • 1976 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल के सदस्य बने।
  • दिसम्बर 1976 से मार्च 1977 तक भारत सरकार में पर्यटन और नागरिक उड्डयन के उपमंत्री नियुक्त हुए।
  • 1977, 1979 और 1980 में प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष बने रहे।
  • शिमला ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र से 20 दिसम्बर 2012 को राज्य विधान सभा के सदस्य चुने गए।
  • सितम्बर, 1982 से अप्रैल 1983 तक भारत सरकार में उद्योग मंत्री बने।
  • अक्टूबर 1983 और 1985 में जुब्बल – कोटखाई विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से राज्य विधानसभा के लिए चुने गए।
  • 1990, 1993, 1998, 2003 और 2007 में रोहड़ू निर्वाचन क्षेत्र से राज्य विधानसभा के लिए चुने गए।
  • 8 अप्रैल, 1983 से 5 मार्च, 1990 तक हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री।
  • दिसंबर, 1993 से 23 मार्च, 1998 तक हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री।
  • वीरभद्र सिंह एक बार फिर 6 मार्च 2003 से 29 दिसंबर 2007 तक हिमाचल प्रदेश के मुख्य मंत्री रहे।
  • मार्च 1998 से मार्च 2003 तक राज्य विधान सभा में हिमाचल प्रदेश के विपक्ष के नेता।
  • 25 दिसम्बर, 2012 को हिमाचल प्रदेश के छठे मुख्य मंत्री बने।।
  • 2009 में वे मंडी संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से हिमाचल प्रदेश से निर्वाचित हुए ।
  • मई 2009 से जनवरी 2011 तक वीरभद्र सिंह भारत सरकार में इस्पात मंत्री रहे।
  • उन्होने 19 जनवरी 2011 से जून 2012 तक भारत सरकार में लघु और मझौले उद्यम मंत्री के रूप में कार्य किया ।
  • 26 अगस्त 2012 से हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बने।
  • वीरभद्र सिंह आठ बार विधायक, छ: बार मुख्यमंत्री और पांच बार लोकसभा में बतौर सांसद रह चुके हैं।

Continue Reading

Featured

kinnaur landslide in batseri kinnaur landslide in batseri
अन्य खबरे2 weeks ago

किन्नौर: पहाड़ी से भारी चट्टानें गिरने से हुआ दर्दनाक हादसा, 9 लोगों की मौत, तीन लोग घायल

किन्नौर-  रविवार को प्रदेश के किन्नौर जिले के बटसेरी के गुंसा के पास सांगला-छितकुल मार्ग पर भूस्खलन होने के कारण...

hrtc strike over rm transfer hrtc strike over rm transfer
अन्य खबरे2 weeks ago

परिवहन मंत्री के वार्ता पर बुलाने पर एचआरटीसी के चालकों और परिचालकों की हड़ताल सोमवार तक स्थगित (वीडियो)

शिमला- हिमाचल प्रदेश पथ परिवहन निगम के चालको और परिचालकों ने अपनी हड़ताल को 24 जुलाई को रात 8 बजे...

former cm virbhdara singh passes away former cm virbhdara singh passes away
अन्य खबरे4 weeks ago

हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के दिग्गज नेता राजा वीरभद्र सिंह का निधन, प्रदेश में शोक की लहर

शिमला–  हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री राजा वीरभद्र सिंह का निधन बुधवार रात को हो गया है। उनहोंने  शिमला के...

hp cabinet meeting 7 july hp cabinet meeting 7 july
अन्य खबरे4 weeks ago

हिमाचल प्रदेश मंत्रिमंडल के निर्णय: काॅलेजों के प्रथम और द्वितीय वर्ष के विद्यार्थियों को किया जायेगा प्रमोट, सामाजिक समाराहों में ज्यादा लोग ले सकेंगे हिस्सा

शिमला- प्रदेश मंत्रिमंडल की बैठक बुधवार को आयोजित की गई जिसमे कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा की गई। बैठक में...

himachal pradesh hoteliers himachal pradesh hoteliers
अन्य खबरे1 month ago

हिमाचल टूरिज्म इंडस्ट्री की अन्य राज्यों की तर्ज़ पर गार्बेज तथा प्रॉपर्टी टैक्स पर छूट की मांग

शिमला –हिमाचल प्रदेश पर्यटन स्थल के नाम पर एक जानामाना नाम है जो सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विश्व...

bjp mla vishal nehriya bjp mla vishal nehriya
अन्य खबरे1 month ago

वीडियो: धर्मशाला भाजपा विधायक पर पत्नी ने लगाया मारपीट और मानसिक उत्पीड़न का आरोप, पुलिस से मांगी सुरक्षा

शिमला- धर्मशाला से बीजेपी  के विधायक विशाल नेहरिया की एचएएस पत्नी ओशिन शर्मा ने उन पर मारपीट तथा मानसिक तौर...

sirmaur newborn girl child thrown in fields sirmaur newborn girl child thrown in fields
अन्य खबरे1 month ago

सिरमौर: गोबर के ढेर में मिली नवजात बच्ची की माँ निकली बारहवीं कक्षा की छात्रा, दुष्कर्म के आरोप में जीजा गिरफ्तार

सिरमौर-  प्रदेश में कुछ दिन पहले सिरमौर जिले के शिलाई उपमंडल के एक गांव में नवजात बच्ची को खेत में...

sp kullu and cm security sp kullu and cm security
अन्य खबरे1 month ago

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के दौरे के दौरान पुलिस अधीक्षक कुल्लू और मुख्यमंत्री सुरक्षा इंचार्ज के बीच चले लात घूंसे

कुल्लू-  हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में बुधवार को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के दौरे के दौरान भुंतर एयरपोर्ट के...

apple carton apple carton
अन्य खबरे1 month ago

प्रदेश में कार्टन की कीमतों में भारी वृद्धि से बागवानों में रोष, 20 दिन बाद अपने ही बयान से पलटे बागवानी मंत्री

शिमला- प्रदेश के किसान व बागवान अत्यंत संकट के दौर से गुजर रहे हैं। उसपर सरकार के उपक्रम एच पी...

hp cabinet meeting 22 june hp cabinet meeting 22 june
अन्य खबरे1 month ago

मंत्रिमण्डल के निर्णय : हिमाचल में अन्तरराज्यीय बसों को शुरू करने और ई-पास समाप्त करने पर सहमति, पढ़ें कैसे होगी 12वीं कक्षा के थ्योरी के अंकों की गणना

शिमला- हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल की बैठक आज 22 जून 2021 को आयोजित की गयी। 1 जुलाई, 2021 से वाॅल्वो बसों...

Popular posts

Trending