बरसात में भी शिमला के लोग प्यासे, 5 दिन बाद आ रहा पानी वो भी प्रयाप्त नहीं

0
417
Shimla Water Crisis
Representational Image

शिमला- हिमाचल प्रदेश में बरसात के बाद भी लोगों को पेयजल संकट से राहत नहीं मिल पाई है जिससे साफ है कि अभी भी नगर निगम लोगों को सुचारू रूप से पानी देने में नाकाम है।

बरसात के मौसम में भी राजधानी के लोग प्यासे रहने को मजबूर है। लोगो को 24 घंटे स्वच्छ पानी की सप्लाई का दावा और वादा करने वाला नगर निगम लोगों को सुचारू रूप से पानी देने में नाकाम रहा है। हालात इतने बुरे है कि शिमला शहर के लोगो के घरों के नलके पिछले पांच दिन से सूखे पड़े है! हद तो तब हुई थी जब शिमला की जनता को गन्दा व पिलिया युक्त पानी पिलाने वाली नगर निगम ने पानी के बिल लोगो से वसूले थे। रविवार को रिज के आसपास लगते क्षेत्र राम बाजार और लक्कड़ बाजार में पानी नहीं दिया जा सका।

नगर निगम का तर्क है कि इन क्षेत्रों के बदले पीसी चैंबर और यूएस क्लब क्षेत्र को पानी की सप्लाई दी गई है। ऐसा इसलिए क्योंकि वहां पिछले कल भी सप्लाई नहीं दी गई थी, वहीं भराड़़ी वार्ड में लोग नियमित पानी की सप्लाई न मिलने से वहां के लोग काफी नाराज है ।बिजली कट के कारण गिरि से पंपिंग शनिवार दोपहर बाद से ही बंद रही, ऐसे में अधिकतर शहर को पानी नहीं दिया जा सका। बताया जा रहा है कि गिरि में भी 5 पंप में से केवल 4 ही चल रहे हैं जिस कारण नगर निगम जहां शहर में तीसरे दिन सप्लाई देता है वहां अब चौथे और 5वें दिन पानी मिल रहा है।

वहीं शिमला के बालूगंज में पिछले 5 दिन से पानी नहीं आया, पानी की किल्लत से परेशान लोग शनिवार को खाली बाल्टियां लेकर सड़कों पर उतरे। परेशान लोगों ने बालूगंज में चक्का जाम कर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान गुस्साए लोगों ने नगर निगम प्रशासन के खिलाफ धरना-प्रदर्शन कर जमकर नारेबाजी की। बालूगंज चौक में किए गए विरोध प्रदर्शन में महिलाओं ने भारी तादाद में भाग लेकर हाथों में खाली बाल्टियां लेकर अपना विरोध जताया।

Photo: Fair Observer/Representational

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS