कसुम्पटी के कई इलाकों में हुडदंगियों ने तोड़ डाले दर्जनों गाड़ियों के शीशे, 2 बार शिकायत करने के बावजूद नहीं आई स्मार्ट पुलिस

0
1061

आरोपियों ने करीब तीस गाड़ियों से तोड़फोड़ की है, पुलिस की कार्यप्रणाली से स्थानीय लोगों में गुस्सा है, गाड़ी मालिकों में खौफ है। यह पहली बार नहीं है कि जब शहर में गाड़ियों के शीशे तोड़े गए हैं, पहले भी इस तरह की वारदातें शहर में होती रही है

शिमला- शिमला शहर में कसुम्पटी के कई इलाकों में हुडदंगियों ने दर्जनों गाड़ियों के शीशे तोड़ डाले। शिकायत के बावजूद पुलिस नहीं आई और बेखौफ बदमाश एक के बाद एक दर्जनों गाड़ियों के शीशे फोड़ते रहे। छोटी गाड़ियों के अलावा एक बस को भी काफी नुकसान पहुंचाया गया है। हुड़दंगियों की संख्या छह से सात बताई जा रही है।

Shimla smart police

गाड़ियों के शीशे तोड़ते समय कई गाड़ियों के सायरन बजे तब लोग नींद से जागे। इस बारे में पुलिस चौकी कसुम्पटी और 100 नंबर पर भी जागरूक नागरिक की ओर से कॉल किया गया लेकिन स्मार्ट पुलिस ने इन हुड़दंगियों को पकड़ने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। दो बार कॉल करने के बावजूद पुलिस मौके पर नहीं पहुंची लिहाजा हुडदंगी बेखौफ गाड़ियों के शीशे तोड़ते रहे।

एक जागरूक नागरिक ने बताया कि पहला फोन पुलिस को करीब रात डेढ़ बजे किया सूचना देने के बावजूद पुलिस मौके पर नहीं पहुंची। जब हुड़दंगी शांत नहीं हुए तो दूसरा कॉल पुलिस को करीब रात 2.11 बजे स्मार्ट पुलिस को किया गया लेकिन तब भी कोई रिस्पांस नहीं हुआ। पुलिस अगर सूचना मिलने के बाद मामले को गंभीरता से लेती तो पंथाघाटी, परिमहल , पुलिस कालोनी और रानी ग्राउंड में दर्जनों गाड़ियों के शीशे नहीं टूटते।

Shimla hooligans

एक निजी बस के भी शीशे टूटे हैं। इसकी शिकायत थाना छोटा शिमला में की गई है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। एसपी शिमला डी डब्ल्यू नेगी ने कहा कि इस मामले में देर शाम एक आरोपी को पकड़ा गया है। आरोपी कृष्णानगर का रहने वाला है। दूसरे आरोपियों की तलाश जारी है। मुकदमा दर्ज कर छानबीन की जा रही है।

Vikasnagar hooligans

आरोपियों ने करीब तीस गाड़ियों से तोड़फोड़ की है। स्थानीय लोगों का कहना है कि पुलिस ने दस बजे जांच शुरू की। पुलिस की कार्यप्रणाली से स्थानीय लोगों में गुस्सा है। गाड़ी मालिकों में खौफ है। यह पहली बार नहीं है कि जब शहर में गाड़ियों के शीशे तोड़े गए हैं । पहले भी इस तरह की वारदातें होती रहती है। लोगों का कहना है कि अगर पुलिस की गश्त सुचारू रहती तो यह घटना नहीं होती। पुलिस का दावा है कि इस घटना के पीछे नशेड़ियों का हाथ है। इनकी तलाश की जा रही है। आरोपियों के बारे में कुछ सुराग लगने का भी दावा किया जा रहा है और इनकी गिरफ्तारी जल्द करने की बात कह रही है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS