धर्मशाला का दूसरी राजधानी बनना केवल राजनीतिक दिखावा, क्षेत्रवाद के आधार पर हो रही राजधानी की सेल:गणेश दत

0
119
dharamshala-as-second-capital-of-himachal

शिमला- हिमाचल प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष धर्मशाला को दूसरी राजधानी बनने पर कहा कि मुख्यमंत्री ने धर्मशाला को दूसरी राजधानी का शगूफा छोड़ कर शिमला के महत्व को कम करने का प्रयास किया है। प्रदेश सरकार द्वारा जारी दूसरी राजधानी की अधिसूचना मात्र कागज का टुकड़ा रह जाएगा और वह नोटिफिकेशन अपनी जमीन में समा जाएगी।

भाजपा ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री की जिद के कारण उनकी पार्टी के लोग ही उनके निर्णय के खिलाफ मुखर हो गये हैं और कई पार्टी छोड़ने को तैयार बैठे हैं। सरकार के पास अपने दिन प्रतिदिन के खर्च चलाने के लिए पैसा नहीं है और सरकार कर्ज लेने की सीमा को भी पार कर चुकी है और ऐसे में नई राजधानी की घोषणा करना बेमानी है।

गणेश दत ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री की झूठी घोषणाओं पर अमल न करने से जनता में उनके प्रति अविश्वास की भावना पैदा हो गयी है और लोग अब उनकी घोषणाओं पर विश्वास नहीं कर रहे हैं। उन्होनें कहा कि दो दिन पूर्व राजधानी की घोषणा की जाती है, तीसरे दिन किसी कार्यालय के धर्मशाला शिफ्ट न किये जाने की बात की जाती है और किसी कर्मचारी को वहां न भेजे जाने की बात की जाती है। ऐसा लगता है कि नई राजधानी हवा में कार्य करेगी और हवाई हो जाएगी।

भाजपा उपाध्यक्ष का कहना है कि वर्तमान सरकार ने शिमला के साथ बहुत बड़ा अन्याय किया है। सबसे पहले 200 साल पुराने शहर को स्मार्ट सिटी से बाहर किया अब अंतर्राष्ट्रीय महत्व के शिमला शहर को उसके सामरिक महत्व को समाप्त करने के लिए दूसरी राजधानी का शोशा छोड़ा गया है। भाजपा ने कहा कि देश में जम्मू-कश्मीर को छोड़ कर कहीं भी दूसरी राजधानी नहीं है, केवल आगामी विधान सभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए क्षेत्रवाद के आधार पर राजधानी की सेल लगाने का प्रयास किया गया है।

भाजपा ने यह भी कहा कि अच्छा होता प्रदेश सरकार शिमला को स्मार्ट सीटी दिलाने के लिए केन्द्र के समक्ष अपना पक्ष रखती लेकिन सरकार स्मार्ट सीटी के बजाय लोगों का ध्यान भटकाने का प्रयास कर रही है। पार्टी उपाध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश सरकार योजनापूर्वक शिमला शहर के व्यापार को भी समाप्त करने में तुली हुई है। लक्कड़ बाजार बस अड्डे को ढली शिफ्ट करने की योजना के पीछे शिमला के व्यापारियों के व्यापार को समाप्त करने का कुचक्र रचा जा रहा है।

पार्टी ने कहा कि रिवोली बस स्टैण्ड पर पर्याप्त जगह है, जहां बस अड्डे का विस्तार किया जा सकता है लेकिन सरकार विस्तार करने की योजनाओं को तलाशने की जगह बस अड्डे को शिफ्ट करने की योजना बना रही है, जो उचित नहीं है। भाजपा का कहना है कि बस अड्डा अपने स्थान पर ही रहे और उसके विस्तार के लिये वर्तमान स्थान पर ही भूमि चयन की जाए।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS