गर्भावस्था के 70 दिनों के भीतर आंगनवाड़ी केंद्र में पेंजीकरण करवाना अनिवार्य

0
296
HP Anganbari Centers
Photo: NDTV/Representational

शिमला- महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा बचत भवन में ‘मुस्कान योजना’ के अंतर्गत जिला स्तरीय कार्यशाला के आयोजन मे शिमला के उपायुक्त रोहन चंद ठाकुर ने विभाग के अधिकारियो व कर्मचारियों से कहा कि आंगनवाड़ी स्तर पर प्रत्येक गर्भवती महिला का पंजीकरण 70 दिनों के भीतर करवाना सुनिश्चित करें।

पिछले 05 वर्षो का शिशु लिगांनुपात सर्वेक्षण पंचायत स्तर पर किया जाए व इस सर्वेक्षण के आधार पर लगातार घटती शिशु लिंगानुपात वाली पंचायतों को चिन्हित कर इस योजना के तहत सुधार लाने हेतु अभियान लाया जाएगा ताकि लिंगानुपात में सकारात्मक सुधार सुनिश्चित किया जा सके।

उपयुक्त ने बताया कि मुस्कान योजना के तहत आंगनवाड़ी स्तर पर भी पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, गर्भवती महिलाओं व उनके परिवार के सदस्यों की जागरूकता के लिए कार्यशालाएं आयोजित की जायेगी। उन्होंने यह भी कहा कि बालिका के जन्म पर बालिका जन्म महोत्सव का आयोजन किया जाएगा जिसमें बच्ची का वजन लेने, आधार कार्ड बनाने, मुख्यमंत्री द्वारा हस्ताक्षरित बधाई पत्र के साथ उपहार भी प्रदान किए जाएंगें। तथा खंड स्तर पर हर तीसरे महीने बालिका दिवस का आयोजन किया जाएगा।

हर महीने प्रत्येक बाल विकास परियोजना में शिक्षा, खेल, कला, साहसिक गतिविधि इत्यादि सामाजिक क्षेत्रों में विशिष्ट उपलब्धि रखने वाली बालिका को ‘महीने की एक मुस्कान’ के रूप में चिन्हित किया जायेगा। बालिकाओं व महिलाओं की उत्कृष्ट भागीदारी के लिए पत्रिका का प्रकाशन भी किया जाएगा।

इन बालिकाओं व महिलाओ के अलावा मुस्कान योजना के क्रियान्वयन में उत्कृष्ट भागीदारी के लिए सर्वोच्च आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, पर्यवेक्षिका, बाल विकास परियोजना अधिकारी व पंचायतों को विशेष सरकारी समारोहों में सम्मानित किया जाएगा। जिला में सार्वजनिक स्थलों में महिला शौचालयों का निर्माण प्राथमिकता के आधार पर किया जायेगा। जिले में महिलाओं को आर्थिक तौर पर स्वावलम्बी बनाने के लिए उन्हें ड्राईविंग, प्रुनिंग, इलैक्ट्रीशियन, मिस्त्री इत्यादि का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास शिमला ने बताया कि जिला शिमला में मुस्कान योजना के तहत कार्यशाला में कार्य योजना को अंतिम रूप दिया गया। विभिन्न कोर कमेटियों का गठन भी किया गया जो मुस्कान योजना का नियमित तौर पर अनुश्रवन करेगी। कार्यशाला में 11 बाल विकास परियोजना अधिकारियों व 69 पर्यवेक्षकों ने भाग लिया तथा खंड स्तर पर मुस्कान कार्य योजना को अंतिम रूप दिया।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS