Connect with us

Featured

डीएसपी (ट्रैफिक) द्वारा टैक्सी चालकों से की गयी मारपीट से गुस्साए लोगों के विरोध करने पे बरसी लाठियां:आरोप

Shimla Traffic Police-DSP-Amit-Thakur (1)

टैक्सी चालकों ने आरोप लगाया कि डीएसपी शराब के नशे में थे। पुलिस अधीक्षक ने डीएसपी ट्रैफिक को पद से हटाने के लिए सरकार को पत्र लिखा है।

शिमला- राजधानी शिमला में बुधवार रात डीएसपी (ट्रैफिक)द्वारा टैक्सी चालकों से की गयी मारपीट के मामले ने तूल पकड़ ली है! पुलिस ने हालात पर काबू पाने के लिए गुस्सायी गुस्सायी भीड़, टैक्सी चालकों व आम जनता पर लाठीचार्ज किया जिससे टैक्सी चालक व स्थानीय लोग घायल हो गए। पुलिस ने क्रास मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। वहीं, पुलिस अधीक्षक ने डीएसपी ट्रैफिक को पद से हटाने के लिए सरकार को पत्र लिखा है।

डीएसपी (ट्रैफिक) अमित ठाकुर बुधवार रात सवा नौ बजे चेकिंग के दौरान यहां गुरुद्वारे के सामने से गुजर रहे थे। वहां कुछ टैक्सियां सड़क किनारे बेतरतीब तरीके से खड़ी की गई थीं।

अमित ठाकुर ने वहां से टैक्सियां हटाने के लिए कहा। टैक्सी (एचपी 01 एम 0865) के चालक अमित ने वहां से वाहन हटाने से मना कर दिया। अमित के साथ टैक्सी चालक पवन भी वहां था। दोनों टैक्सी चालकों की काफी देर तक डीएसपी के साथ कहासुनी होती रही। डीएसपी ने दोनों चालकों को पीटना शुरू कर दिया। देखते ही देखते स्थानीय सभी टैक्सी चालक एकजुट होकर डीएसपी के साथ हाथापाई की। डीएसपी के ड्राइवर द्वारा पुलिस को सूचना देने पर मौके पर त्वरित कार्रवाई दल (क्यूआरटी) पहुंच गया।

क्यूआरटी ने स्थानीय लोगों के साथ टैक्सी चालकों पर भी लाठीचार्ज किया। इसके बाद डीएसपी को ट्रैफिक कंट्रोल रूम ले जाया गया!
गुस्सायी भीड़ ने डीएसपी से माफी मांगने की मांग कर बाहर बुलाया। जब डीएसपी बाहर आए तो उन्होंने टैक्सी चालकों से उलझना शुरू कर दिया। करीब डेढ़ घंटे तक यह विवाद चलता रहा। सदर के एसएचओ चंद्रशेखर सहित अन्य पुलिस कर्मी कड़ी मशक्कत के बाद डीएसपी को आइजीएमसी में उपचार के लिए ले गए। घायल टैक्सी चालकों को भी आइजीएमसी ले जाया गया।

डीएसपी पर नशे में होने का आरोप

टैक्सी चालकों ने आरोप लगाया कि डीएसपी शराब के नशे में थे। पुलिस ने दोनों पक्षों के घायल लोगों का मेडिकल करवाया। मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक कोई भी शराब के नशे में नहीं पाया गया। अब इस मामले जल्द गिरफ्तारियां हो सकती हैं।

क्यूआरटी ने स्थानीय लोगों के साथ टैक्सी चालकों पर भी लाठीचार्ज किया। इसके बाद डीएसपी को ट्रैफिक कंट्रोल रूम ले जाया गया। गुस्साए टैक्सी चालकों ने डीएसपी से माफी मांगने की मांग कर बाहर बुलाया। जब डीएसपी बाहर आए तो उन्होंने टैक्सी चालकों से उलझना शुरू कर दिया।

डीसी ने दिए जांच के आदेश

उपायुक्त रोहन चंद ठाकुर ने मामले की जांच के आदेश जारी कर दिए हैं। एसडीएम शहरी इस मामले की पूरी जांच रिपोर्ट तैयार कर उपायुक्त को सौंपेगे। इसके बाद ही कार्रवाई की जाएगी।

हो रही है जांच

दोनों ओर से एफआइआर दर्ज कर ली गई है। सरकार को पत्र लिखा गया है कि डीएसपी अमित को पद से हटाया जाए। फिलहाल मामले की जांच चल रही है।

डीडब्लयू नेगी, पुलिस अधीक्षक

बदतमीजी कर फाड़ दी वर्दी

मैं चेकिंग के दौरान था। मैंने टैक्सी चालकों को टैक्सी हटाने के लिए कहा लेकिन उन्होंने बदतमीजी शुरू कर दी। इसके बाद वे मुझसे मारपीट करने लगे। यहां तक कि मेरी वर्दी भी फाड़ दी। मौके पर मैं और मेरा ड्राइवर ही था।

अमित ठाकुर, डीएसपी ट्रैफिक

Photo: Newspaper Cutting/Jagran/TNS

Advertisement

Featured

सुप्रीम कोर्ट के लताड़ के बाद केंद्र सरकार की टीकाकरण नीति में बदलाव, 18-44 साल तक के लोगों को फ्री मिलेगी वैक्सीन

new vaccine policy

नई दिल्ली –केंद्र सरकार ने यह घोषणा की है कि राज्यों के जिम्मे जो 25 प्रतिशत टीकाकरण था, उसे अब केंद्र सरकार द्वारा करवाया जायेगा। इस निर्णय को दो सप्ताह में अमल में ला दिया जाएगा।

केंद्र सरकार ने ये भी घोषणा की है कि आगामी 21 जून से 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को मुफ्त टीका प्रदान किया जायेगा।  यह निर्णय सुप्रीम कोर्ट द्वारा सरकार की निति को लेकर पड़ी फटकार के बाद आया है , और इसके लिए सर्वोच्चा निरयला की प्रशंशा भी की जा रही है।

बीते हफ़्ते सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र द्वारा इसी आयु वर्ग के टीकों के लिए राज्यों व निजी अस्पतालों को लोगों से शुल्क वसूलने की अनुमति देने को लेकर सवाल उठाए थे। न्यायालय ने कहा था कि राज्यों और निजी अस्पतालों को 18-44 साल के लोगों से टीके के लिए शुल्क वसूलने की अनुमति देना पहली नजर में ‘मनमाना और अतार्किक’है। न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने उदारीकृत टीकाकरण नीति और केंद्र, राज्यों और निजी अस्पतालों के लिए अलग-अलग कीमतों को लेकर केंद्र सरकार से कुछ तल्ख सवाल पूछे थे। शीर्ष अदालत देश में कोविड-19 के प्रबंधन पर स्वत: संज्ञान लिए गए एक मामले पर सुनवाई कर रही है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि माजूदा पालिसी के कारण नागरिकों के संवैधानिक अधिकारों का हनन हो तो अदालतें मूकदर्शक बनी हुई नहीं रह सकत।

केंद्र सरकार ने बताया कि 75% टीकाकरण मुफ्त होगा और केंद्र के तहत, 25% का भुगतान केंद्र करेगा। ये टीका निजी अस्पतालों में लगाया जाएगा।राज्य सरकारें इस बात की निगरानी करेंगी कि निजी अस्पतालों द्वारा टीकों की निर्धारित कीमत पर केवल 150 रुपये का सर्विस चार्ज लिया जाए।

केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को दीपावली तक बढ़ाने का निर्णय लिया है। नवंबर महीने तक, 80 करोड़ लोगों को हर महीने निर्धारित मात्रा में मुफ्त अनाज मिलता रहेगा।

केंद्र सरकार ने कहा कि यह भी कहा कि 2014 में देश में टीकाकरण की कवरेज 60 फीसदी थी, लेकिन पिछले पांच-छह वर्षों में इसे बढ़ाकर 90 प्रतिशत कर दिया गया है।

लेकिन प्रधानमंत्री ने फ़ज़ीहत से बचने के प्रयास में अपनी पहले कि पालिसी के लिए राज्य सरकारों को कसूरवार ठहरा दिय।

“ज्योंहि कोरोना के मामले घटने लगे, राज्यों के लिए विकल्प की कमी को लेकर सवाल उठने लगे और कुछ लोगों ने सवाल किया कि केन्द्र सरकार सब कुछ क्यों तय कर रही है। लॉकडाउन में लचीलापन और सभी पर एक ही तरह की बात लागू नहीं होती के तर्क को आगे बढ़ाया गया। 16 जनवरी से अप्रैल के अंत तक भारत का टीकाकरण कार्यक्रम ज्यादातर केन्द्र सरकार के अधीन चलाया गया। सभी के लिए नि:शुल्क टीकाकरण का काम आगे बढ़ रहा था और लोग अपनी बारी आने पर टीकाकरण कराने में अनुशासन दिखा रहे थे। इन सबके बीच टीकाकरण के विकेंद्रीकरण की मांग उठाई गई और कुछ आयु वर्ग के लोगों को प्राथमिकता देने के निर्णय की बात उठाई गई। कई तरह के दबाव डाले गए और मीडिया के कुछ हिस्से ने इसे अभियान के रूप में चलाया,” प्रधान मंत्री ने अपने बचाव में तर्क दिय।

 

Continue Reading

Featured

राज्य सरकार के पास वैक्सीन की कमी तो निजी अस्पतालों के पास कहाँ से आ रही सप्लाई?

discrimination in vaccination

शिमला- सरकार द्वारा 18 से 44 वर्ष के लिये लागू की गयी वैक्सीनेशन की नीति निंदा का विषय बन गयी है और इसे पूर्णतः भेदभावपूर्ण व असंवैधानिक करार दिया जा रहा हैI हाल ही में सरकार द्वारा युवा वर्ग के लिए जो ऑनलाइन बुकिंग के आधार पर थोड़ी बहुत वैक्सीनशन की जा रही थी वह भी सरकार के अनुसार अब वैक्सीन उपलब्ध न होने के कारण बन्द कर दी गई है। वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन को अनिवार्य करना ही अपने आप में एक बहुत बड़ी समस्या है, खासकर प्रदेश के दूर दराज़ इलाको में रहने वाले लोगों के लिए जो इंटरनेट की सेवा से वंचित हैंI

सुप्रीम कोर्ट ने अभी सरकार कि इस निति से असंतुष्टि जताई है।

याद रहे कि अभी सरकार 50:25:25 के अनुपात में वैक्सीन कि सप्लाई कर रही हैI इसका मतलब है कि कुल उत्पादन का 50 प्रतिशत हिस्सा केंद्र सरकार के पास रहेगा जबकि 25 – 25 प्रतिशत राज्यों और निजी हॉस्पिटलों को मुहया करवाया जायेगा

शिमला के पूर्व मेयर एवं कम्युनिस्ट पार्टी के नेता, संजय चौहान, ने सरकार द्वारा देश व प्रदेश में लागू की जा रही वैक्सीनशन नीति को लचर व भेदभावपूर्ण बताते हुए कड़ी भर्त्सना की है और सरकार से मांग की है कि इस कोविड-19 महामारी में समय पर रोकथाम हेतु 18 वर्ष की आयु से ऊपर सभी का समयबद्ध तरीके से नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर मुफ़्त वैक्सीनशन कर अपने संवैधानिक दायित्व का निर्वहन करे।

चौहान ने कहा कि देश व प्रदेश में महंगी दरों पर निजी अस्पतालों व अन्य संस्थानों को युवा वर्ग की वैक्सीनशन की इजाज़त देकर आरम्भ किया गया है। यह बिल्कुल भेदभावपूर्ण व असंवैधानिक है क्योंकि भारत के संविधान की धारा 21 सभी को जीवन व धारा 14 सभी को बराबरी का अधिकार प्रदान किया गया है। इसलिए देश मे सभी युवा, वृद्ध, बच्चों, गरीब, अमीर व हर वर्ग के लोगों के जीवन की रक्षा करना सरकार का संवैधानिक दायित्व है। चौहान ने कहा कि सरकार की वैक्सीनशन को लेकर लागू नीति व कार्यप्रणाली यहां भी संदेह में आती है क्योंकि प्रदेश सरकार के अनुसार उनको वैक्सीन नहीं मिल रही है इसलिए 18 से 44 आयु वर्ग की वैक्सीनशन नहीं की जा रही है

चौहान ने पुछा है कि इन निजी अस्पतालों व संस्थानों के पास वैक्सीन कहाँ से आ रही है। चौहान ने आरोप लगया है कि सरकार का यह निर्णय स्पष्ट रूप से इन निजी अस्पतालों व संस्थानों को लाभ पहुंचाने का है और इससे कोविड-19 से पैदा हुए संकट से जूझ रहे गरीब व दूरदराज के लोग वैक्सीन से वंचित रह रहे है।

केन्द्र सरकार का कहना है कि देश में वैक्सीन की कमी नहीं होने दी जाएगी जबकि दूसरी ओर आज अधिकांश राज्य सरकारें वैक्सीन की कमी बता रही है और कह रही है कि वो जितनी वैक्सीन की मांग कर रही है उन्हें केन्द्र सरकार उतनी वैक्सीन उपलब्ध नहीं करवा रही है। जिससे सरकार को आज 18 से 44 आयु वर्ग को वैक्सीन लगाना सम्भव नहीं हो रहा है।

चौहान ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा राज्यों को समय और मांग अनुसार वैक्सीन उपलब्ध न करवाना भी हमारे देश के संवैधानिक संघीय ढांचे पर चोट है। इसलिए सरकार की वक्सीनेशन नीति मनमानी व तर्कहीन है, जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने भी सुनवाई के दौरान अपने एक आदेश में केन्द्र सरकार को लताड़ लगाई है। चौहान ने मांग की है कि इसमे सरकार तुरन्त बदलाव करे और वक्सीनेशन को मुफ़्त सार्वभौमिक कर सभी को सरकार उपलब्ध करवाए।

चौहान ने कहा कि कोविड-19 महामारी से देश व प्रदेश में लाखों लोग प्रभावित है और कई मौते हुई है। उन्होंने आरोप लगाया कि इन मौतों के लिए जिम्मेदार मुख्यतः सरकार की कोविड-19 से निपटने के लिए की गई लचर नीति व आधी अधूरी तैयारी रही है।

उनका कहना है कि सरकार द्वारा उचित रूप में टेस्टिंग न करना व देश में ऑक्सिजन व अन्य मूलभूत स्वास्थ्य सेवाओं की कमी तथा देश मे समय रहते वक्सीनेशन न करने के कारण अधिकांश मौते हुई है। आज दुनिया में इस कोविड-19 महामारी पर काबू पाने हेतु वैक्सीनशन ही एकमात्र चारा है।

Continue Reading

Featured

भाजपा विधायक एवं पूर्व मंत्री नरेंद्र बरागटा का निधन, पार्टी के नेताओं नें दी श्रद्धांजलि

narinder bragta

शिमला- शिमला जिले के जुब्बल-कोटखाई विधानसभा क्षेत्र के विधायक एवं पूर्व मंत्री नरेंद्र बरागटा का आज सुबह निधन हो गया। नरेंद्र बरागटा के बेटे चेतन ने ट्वीट कर ये जानकारी दी। बरागटा पीजीआई चंडीगढ़ में भर्ती थे। बरागटा प्रदेश सरकार में मुख्य सचेतक भी थे।

बरागटा कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद पोस्ट कोविड अफेक्ट से जूझ रहे थे। वो 20-25 दिनों से पीजीआई में भर्ती थे। उनकी दूसरी बीमारी डायग्नोज नहीं हो पा रही थी और उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी।  निधन के बाद उनका शव चंडीगढ़ स्थित हिमाचल भवन लाया गया। उनका अंतिम संस्कार रविवार को पैतृक गांव तहटोली में होगा। आज उनकी पार्थिव देह कोटखाई में अंतिम दर्शन के लिए रखी जाएगी।

नरेंद्र बरागटा का जन्म 15 सितंबर 1952 को घर गांव टहटोली तहसील कोटखाई जिला शिमला में हुआ था। उनके दो पुत्र चेतन बरागटा व ध्रुव बरागटा हैं।

बरागटा 1969 में डीएवी स्कूल शिमला में छात्र संसद के महासचिव बने  तथा 1971 में एसडीबी कॉलेज शिमला के केंद्रीय छात्र संघ के उपाध्यक्ष चुने गए।

नरेंद्र बरागटा 1978 से लेकर 1982 तक भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष रहे । 1983 से लेकर 1988 तक जिला शिमला भारतीय जनता पार्टी के महामंत्री रहे।

1993 से लेकर 1998 तक भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रहे।

नरेन्द्र बरागटा वर्ष 1998 में शिमला विधानसभा क्षेत्र से हिमाचल प्रदेश विधानसभा के लिए चुने गए और प्रदेश में भाजपा नेतृत्व की सरकार में बागवानी राज्य मंत्री बने।वर्ष 2007 में वह पुनः जुब्बल-कोटखाई विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा के लिए चुने गए और भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाए गए।

नरेन्द्र बरागटा वर्ष 2017 में फिर विधानसभा के लिए चुने गए और मुख्य सचेतक बनाए गए। वर्तमान में वह जुब्बल-कोटखाई विधानसभा क्षेत्र से विधायक व सरकार में मुख्य सचेतक के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे थे ।

मुखयमंत्री जयराम ठाकुर,जगत प्रकाश नड्डा,सुरेश कश्यप,अनुराग ठाकुर ने नरेंद्र बरागटा को श्रद्धांजलि दी।और दुःख व्यक्त किया।

Continue Reading

Featured

hp cabinet decision september 24, 2021 hp cabinet decision september 24, 2021
एच डब्ल्यू कम्युनिटी2 days ago

हि.प्र. मंत्रिमण्डल के निर्णय: 27 तारीख से खुलेंगे स्कूल, शिक्षा विभाग में भरे जायेंगे 8000 पद

शिमला– प्रदेश मंत्रीमंडल की बैठक शुक्रवार 24 सितम्बर को आयोजित हुई जिसमे स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रदेश में वर्तमान कोविड-19 स्थिति...

hp govt dearness allowance for ias officers hp govt dearness allowance for ias officers
अन्य खबरे3 days ago

प्रदेश में कार्यरत अखिल भारतीय सेवा कैडर (AISC) अधिकारियों को मिलेगा 11% महंगाई भत्ता

शिमला- हिमाचल प्रदेश के वित् विभाग ने कार्यालय आदेश जारी किया है जिसके अनुसार अखिल भारतीय सेवा कैडर के अधिकारियों...

heavy rain in himachal pradesh heavy rain in himachal pradesh
अन्य खबरे3 days ago

हिमाचल में दो दिनों से हो रही भारी बारिश, 26 सितम्बर तक खराब रहेगा मौसम

शिमला– प्रदेश में पिछले दो दिनों से लगातार बारिश हो रही है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने सोलन,शिमला और सिरमौर...

शिमला3 days ago

आईजीएमसी में शुरू हुई 24×7 अत्याधुनिक परीक्षण प्रयोगशाला,अब मरीजों को नहीं करना पड़ेगा टेस्ट रिपोर्ट के लिए लम्बा इंतजार

शिमला– हिमाचल प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल आईजीएमसी (IGMC) में सभी डाइयग्नॉस्टिक क्षमताओं वाले अत्याधुनिक परीक्षण प्रयोगशाला की स्थापना की...

himachal pradesh state teacher union himachal pradesh state teacher union
अन्य खबरे5 days ago

अध्यापक संघ की अपनी मांगों को लेकर राज्य स्तरीय बैठक, पढ़ें संघ की मुख्य मांगे

काँगड़ा– हिमाचल प्रदेश राजकीय अध्यापक संघ की राज्य स्तरीय बैठक राज्य प्रधान नरेश महाजन की अध्यक्षता में सोमवार को कांगड़ा...

UHF Nauni RAWE programme 1 UHF Nauni RAWE programme 1
कैम्पस वॉच6 days ago

पहाड़ी खेती की बारीकियां जानने के लिए नौणी विवि के 51 बागवानी छात्र करेंगे किसानों के साथ काम

सोलन– किसानों की सामाजिक-आर्थिक परिस्थितियों और उनके द्वारा अपनाई जाने वाली कृषि तकनीकों से छात्रों को परिचित करवाने के उद्देश्य...

Solan-Nauni-varsity-admissions-for-diploma-2021 Solan-Nauni-varsity-admissions-for-diploma-2021
कैम्पस वॉच2 weeks ago

नौणी विवि में फ्रूटस एंड वेजीटेबल प्रोसेसिंग एवं बेकरी प्रोडक्टस डिप्लोमा करने का सुनहरा अवसर

सोलन– डॉ वाईएस परमार औदयानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी में फ्रूटस एंड वेजीटेबल प्रोसेसिंग एवं बेकरी प्रोडक्टस पर आधारित एक...

igmc shimla igmc shimla
अन्य खबरे2 weeks ago

आईजीएमसी में चंद लोगों को फायदा पहुँचाने के लिए कैंटीन से लेकर सभी प्रकार के टेस्ट करने के कार्य निजी हाथों में: सीपीआईएम

शिमला-प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल आईजीएमसी (IGMC) प्रशासन ने जिस तरीके से वहां पर चल रहे लंगर को अवैध घोषित...

state library shimla state library shimla
अन्य खबरे3 weeks ago

शिमला के ऐतिहासिक राज्य पुस्तकालय की जगह बुक कैफे खाेलने के प्रस्ताव का विरोध

शिमला– शिमला नगर निगम हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के ऐतिहासिक रिज मैदान पर स्थित ऐतिहासिक राज्य पुस्तकालय को तोड़...

igmc langar almighty blesings igmc langar almighty blesings
अन्य खबरे3 weeks ago

सरबजीत सिंह बॉबी की संस्था पर आईजीएमसी प्रशासन ने लगाया बिजली,पानी चोरी और अराजकता फ़ैलाने का आरोप

शिमला– शिमला के आईजीएमसी (IGMC) हॉस्पिटल में ऑलमाइटी ब्लेसिंग्स (Almighty Blesings) संस्था द्वारा चलाए जाने वाले लंगर को लेकर हुए...

Popular posts

Trending