डीएसपी (ट्रैफिक) द्वारा टैक्सी चालकों से की गयी मारपीट से गुस्साए लोगों के विरोध करने पे बरसी लाठियां:आरोप

4
5077

टैक्सी चालकों ने आरोप लगाया कि डीएसपी शराब के नशे में थे। पुलिस अधीक्षक ने डीएसपी ट्रैफिक को पद से हटाने के लिए सरकार को पत्र लिखा है।

शिमला- राजधानी शिमला में बुधवार रात डीएसपी (ट्रैफिक)द्वारा टैक्सी चालकों से की गयी मारपीट के मामले ने तूल पकड़ ली है! पुलिस ने हालात पर काबू पाने के लिए गुस्सायी गुस्सायी भीड़, टैक्सी चालकों व आम जनता पर लाठीचार्ज किया जिससे टैक्सी चालक व स्थानीय लोग घायल हो गए। पुलिस ने क्रास मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। वहीं, पुलिस अधीक्षक ने डीएसपी ट्रैफिक को पद से हटाने के लिए सरकार को पत्र लिखा है।

डीएसपी (ट्रैफिक) अमित ठाकुर बुधवार रात सवा नौ बजे चेकिंग के दौरान यहां गुरुद्वारे के सामने से गुजर रहे थे। वहां कुछ टैक्सियां सड़क किनारे बेतरतीब तरीके से खड़ी की गई थीं।

अमित ठाकुर ने वहां से टैक्सियां हटाने के लिए कहा। टैक्सी (एचपी 01 एम 0865) के चालक अमित ने वहां से वाहन हटाने से मना कर दिया। अमित के साथ टैक्सी चालक पवन भी वहां था। दोनों टैक्सी चालकों की काफी देर तक डीएसपी के साथ कहासुनी होती रही। डीएसपी ने दोनों चालकों को पीटना शुरू कर दिया। देखते ही देखते स्थानीय सभी टैक्सी चालक एकजुट होकर डीएसपी के साथ हाथापाई की। डीएसपी के ड्राइवर द्वारा पुलिस को सूचना देने पर मौके पर त्वरित कार्रवाई दल (क्यूआरटी) पहुंच गया।

क्यूआरटी ने स्थानीय लोगों के साथ टैक्सी चालकों पर भी लाठीचार्ज किया। इसके बाद डीएसपी को ट्रैफिक कंट्रोल रूम ले जाया गया!
गुस्सायी भीड़ ने डीएसपी से माफी मांगने की मांग कर बाहर बुलाया। जब डीएसपी बाहर आए तो उन्होंने टैक्सी चालकों से उलझना शुरू कर दिया। करीब डेढ़ घंटे तक यह विवाद चलता रहा। सदर के एसएचओ चंद्रशेखर सहित अन्य पुलिस कर्मी कड़ी मशक्कत के बाद डीएसपी को आइजीएमसी में उपचार के लिए ले गए। घायल टैक्सी चालकों को भी आइजीएमसी ले जाया गया।

डीएसपी पर नशे में होने का आरोप

टैक्सी चालकों ने आरोप लगाया कि डीएसपी शराब के नशे में थे। पुलिस ने दोनों पक्षों के घायल लोगों का मेडिकल करवाया। मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक कोई भी शराब के नशे में नहीं पाया गया। अब इस मामले जल्द गिरफ्तारियां हो सकती हैं।

क्यूआरटी ने स्थानीय लोगों के साथ टैक्सी चालकों पर भी लाठीचार्ज किया। इसके बाद डीएसपी को ट्रैफिक कंट्रोल रूम ले जाया गया। गुस्साए टैक्सी चालकों ने डीएसपी से माफी मांगने की मांग कर बाहर बुलाया। जब डीएसपी बाहर आए तो उन्होंने टैक्सी चालकों से उलझना शुरू कर दिया।

डीसी ने दिए जांच के आदेश

उपायुक्त रोहन चंद ठाकुर ने मामले की जांच के आदेश जारी कर दिए हैं। एसडीएम शहरी इस मामले की पूरी जांच रिपोर्ट तैयार कर उपायुक्त को सौंपेगे। इसके बाद ही कार्रवाई की जाएगी।

हो रही है जांच

दोनों ओर से एफआइआर दर्ज कर ली गई है। सरकार को पत्र लिखा गया है कि डीएसपी अमित को पद से हटाया जाए। फिलहाल मामले की जांच चल रही है।

डीडब्लयू नेगी, पुलिस अधीक्षक

बदतमीजी कर फाड़ दी वर्दी

मैं चेकिंग के दौरान था। मैंने टैक्सी चालकों को टैक्सी हटाने के लिए कहा लेकिन उन्होंने बदतमीजी शुरू कर दी। इसके बाद वे मुझसे मारपीट करने लगे। यहां तक कि मेरी वर्दी भी फाड़ दी। मौके पर मैं और मेरा ड्राइवर ही था।

अमित ठाकुर, डीएसपी ट्रैफिक

Photo: Newspaper Cutting/Jagran/TNS

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

4 COMMENTS

Comments are closed.