ढांडा में पेयजल व्यवस्था हुई अस्त-व्यस्त, लोग पानी खरीदकर पीने को हुए मजबूर

0
270

शिमला- ढांडा में पेयजल व्यवस्था अस्त-व्यस्त होने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लोग खरीदकर पानी पीने को मजबूर हैं। यहां कुछ दिन से पानी नियमित रूप से नहीं आ रहा है, जिस कारण लोगों को दैनिक जरूरतों के लिए भी पानी नहीं मिल पा रहा है। ढांडा में पानी के लिए लोगों को नलों पर ही आश्रित रहना पड़ता है। कोई भी अन्य स्रोत नहीं है, जिससे लोग पानी की आवश्यकता को पूरा कर सकें। इस कारण लोग सुबह ही पानी की तलाश में यहां-वहां घूमते देखे जा सकते हैं। ढांडा में बहुत से विद्यार्थी भी किराये के कमरों में रहते हैं उन्हें कीमती समय पानी की तलाश में गंवाना पड़ रहा है। इससे उनकी पढ़ाई पर भी असर पड़ रहा है।

यहां चार दिन बाद मात्र 20 मिनट के लिए पानी आ रहा है, जिससे एक बाल्टी भी नहीं भर पाती है। शिमला में जल संकट विकराल रूप ले चुका है, जिसके कारण शहर की अधिकांश जगहों में लोगों को पेयजल संकट का सामना करना पड़ रहा है। पीलिया के कारण पैदा हुए जल संकट से अभी तक निजात नहीं मिल रही है।

10 दिन से सही ढंग से नहीं हो रही आपूर्ति

दस दिन से पानी की आपूर्ति सही ढंग से नहीं हो रही है। यह निर्धारित नहीं होता कि पानी कब आएगा। प्रतिदिन पानी की चिंता बनी रहती है। जो समय पढ़ाई करने का होता है, उसमें पानी के लिए भटकना पड़ता है।
मनीष

चार दिन बाद आ रहा पानी

सुबह ही पानी के लिए भटकना पड़ता है। पानी चार दिन बाद आ रहा है। सुबह पानी के लिए इधर-उधर भटकने के कारण लाइब्रेरी पहुंचने के लिए देरी हो जाती है।
नवदीप

पानी के चक्कर कार्यस्थलों पर पहुंचने में हो रही देरी

पानी चार दिन बाद आता है वो भी सिर्फ 20 मिनट के लिए, जिसके कारण पानी की समस्या बनी रहती है। अपने कार्यस्थलों के लिए जाने के लिए देरी हो जाती है।
शशि मेहरा

चार दिन बाद भी नहीं मिल रहा एक बाल्टी पानी

पानी की समस्या बहुत बढ़ गई है। चार दिन बाद 20 मिनट के लिए पानी आता है। एक ही नल से सात परिवार पानी भरते हैं, जिसके कारण एक ही बाल्टी पानी मिलता है।
चेत राम

पेयजल आपूर्ति न के बराबर

पानी नियमित रूप से नहीं आ रहा है। पानी की आपूर्ति न के बराबर हो गई है। 20 मिनट पानी आने से किसी के लिए भी पूरा नहीं हो पाता है। एक ही नल से बहुत से परिवार पानी भरते हैं, जिसके कारण पानी पूरा नहीं हो पाता है।
राज

कुछ दिन से गहराई पानी की समस्या

पानी की समस्या बढ़ती जा रही है। कुछ दिन से पानी के आने का समय ही निर्धारित नहीं है। जब पानी आता भी है तो बहुत ही कम समय के लिए।
पुष्पेंदर

Photo: Representational

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS