पांवटा साहिब के इंदोली स्कूल मे विध्यार्थी 44 लेकिन आधायपक सिर्फ 1, सरकार ने उसका भी कर दिया तबादला

0
271

शिमला- शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी राज्य होने का दम भरने वाले हिमाचल के धरातलीय आंकड़े कुछ और ही बयां कर रहे हैं। इसकी बानगी गिरिपार क्षेत्र में देखने को मिल रही है, जहां पर न तो पूरा स्टाफ है और न ही मजबूत आधारभूत संरचना। कफोटा कलस्टर के अधीन आने वाला मिडल स्कूल इंदोली इस समय बिना शिक्षक के चल रहा है। सड़क से करीब 7 किलोमीटर दूर इस स्कूल में 44 बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं, जिनको एक ही शिक्षक पढ़ा रहा था। हाल ही में सरकार ने उसका भी तबादला कर दिया, जिसके बाद से यह स्कूल शिक्षक विहीन हो गया है।

आजकल स्कूलों में वार्षिक परीक्षाएं चल रही हैं, जिन्हें आयोजित करवाने के लिए शिक्षा विभाग कफोटा से प्रतिनियुक्ति पर एक शिक्षक भेज रहा है, जो नाकाफी है। ग्रामीणों का कहना है कि स्कूल में छात्रों की संख्या 100 के पार हो सकती है। शिक्षकों की कमी के चलते बच्चे इस स्कूल में दाखिला न लेकर 7 किलोमीटर की चढ़ाई चढ़कर कफोटा जा रहे हैं, जिनकी सारी ऊर्जा चढ़ाई चढ़ने में व्यर्थ हो जाती है। उधर, राजनेताओं का भी रवैया चुनाव तक सिमट कर रह गया है। ऐसे कार्यों को करवाने के लिए कोई नेता आगे नहीं आता, जिसके चलते जनता का उनसे मोहभंग हो रहा है। ग्रामीणों ने सरकार से मांग की है कि इस स्कूल में शिक्षक तैनात किया जाए, नहीं तो इसे बंद कर दिया जाए।

Credit:Punjab Kesari/Image Credit:Shutter Stock

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS