सैलानियों से मारपीट पर बुरे फंसे पुलिस कर्मचारी

0
395

शिमला- शहर के सर्कुलर रोड पर विक्ट्री के पाल सैलानियों के साथ मारपीट मामले में तीन पुलिस कर्मचारियों पर गाज गिरना तय माना जा रहा है। सोशल मीडिया पर मारपीट की यह वीडियो किसी ने अपलोड कर दी थी। इसमें वर्दीधारी सैलानियों के साथ मारपीट करते नजर आ रहे थे।

मामला सामना आने के बाद पुलिस ने जांच के आदेश दिए। जांच अफसर ने रिपोर्ट पुलिस अधीक्षक को सौंप दी है। इसमें तीन पुलिस कर्मचारियों के रवैये को गलत ठहराया गया है। पुलिस के अलावा अलग से मजिस्ट्रेट जांच भी हुई है। इसकी रिपोर्ट उपायुक्त को सौंपी गई है।

जांच में पाया गया कि सैलानी कार में शिमला से लौट रहे थे। विक्ट्री टनल के पास गाड़ियां रूकी हुई थी। सैलानियों ने ट्रैफिक रूल को तोड़ा और वह आगे बढ़ी। इस पर मौके पर खड़े पुलिस के ड्यूटी अफसर ने कार को रोका और उसे साइड में लगाने के लिए कहा। सैलानियों ने कार को सड़क के एक किनारे खड़ा किया।

जैसे ही ट्रैफिक क्लीयर हुआ सैलानी वहां से ट्रैफिक पुलिस को नजर अंदाज कर कार लेकर निकलने लगा। इसी दौरान पुलिस की गाड़ी से उसकी कार को टक्कर लग गई और उसे मजबूरी में कार को रोकना पड़ा। जांच में सामने आया है कि यहां तक सब ठीक था।

सैलानी ही ट्रैफिक नियम तोड़ते नजर आ रहे थे लेकिन इसके बाद मौके पर मौजूद पुलिस कर्मचारियों ने उनके साथ जो हाथापाई की है यह कानून के खिलाफ है। जांच रिपोर्ट में पुलिस की गाड़ी के ड्राइवर , एचसीसी और कांस्टेबल के खिलाफ आगामी कार्रवाई करने के बारे में लिखा गया है। उधर, जिला प्रशासन ने इस पूरे मामले की इंक्वायारी करने के आदेश दिए थे। इसमें एसडीएम शहरी को जांच अफसर नियुक्त किया गया उन्होंने भी अपनी रिपोर्ट उपायुक्त को सौंप दी है।

मुसाफिर ने बनाया वीडियो- जब यह वारदात हुई उस समय विक्ट्री टनल पर ट्रैफिक जाम लग गया। एक बस में बैठे किसी जागरूक व्यक्ति ने वीडियो बना दिया और सोशल मीडिया में सर्कुलेट कर पुलिस की मुश्किलें बढ़ा दी।

फैक्स से भेजे सैलानियों ने बयान- इस मामले में सैलानियों ने पुलिस के समक्ष बयान दर्ज करने में असमर्थता जताई। जब पुलिस ने उनके बयान लेने चाहे तो उन्होंने कहा कि उस दिन की घटना पर बयान वह फैक्स से भेजेंगे। बयान मिल जाने के बाद पुलिस ने मामले को आगे बढ़ाया। उपायुक्त दिनेश मल्होत्रा ने कहा कि रिपोर्ट आ चुकी है। इसमें दोषी पाए गए व्यक्तियों के खिलाफ कानून के तहत कार्रवाई की जा रही है।

एसपी को सौंप दी है रिपोर्ट- एएसपी (ग्रामीण) संदीप धवल ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं कि सैलानियों ने भी ट्रैफिक नियम तोड़े लेकिन जिन तीन पुलिस कर्मचारियों पर मारपीट के आरोप है वह वीडियो में सामने दिख रहे हैं। इन तीनों कर्मचारियों को भी सैलानियों के साथ हाथापाई नहीं करनी चाहिए थी। इस बारे में रिपोर्ट एसपी को सौंप दी गई है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS