Connect with us

इको टूरिज्म

राज्य पर्यटन विकास निगम की हिमाचल पर्यटन को बढ़ावा देने की पहल

himachal-tourism-shimla

himachal-tourism-shimla

“हिमाचल प्रदेश के प्राकृतिक सौंदर्य , कला, संस्कृति एवं आतिथ्य को सभी तक पंहुचाने तथा प्रदेश में और अधिक पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम ने अन्य राज्यों के पर्यटन विकास निगमों तथा प्रसिद्ध होटल श्रंृखलाओं के साथ आपसी सहयोग का निर्णय लिया है, इस कार्य के लिये विभिन्न निगमों के साथ समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किए जाएंगे और एक.दूसरे की परिसंपत्तियों का विक्रय भी किया जाएगा”

हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के प्रबन्धक निदेशक सुभाशीष पांडा ने यह आज यहां यह जानकारी दी कि निगम ने एक दूसरे की पर्यटन से संबंधित गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए मध्य प्रदेश पर्यटन विकास निगम, गुजरात पर्यटन विकास निगम, पश्चिमी बंगाल पर्यटन विकास निगम, ओडि़शा पर्यटन विकास निगम, कर्नाटक तथा आंध्र प्रदेश पर्यटन विकास निगमों के साथ मामला उठाया है। इसके अतिरिक्त, ताज होटल गु्रप, रिजाॅर्ट्स एवं पैलेसिज़, ओबराय होटल एंड रिजाॅर्ट्स ग्रुप,आईटीसी लिमिटेड ;मौर्य शैर्टनद्ध होटल डिवीज़न को हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम ने राज्य में स्थित अपने होटलों में इन होटलों से आने वाले अतिथियों को सुविधाएं देने का प्रस्ताव भी दिया है।

सुभाशीष पांडा ने कहा कि विभिन्न राज्यों के पर्यटन विकास निगमों के साथ एक समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित करने से यह सभी निगम हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के होटलों में आॅनलाईन बुकिंग कर पाएंगे तथा अतिथियों के लिए इंटरनेट के माध्यम से ही परिवहन सुविधाएं भी आरक्षित कर पाएंगे। यह सुविधा 15 प्रतिशत कमीशन के आधार पर होगी। इस प्रकार जो पर्यटक हिमाचल आकर राज्य पर्यटन विकास निगम के होटलों में ठहरना चाहते हैं और निगम की परिवहन सुविधाओं का लाभ उठाना चाहते हैंए को सहायता मिलेगी। उन्होंने कहा कि हाल ही में दिल्ली व गोवा पर्यटन विकास निगम के साथ बुकिंग के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं।

उन्होंने इन विख्यात होटल श्रृंखलाओं के प्रबन्ध निदेशकों को पत्र लिखकर यह सूचित किया है कि वे आपसी लाभ के आधार पर हिमाचल प्रदेश पर्यटन निगम के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर कर सकते हैं। इस प्रकार उनके यहां ठहरने वाले आगंतुकों को हिमाचल प्रदेश के चिन्हित होटलों में ठहरने की सुविधा दी जाएगी। चायल पैलेस, कैसल नग्गर, कुल्लू ;धरोहर परिसम्पत्ति, होली.डे.होम शिमला एवं

पीटरहाॅफ शिमला, पाईनवुड, बड़ोग, लाॅगहट्स आॅरचर्ड हट्स, मनाली ;लग्ज़री काॅटे्ज, धौलाधार एवं भागसू होटल धर्मशाला, चिंतपूर्णी हाईट्स, मणिमहेश, डलहौजी, इरावती, चम्बा इत्यादि हिमाचल पर्यटन विकास निगम की सूची में शामिल वह विख्यात होटल हैं जहां पर्यटकों को बेहतर सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं।

पांडा ने विश्वास जताया कि निगम के यह प्रयास इसकी आय बढ़ाने में लाभप्रद सिद्ध होंगे। निगम राज्य के कुछ चिन्हित होटलों में धनाढ्य पर्यटकों की जरूरतें पूरी करने में समक्ष है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें।
Advertisement

Featured

गन्दगी ने लगाया चेडविक फॉल की खूबसूरती को ग्रहण, गंदगी देख निराश लौट जाते हैं पर्यटक

shimlas-garbage-trouble

शिमला- देवदार के शांत जंगल के बीच करीब 100 मीटर की ऊंचाई से जब पानी झरने का रूप लेकर गिरता है तो दिल छू देने वाला नजारा हर किसी के भी कदमों को रोक देता है। देवभूमि में ऐसे कई मनोरम दृश्य हैं। ऐसा ही एक झरना राजधानी शिमला में है, जिसे चैडविक फॉल के नाम से जानते हैं।

ये भी पढ़ें: शिमला का लोकप्रिय चैडविक फॉल(20 चित्रों में)

अपनी प्राकृतिक खूबसूरती के कारण यह देश ही नहीं विदेशों में भी प्रसिद्ध है। विश्व पर्यटन पर अलग पहचान बनाने के बावजूद चेडविक फॉल का अस्तित्व खतरे में है। कभी इस झरने के पानी का प्रयोग लोग पीने के लिए करते थे, लेकिन आज यहां हर तरफ गंदगी का आलम है। समरहिल से महज दो किलोमीटर दूर यह झरना विदेशी पर्यटकों के आकर्षण का मुख्य केंद्र है। अफसोस की बात है कि पर्यटन की दृष्टि से इतना महत्त्वपूर्ण स्थान संवारा ही नहीं गया। इस खूबसूरत नजारे को देखने के लिए रोजाना सैकड़ों देशी व विदेशी पर्यटक पहुंचते हैं, लेकिन आसपास गंदगी देख निराश होकर लौट जाते हैं।

Himachals-worth-visiting-tourism-spots

चैडविक फॉल के लिए समरहिल नेरी सड़क से होते हुए सन्होग स्कूल तक निजी टैक्सियों या बस के जरिए पहुंचा जा सकता है। यहां से झरने तक पहुंचने के लिए पैदल जाना पड़ता है। झरने के पास न तो कोई खाने-पीने का कोई प्रबंध है और न ही कोई अन्य सुविधा। पर्यटकों को स्थानीय लोगों द्वारा खोले गए छोटे-मोटे ढाबों से ही गुजारा करना पड़ता है। यहां पर ऐसा कोई होटल भी नहीं है, जहां पर्यटक एक-दो दिन के लिए रुक सकें।

garbage-at-chadwick-falls

प्राचीन मान्यता के मुताबिक

स्थानीय लोगों का कहना है कि जहां झरने का पानी गिरता है, वहां एक तालाब है और वहीं पर एक बड़ी चट्टान है। कभी यहां पर एक राक्षस रहता था। राक्षस को भोजन के रूप में गांव के लोग यहां पर सत्तू रखते थे। जब राक्षस ने ज्यादा तंग करना शुरू किया तो लोग देवता की शरण में चले गए। देवता ने राक्षस को बड़ी चट्टान के नीचे दबा दिया।

maintenance-oaf-the-chadwick-falls

लिफ्ट हो रहा झरने का पानी

चैडविक फॉल से चायली, गड़ावग व पॉटरहिल के लिए पानी लिफ्ट होता है। बावजूद इसके सांगटी के अधिकतर घरों की गंदगी इसी झरने में बहाई जा रही है। पानी इतना दूषित हो गया है कि ग्रामीणों के पशु तक बीमार होने लगे हैं।

Photo: Himachal Watcher

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें।
Continue Reading

Featured

ABVP Celebrates Raksha Bandhan With SSB Shimla 5 ABVP Celebrates Raksha Bandhan With SSB Shimla 5
अन्य खबरे3 days ago

ऐबीवीपी ने सेना के साथ मनाया स्वतंत्रता दिवस व रक्षाबंधन

शिमला-आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विश्वविद्यालय इकाई ने आज 73 वें स्वतंत्रता दिवस व रक्षाबंधन के पावन अवसर पर  सशत्र...

missing mand from mandi district of Himachal Pradesh 2 missing mand from mandi district of Himachal Pradesh 2
Featured1 week ago

मानसिक रूप से परेशान तिलक राज मंडी से लापता, पत्नी ने पुलिस से लगाई ढूंढने की गुहार

मंडी-पधर उपमंडल के कुन्नू का एक व्यक्ति लापता हो गया है। लापता व्यक्ति की मानसिक स्थिति सही नहीं बताई जा...

HPU Hostel Student Protest HPU Hostel Student Protest
Featured1 week ago

विश्वविद्यालय में हॉस्टल से जबरन शिफ्ट करने पर फूटा छात्रों का गुस्सा, कहा कुलपति कमेटियों की आड़ में कर रहे प्रताड़ित

शिमला-आज हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के वाई एस पी हॉस्टल के छात्रों ने प्रैस विज्ञप्ति जारी की। छात्रों ने कहा कि...

CPIM Himachal Protest against scrapping article 370 CPIM Himachal Protest against scrapping article 370
Featured1 week ago

मोदी सरकार ने लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को अपनाए बिना अनुछेद 370 को खत्म करके जम्मू और कश्मीर के लोगों को दिया धोखा:माकपा

शिमला-भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) ने भारतीय संविधान के अनुछेद 370 को हटाने के कदम को जम्मू कश्मीर की जनता के...

CM Jairam Thakur and BJP Welcomes Move to Scrap Article 370 CM Jairam Thakur and BJP Welcomes Move to Scrap Article 370
अन्य खबरे2 weeks ago

अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के निर्णय से जम्मू और कश्मीर के सामाजिक एवं आर्थिक जन-जीवन तथा विकास पर पड़ेगा सकारात्मक प्रभाव: मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर व हिमाचल बीजेपी

शिमला-मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने भारत सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के निर्णय को ऐतिहासिक बताया है जिससे...

HPU ABVP Celebrats Article 370 HPU ABVP Celebrats Article 370
Featured2 weeks ago

अनुच्छेद 370 के हटने से जम्मू कश्मीर की अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछड़े वर्ग तथा अल्पसंख्यकों को मिलेगा आरक्षण का लाभ:ऐबीवीपी

शिमला-अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद राष्ट्रपति आदेश द्वारा जम्मू कश्मीर से स्थाई अनुच्छेद 370 को हटाने के ऐतिहासिक कदम का स्वागत...

Protest in Rohru Protest in Rohru
Featured2 weeks ago

रोहड़ू में किसानों व बागवानों का विभिन्न माँगो को लेकर प्रदर्शन, प्रशासन के माध्यम से मुख्यमंत्री को सौंपा ज्ञापन

शिमला-हिमाचल किसान सभा, किसान संघर्ष समिति, दलित शोषण मुक्ति मंच, चिढ़गांव फल उत्पादक संघ आदि संगठनों ने आज रोहड़ू में...

PHD admissions in HP University PHD admissions in HP University
Featured2 weeks ago

विश्वविद्यालय में डीन ऑफ स्टडीज अवैध पी.एच.डी. एडमिशन करने में मग्न, छात्र हॉस्टल फॉर्म तथा फीस तक नहीं करवा पा रहे जमा

शिमला-आज एस एफ आई हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय इकाई ने विश्वविद्यालय गेट के पास धरना प्रदर्शन किया तथा चक्का जाम करके...

ABVP HPU Memorendum to Education minister ABVP HPU Memorendum to Education minister
Featured2 weeks ago

ऐबीवीपी ने हिमाचल विश्वविद्यालय में छात्र संघ चुनाव की बहाली, शिक्षकों की भर्ती व अन्य मांगों को लेकर शिक्षा मंत्री को दिया ज्ञापन

शिमला- अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विश्वविद्यालय इकाई ने आज प्रदेश की शिक्षा क्षेत्र में व्याप्त समस्याओं को लेकर कुलपति के...

Ninth CITU conference in Shimla Ninth CITU conference in Shimla
Featured3 weeks ago

मोदी सरकार 44 श्रम कानूनों और आंगनबाड़ी,मिड डे मील,आशा सहित लगभग 70 सामाजिक स्कीमों को खत्म करने की रच रही साज़िश

शिमला-सीटू का नौंवा शिमला जिला सम्मेलन कालीबाड़ी हॉल शिमला में सम्पन्न हुआ। सम्मेलन में आगामी तीन वर्षों के लिए 47...

Popular posts

Trending