सड़क पक्की नहीं हुई तो नोटा दबाकर ज्वाली विधानसभा क्षेत्र करेगा कांग्रेस-बीजेपी का बहिष्कार

0
310
Jwali-Vidhansabha-Road-1

काँगड़ा- काँगड़ा ज़िले के अन्तर्गत ज्वाली विधानसभा क्षेत्र के चनणी गांव के स्थानीय निवासियों ने हिमाचल वॉचर से संपर्क किया और बताया कि उनके क्षेत्र की सड़क की हालात बहुत खराब है और इस कच्ची सड़क को बने करीब 40 वर्ष हो गए हैं, लेकिन आज भी यह सड़क पक्की नहीं हो पायी है।

लोगो का कहना है कि उनके विधानसभा क्षेत्र के विधायक नीरज भारती ने 2012 में हुए विधानसभा चुनावो के समय कहा था कि वे जब तक यह सड़क काली नहीं हो जाती (तारकोल से पक्का होना) तब तक वे व्यक्तिगत तौर पर इस चुनाव क्षेत्र में नहीं आयँगे।

पढ़ें:अपने ही चुनाव क्षेत्र में छुप-2 कर आते है नीरज भारती जहाँ 30 साल से लोग कर रहे पक्की सड़क और बस का इंतज़ार

गांव के स्थानीय लोगो का कहना है कि पिछले 40 वर्षो से वादे पर वादे ही हुए है लेकिन काम कुछ नहीं हुए। यहाँ तक कि नीरज भारती के पिता पूर्व विधायक(ज्वाली) व पूर्व सांसद चंदर कुमार के समय से ही झूठे वादे होना शुरू हो गए थे। अब वतर्मान विधायक नीरज भारती भी उस झूठ की रीत को आगे बडा रहे हैं ।

भारतीय सेना के जवान शहीद रोशन के शव को ले जाने में हुई मुश्किलें

ग्रामीणों ने बताय कि कुछ समय पहले ही चनणी गांव के रहने जवान रोशन जो भारतीय सेना में तैनात थे। वे छुटियों में नूरपुर आये हुए थे जहाँ उनका देहांत हो गया। शहीद रोशन के परिजन उनके देह को लेकर नूरपुर से अपने पैतृक गाँव चांदनी आ रहे थे। लेकिन चनणी सड़क को देख उनके परिजन काफी दुखी हुए। इस सड़क पर गाड़ी लाना बहुत मुश्किल था। रास्ते में कई गाड़ियां फस गयी और कुछ को 4 किलोमीटर तक पैदल ही जाना पड़ा।

Chandni-road-condition-Kangra

शहीद जवान के परिजन पहले ही शोक की स्थिति में थे लेकिन चनणी सडक की हालत ने उन्हें पूरा तोड़ दिया। अंतिम संस्कार होने बाद शाम को जब परिजन वापस जाने लगे तो उनकी गाड़ियां निकलने में कितना समय लगा होगा यह अंदाज़ा आप लगा ही सकते हैं।

जवान के देहांत के 3 दिन बाद कागजी कार्यवाही के लिए भारतीय सेना की गाड़ी आयी तो वो भी नाले में फंस गयी और गहरी खायी की और धीरे-2 धंसने लगी। सेना के जवान मदद के लिए चिल्लाने लगे तभी वहां से गुजर रही एक लड़की आयी और उसने आस-पास के घरों से लोगो को बुलाया।

लोगो ने मौके पर देखा तो सेना की गाड़ी गहरी खायी में जाने ही वाली थी अगर लोग पहुँचने में थोड़ा और विलम्ब करते तो कोई बड़ा हादसा हो सकता था। काफी मुशकत के बाद गाड़ी को सड़क पर लाया गया।

सड़क न होने की वजह से स्कूल के छात्रों की होती है पिटाई

स्थानीय निवासियों ने यह भी बताया कि चांदनी गांव में पब्लिक स्कूल की बस आती हे लेकिन उस बस को देखे कर ऐसा नही लगता की वो स्कूल की बस है। खराब सड़क होने की वजह से कई बार इस बस का हादसा होने से टला है। ऐसा कई बार हुआ जब गांव के लोगों ने धक्का लगा कर स्कूल की बस को निकला है। स्कूल जाने वाले बच्चे कीचड़ का सामना करते हुए कितनी मुश्किलो से जाते होंगे यह आप खुद ही सोच सकते हैं।

Chandni-Road-Kangra

स्कूल के छात्रों हर बार स्कूल में समय से नहीं पहुंचते है। जबकि सरकारी स्कूल के सभी छात्र भी स्कूल काफी देरी से पहुंचते है जिससे उनकी शिक्षा व अनुशासन पर काफी बुरा प्रभाव पड़ रहा है। बच्चो को हर बार इस चांदनी सडक की वजह से सजा भी मिलती हे लेकिन स्कूल के अध्यापक कभी नही सोचते की सड़क न होने के कारण ये सब हो रहा हे।

विडियो

लोगों ने आरोप लगाया कि इस सड़क पर पीडब्ल्यूडी विभाग कोटला के कर्मचारी आते है और नंबर लगा के चले जाते है। यह सब केवल एक दिखावा है। नीरज भारती कुछ करना नही चाहते वे केवल फसबूक पर हर समाय ऑनलाइन मिलते है लेकिन काम के लिए उनके पास समय नही है।

चनणी गांव के स्थानीय निवासियों ने बताया कि उनके गांव के कुछ लोग आर्थिक सहायता और इस सड़क के पक्का होने की बात को लेकर विधियाक नीरज भारती के घर गए हाथ जोड़े मदद मांगी कि श्रीमान मारी सड़क का कुछ करो लेकिन माननीय विधायक घर से बाहर न निकले और लोगो को निराश होकर लौटना पड़ा।

Neeraj-bharti-MLA-Jwali-Kangra

लोगों ने आरोप लगाया कि इस सड़क पर पीडब्ल्यूडी विभाग कोटला के कर्मचारी आते है और नंबर लगा के चले जाते है। यह सब केवल एक दिखावा है। नीरज भारती कुछ करना नही चाहते वे केवल फसबूक पर वो हर समाय ऑनलाइन मिलते है लेकिन काम के लिए उनके पास समय नही है।

चनणी गांव के स्थानीय निवासियों ने बताया कि उनके गांव के कुछ लोग आर्थिक सहायता और इस सड़क के पक्का होने की बात को लेकर विधायक
नीरज भारती के घर गए हाथ जोड़े मदद मांगी कि श्रीमान हमारी सड़क का कुछ करो लेकिन माननीय विधायक घर से बाहर न निकले और लोगो को निराश होकर लौटना पड़ा।

लोगो का कहना है कि इस सड़क को ठीक करने के लिए यहाँ जेसीबी भेज दी जाती है और एक दिन में 4 किलोमीटर से जयादा सड़क बना दी जाती है। यानि 11:35 से लेकर शाम 4:30 तक ही सारी सड़क को बना दिया जाता है।चाहे सडक नरक बनती जाये। इस तरह के तेज काम से चांदनी गांव की सड़क की हालत बहुत ख़राब हो गयी है।

पढ़िए क्या कहना है विधियाक नीरज भारती का:फॉलोअप: नीरज भारती अपने शब्दों पर कायम, कहा चनणी सड़क को मिली वितीय क्लीयरेंस, सड़क पक्का होने पर ही मांगेंगे वोट

भारती ने यह भी कहा कि बहुत से काम हो गए हैं और कुछ प्रक्रिया में हैं तो कुछ रह भी गए हैं लेकिन कोशिश पूरी है कि सब काम हो और लोगो को सहूलियत मिले।

ग्रामीणों का कहना है कि कुछ समय पहले मुख्यमंत्री ने काँगड़ा दौरे के दौरान यह घोषणा की थी कि जिले की ज्वाली विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली चनणी सड़क को पक्का किया जायेगा। लेकिन लोगो का कहना है कि वे अब कसी भी नेता के झूठे वादों के बहकावे में नहीं आएंगे।

गुस्साए लोगो का यह भी कहना है कि अगर चुनावों से पहले इस सड़क का काम शुरू नही होता है तो सभी ग्रामवासी इस विधानसभा चुनाव में नोटा(NOTA)का इस्तेमाल करके चुनाव का बहिष्कार करेंगे। ग्रामीणों ने सरकार से अनुरोध करते हुए कहा कि समय रहते इस सड़क को ठीक करवाया जाये।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS