कोटखाई केस: गुड़िया की बहने सीबीआई अधिकारियों को राखी बांध लगाएगी जल्द न्याय दिलाने की गुहार

0
225
Family-of-Kotkhai-victim-to-protest-outside-CBI-Office-Shimla
फाइल चित्र/ प्रतीकात्मक

सीबीआई के खिलाफ चुप्पी तोड़ो आन्दोलन शुरू करने का ऐलान,सामाजिक संगठन सीबीआई कार्यालय के बाहर सोमवार से काली पट्टी बांध कर करेगे प्रदर्शन

शिमला- सीबीआई द्वारा गुडिया मामले में 14 दिन बाद भी कोई खुलासा न करने पर अब लोग मुखर होने लग पड़े है। गुडिया को न्याय दिलवाने के लिए शिमला के रिज मैदान पर अनशन पर बैठे सामाजिक संगठनो ने सीबीआई के खिलाफ चुपी तोड़ो आन्दोलन शुरू करने का ऐलान कर दिया है। सोमवार से काली पट्टी बांध कर सीबीआई कार्यालय के बाहर प्रदर्शन करेगे।

गुडिया मामले में सीबीआई 14 दिन से जाँच कर रही है। सीबीआई ने इस मामले में अभी तक कोई खुसला नही किया है और कोर्ट में स्टेट्स रिपोर्ट दायर कर अतिरिक्त समय माँगा है। शिमला के रिज पर गुडिया को न्याय दिलवाने के लिए बैठे सामाजिक संगठनो का कहना है कि लोगो को सीबीआई पर पूरा भरोसा था की वह गुडिया मामले में जाँच कर गुडिया के कातिलों को बेनकाब करेगी ।

सीबीआई ने लोगो को भरोषा भी दिलाया था लेकिन 14 दिन बीत जाने के बाद भी सीबीआई इस मामले में कोई खुलासा नही कर पाई है और कोर्ट से अतिरिक्त समय माँगा जा रहा है।

गुडिया को न्याय दिलाने के लिए आदोलनरत लोगो का कहना है कि अब सभी सामाजिक संगठन मिल कर सोमवार से छुपी तोड़ो आन्दोलन शुरू करेगे और जब तक सीबीआई गुडिया मामले में अपनी रिपोर्ट उच्च न्यायालय के समक्ष नही रखती तब तक मुह पर काली पट्टी बांध कर सीबी आई कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया जायेगा।यही नही गुडिया के परिजन और बहने सीबीआई के अधिकारियों को राखी भी पहनाएगी और गुडिया को जल्द न्याय दिलाने की गुहार लगाएगी।

इन्ही में से एक संघठन मदद ने कहा कि सीबीआई ने गुड़िया केस की संवेदनशीलता को देखते हुए प्रदेश हाईकोर्ट से यह गुहार भी लगायी थी कि जाँच रिपोर्ट सार्वजनिक न करें क्यूंकि इससे आगामी जाँच प्रभावित हो सकती है। संघठन ने कहा कि उन्हें सीबीआई की जाँच पर पूरा भरोसा है लेकिन आये दिनों की जाँच ने इस केस को पेचीदा बना दिया है और जनता इस बात से अनिभज्ञ है कि सीबीआई की जाँच अभी तक किस सस्तर तक पहुंच पायी है।

मदद सेवा ट्रस्ट का कहना है कि उनका संघठन व सामाजिक संगठनो ने यह निर्णाय लिया है जब तक सीबीआई 14 दिनों तक अपनी पूरी रिपोर्ट उच्च न्यायालय को प्रस्तुत नहीं करती तब तक मुँह पर काली पट्टियां बांध कर सीबीआई कार्यालय के बाहर सोमवार से चुप्पी तोड़ो आंदोलन चलाया जायेगा।

संघठन ने कहा की गुड़िया के परिजन व बहने राखी लेकर सीबीआई के अधिकारयों से से मिल कर उनसे गुड़िया के इंसाफ के लिए गुहार लगाएगी। मदद संघठन ने यह भी कहा कि उन्हें उम्मीद है कि सीबीआई गुड़िया केस में अपनी चुप्पी तोड़ेगी ताकि गुड़िया के दोषियों को जल्द-2 सज़ा मिल सके।

वहीं गुड़िया की बहनो ने सभी छात्राओं से अपील की है कि वे इस मुहीम में ज्यादा से ज्यादा संख्या में शामिल हो। मदद संघठन ने यह भी कहा कि 15 दिन की सीबीआई जाँच से यदि परिजन संतुष्ट न हुए तो यह आंदोलन और उग्र होगा और जरुरत पड़ी तो यह आंदोलन आमरण अनशन में भी तब्दील होगा।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS