मारपीट के आरोपी बालूगंज थाना इंचार्ज को राजनेता व पुलिस उच्च अधिकारियों का सरक्षण, एक माह बाद भी कोई कार्रवाई नहीं: विकास समिति टुटू

0
309
Police Station Boileauganj

वारदात को एक महीना बीत गया पर एसएचओ के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं, मुख्यमंत्री, प्रतिभा ​सिंह को भी ​देव मेले के दौरान सौंपा गया ​था ​ज्ञापन, विकास समिति टुटू व स्थानीय जनता ने की राज्यपाल व मुख्यमंत्री से ए​​सएचओ बालूगंज​ ​वीरी सिंह के खिलाफ तुरन्त कार्यवाही की मांग

शिमला- ​​बालूगंज थाना इंचार्ज वीरी सिंह ​के खिलाफ ​एक बार पुन: व्यापार मण्डल टुटू,जागरूक नागरिक मंच टुटू ,विकास समिति टुटू व स्थानीय जनता ​ने प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र से कार्यवाही करने की विकास समिति टुटू व स्थानीय जनता ​ने मांग की है!

​जागरूक नागरिक मंच टुटू के अध्यक्ष,विकास समिति टुटू अध्यक्ष ​व महासचिव, ​व्यापार मण्डल टुटू के अध्यक्ष, टुटू के स्थानीय वासी तथा स्थानीय एडवोकेट ने एक सांझे ब्यान में कहा कि जनहित में ​कई मर्तवा प्रदेश सरकार व पुलिस प्रशासन से ​बालूगंज थाना इंचार्ज ​को तुरंत प्रभाव से उक्त थाने से ​हटाये जाने की मांग की गई है लेकिन वारदात को एक महीना बीत गया और स्थिति जस की तस बनी हुई है! 31 अधिकारी बदले गए लेकिन जनता द्वारा लिखित शिकायत पत्र सौंपने पर भी एक अधिकारी नहीं बदला गया जिससे ऐसा प्रतीत होता है की कुछ राजनेता व पुलिस उच्च अधिकारी ​एसएचओ बालूगंज​ ​वीरी सिंह सरक्षण दे रहे हैं!

​समिति ने बताया कि जनहित में स्थानीय वासियों ने ​प्रदेश सरकार के मुखिया को स्वंय भी और राज्यपाल,रेडक्रास की अध्यक्षा व पूर्व सांसद प्रतिभा सिंह,उपायुक्त शिमला के माध्यम से भी ज्ञापन देकर व पुलिस अधीक्षक शिमला व गृह सचिव,मुख्यसचिव तथा अन्य संबन्धित प्रशासनिक अधिकारियों को कई मर्तवा ईमेल से भी पत्र भेजकर एसएचओ बालूगंज ​को हटाने की मांग की गई है लेकिन ऐसा प्रतीत हो रहा है की कुछ राजनेता व पुलिस के उच्च अधिकारी एसएचओ बालूगंज को परोक्ष व अपरोक्ष रूप से संरक्षण दे रहे हैं!

वही दूसरी ओर विकास समिति अध्यक्ष नागेंद्र गुप्ता ने फिर दौहराया की बालूगंज थाने मे तैनात एसएचओ वीरी सिंह का शिकायतकर्ता के साथ ही मारकुटाई करने और सलाखों के पीछे बंद करने का अपराध बहुत ही घिनोना है तथा क्षमा के योग्य नहीं है ​चाहे उन्हे इसके लिए किसी भी संघर्ष से गुजरना पड़े! समिति अध्यक्ष का कहना है कि थाना बालूगंज इंचार्ज को ​तुरंत प्रभाव से हटाना अति आवश्यक है ​अन्यथा शिमला ग्रामीण की व टुटू की स्थानीय जनता आने वाले समय में थाने का घेराव करेगी क्योंकि अधिकतर शिमला ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र इस थाने के दायरे में आता है!

समिति अध्यक्ष ने कहा की क्या प्रदेश सरकार के पास पूरे हिमाचल में एक मात्र वीरी सिंह ही निष्ठावान अधिकारी रह गया है जिसने अपराधियों को सरंक्षण और शिकायतकर्ता पर डंडा बरसाया है और उसे सरकार व पुलिस प्रशासन द्वारा हटाने में एक महीने से आनाकानी की जा रही है!

टुटू समिति अध्यक्ष का यह भी कहना है कि पता चला है कि पुलिस के उच्च अधिकारी जो इस मामले की जांच उच्च स्तरीय जांच कर रहे हैं उन्होने भी जांच के दौरान एसएचओवीरी सिंह​ को हटाने की अनुशंसा की है ताकि जांच प्रभावित न हो लेकिन सरकार ने अभी तक भी थाना इंचार्ज को किसी और स्थान पर तबदील नहीं किया है!

टुटू समिति ​प्रतिनिधिमंडल ने प्रदेश सरकार को सौंपे ज्ञापन में ​इस मामले की जांच ​किसी निष्पक्ष एजेंसी या पदासीन न्यायाधीश से करवाए जाने की भी मांग की है ताकि प्रदेश सरकार द्वारा पुलिस विभाग के ऐसे आपराधिक अधिकारी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही अमल में लाई जा सके अन्यथा हमारा मानना है की ऐसे कानून के रखवाले जब समाज में शिकायतकर्ता के साथ ऐसा दुर्रव्यवहार करेंगे तो भविष्य में हम-हमारे परिवार-बहू-बेटियाँ भी इस देव भूमि हिमाचल में सुरक्षित न रहेंगे!

Image: Google

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS