अवींद्र पांडे के आरोपों को गलत करार देते हुए पुलिस ने दी अपनी सफाई

0
217
delhi-police-gangrape

delhi-gangrape-shame

“अवींद्र पांडे के आरोपों को दिल्ली पुलिस ने गलत ठहराया और दी अपने पक्ष में सफाई कहा समय पर पहुचाया गया दोनों को अस्पताल ”

दिल्ली गैंगरेप की घटना के एक अकेले चश्मदीद अवींद्र पांडे ने जी न्युज पर 16 दिस्बर की रात की जो सच्चाई सबके सामने रखी है , उसने देश के समाज और सिस्टम की पोल खोल कर रख दी है ।

अवींद्र पांडे के द्वारा दिल्ली पुलिस की कार्यप्रणाली पर जो सवाल उठाए गए है , उन सब सवालों के जवाब में दिल्ली पुलिस अपनी सफाई देने में लगी है। पीड़ता के मित्र की ओर से लगाए आरोपों पर पुलिस ने सफाई देते हुए कहा है कि इस पुरे मामले में पुलिस की कार्यवाही में किसी भी तरह की कौताही नहीं बरती गई है , पुलिस के संयुक्त आयुक्त विवके गोगिया ने गैंग रेप के चश्मदीद के आरोपो को गलत ठहराते हुए कहा है कि, पीड़त लड़की ओर उसके मित्र को 16 मिनट के भीतर अस्पताल पहुचाया गया था और पुलिस कर्मियों के बीच कोई बहस नहीं हुई थी। उन्होने कहा कि पी सी आर वैन के लिए किसी भी तरह की क्षेत्रीय सीमा निधारित नहीं होती है।

विवेक गोगिया ने कहा कि घटना की रात 10:21 बजे इस मामले को लेकर पहली कॉल रजिस्टर की गई। इसके बाद ज्रेबा (54) 10:29 बजे घटना स्थल पर पहुंच गई। उन्होंने कहा कि हमारा मकसद अपनी तारीफ करवाना नहीं था।

अवींद्र पांडे के बयान के अनुसार दो घंटे तक न तो पुलिस ने ही उनकी मदद की और न जनता ने। पीड़ता की मौत के बाद पहली बार देश के सामने आए अवींद्र ने बताया कि 16 दिसंबर की रात हुए हादसे के बाद भी उनकी दोस्त जीना चाहती थी और जब मै उनसे मिला तो वो खुश थी । अवींद्र के मुताबिक घटनास्थल पर पहुंची तीन पीसीआर की गाड़ियां करीब 45 मिनट तक थानों के सीमा विवाद में ही उलझी रहीं और उसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया ।
दिल्ली पुलिस अवींद्र पांडे के सभी आरोपों को गलत ठहराते हुए अपने पक्ष में सफाई दी है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS