दिल्ली गैंग रेप पीडि़ता के पिता ने किया पीडि़त बेटी का नाम उजागर

0
201
Badri+Singh+Pandey,+53,+father+of+Jyoti+Singh+Pandey

Badri+Singh+Pandey,+53,+father+of+Jyoti+Singh+Pandey

“पिता ने कहा मेरी बेटी ज्योति सिंह पांडे ने कोई गलत काम नहीं किया है वो उन सब महिलाओं के प्रेरणा बनेगी जो इस तरह की घटनाओं का शिकार होती है ”

दिल्ली गैंग रेप की शिकार हुई बाहदुर लड़की के पिता ने अपनी बेटी का नाम जगजाहिर कर दिया है एक इंग्लिस न्यूज पेपर को दिए इंटरव्यू में पीडि़ता के पिता ने कहा कि वो अपनी बहादुर बेटी का नाम इसलिए सबके सामने लाना चाहते है ताकि उनकी बेटी का नाम रेप या यौन शोषण की शिकार महिलाओं के लिए प्रेरणा बन सके। उन्होनंे बताया कि जब मैंने पहली बार अपनी बेटी को देखा तो वो बिस्तर पर सो रही थी, मैंने उसके माथे पर हाथ रखकर उसका नाम पुकारा तो उसने धीरे से अपनी आखें खोली और रोते हुए मुझसे कहा की वो बहुत दर्द में है।

मैंने बहुत मुश्किल से अपने आंसुओं को रोका ओर अपनी बेटी से कहा कि हौंसला रखो बेटा , परेशान मत हो सब ठीक हो जाएगा । तब मेरी बेटी ने मुझे बताया की उसके साथ क्या कुछ हुआ पर ….जो मेरी बेटी ने मुझे बताया उसे मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता , बस जो मैं कह सकता हुं वो ये कि जिन्होंने मेरी बटी के साथ ऐसा किया वो न तो इंसान है और न ही जानवर , वो तो इस संसार के ही नहीं हो सकते ।

मैं तो यही कहना चाहता हुं कि जो भी उन्होनें मेरी बेटी के साथ किया वो अमानवियता इस संसार में किसी के भी साथ न हो। मेरी बेटी रो रही थी , वो बेहद दर्द में थी , पर मेरी बेटी बेहद साहसी थी वो हम सबको हिम्मत देती और कहती कि सब ठीक हो जाएगा। मैं उसे कहता कि सब ठीक हो जाएगा बेटा और हम जल्द ही अपने घर चले जाएगंे, जब भी मैं उससे घर जाने की बात करता तो वो बेहद खुश होती , मैं अपना हाथ उसके सिर पर रखा तो उसने पुछा कि आपने कुछ खाया और इशारा कर के कहा, की आप कुछ देर सो जाइयें। मैंने अपनी बेटी का हाथ पकड़ा और उसे चुम्मा और उसे कहा बेटा आराम करो और उसने अपनी आंखे बंद कर ली ।

पिता ने कहा , मुझे मेरी बेटी पर गर्व है और उसने कोई भी गलत काम नहीं किया है उसने जिदंगी की जंग को बाहदूरी से लड़ा था और मैं चाहता हुं कि मेरी बेटी का नाम उन महिलाओं के लिए प्रेरणा बन सके जो इस तरह की घटनाओं का शिकार होती है।इससे पहले भी सेक्स क्राइम पर बनने वाले नए कानून का नाम पीडि़ता के नाम पर रखने का मुद्वा चर्चा का विषय बना था जिस पर पीडि़ता के पिता ने सहमति जताई थी ।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS