HPU Students Clash

शिमला- हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में शनिवार रात से शुरू हुआ हिंसा का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है! भरी पुलिस सुरक्षा के बीच बुधवार के दिन भी विद्यालय परिसर में एक बार फिर खून खराब हुआ ! बुधवार को नैक टीम के दौरे से पहले ही सुबह करीब 9:00 बजे एसएफआई और एबीवीपी कार्यकर्ताओं में फिर से खून खराबा हो गया।

पुलिस के लाठीचार्ज करने पर पूरे परिसर में अफरातफरी मच गई। छात्रों का आक्रोश इतना ज्यादा था की पुलिस की लाठियां बरसाने के बावजूद छात्र एक दूसरे पर लात और मुक्के बरसाते रहे। इस दौरान मची भगदड़ में आम छात्र और छात्राएं भी परेशान हुई।

हिंसा में बुरी तरह से जख्मी दो छात्रों भूमि सिंह और रविंद्र सिंह को अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया है। ये दोनों एसएफआई के कार्यकर्ता बताए जा रहे हैं।

दोनों गुटों के 22 कार्यकर्ता गिरफ्तार

करीब दस मिनट तक बने इस माहौल के बाद पुलिस जवानों ने स्थिति पर काबू पाया और एक एक कर कार्यकर्ताओं को गाड़ियों में भरकर थाने ले जाया गया। सुरक्षा के लिए खास तौर पर तैनात किए क्यूआरटी क्विक रिस्पांस टीम के जवानों ने भी छात्रों को एक एक कर पकड़ कर गाड़ियों में डाला।

परिसर में हुई इस खूनी झड़प के बाद परिसर में प्रवेश को लेकर पुलिस ने चौकसी बढ़ा दी। एचपीयू के मुख्य गेट पर महिला और पुरूष पुलिस जवानों ने इसके बार किसी को भी बिना चैकिंग और आई कार्ड के परिसर में एंट्री नहीं दी। चैकिंग के दौरान पुलिस को पांच छात्रों के बैग से राड और डंडे भी मिले।

एबीवीपी के 17 कार्यकर्ता

पुलिस अधीक्षक डीडब्ल्यू नेगी ने बताया कि समरहिल चौक पर सुबह एसएफआई और एबीवीपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई। जिसमें दो एसएफआई के कार्यकर्ताओं को चोटें आई है। उन्होंने कहा कि समय रहते मौके पर मौजूद पुलिस जवानों ने स्थिति पर काबू पा लिया।

घटना में शामिल एसएफआई के पांच और एबीवीपी के 17 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उन्होंने कहा कि परिसर में हिंसा करने के आरोप में इससे पूर्व 15 एसएफआई कार्यकर्ता गिरफ्तार किए गए हैं।

एसपी शिमला डीडब्लू नेगी ने दोपहर बाद एसएफआई के राज्य सचिव सुरेश सरवाल और एबीवीपी के नेता कौल नेगी से आपस में बातचीत कर परिसर में बने इस माहौल को शांत करने के लिए अपील की। इस पर सुरेश सरवाल ने कहा कि उनकी बातचीत हुई है।

Photo: Amar Ujala

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS