HP University Law Department

शिमला- हिमाचल प्रदेश विश्विद्यालय की विधि(Law) विभाग की दो छात्राओं ने आज हिमाचल पुलिस डीआईजी व शिमला पुलिस अधीक्षक को लिखित में शिकयात दर्ज कर आरोप लगाया कि एबीवीपी कि कुछ छात्रों ने उनका रास्ता रोक कर उनके साथ अभद्र व्यहार किया और जान से मार देने की धमकी दी!

प्रदेश विश्विद्यालय कि दो छात्रओं रुचिका (Law) और नेहा(Law) ने एबीवीपी पर संगीन आरोप लगते हुए कहा कि मंगलवार सुबह करीब 9:45 जब वो रेणुका हॉस्टल से अपने विभाग की ओर जा रही थी तो अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के कुछ छात्र प्रदीप, रोहित(MCA), हितेंद्र, प्रदीप(Law), विकास(MTA), योगराज डोगरा(Law), गौरव अत्रि, अमित ठाकुर उर्फ़ (प्रिंस), अंकित जम्वाल, आशीष सिक्टा और नरेश समरहिल चौक पर खड़े थे!

पढ़ें: एचपीयू में फिर हिंसा, भारी पुलिस बल की माजूदगी में 2 जनजातीय छात्रों पर जानलेवा हमला
छात्रओं ने शिकयात में कहा है कि जब वे समरहिल चौक से गुजर रहीं उस समय पुलिस के सामने एबीवीपी के (उपरलिखित) गुंडों ने लिंगसूचक गाली-गलोच किया और उनकी तरफ आगे बढ़कर उन्हें पकड़ने की कोशिश की! छात्रओं ने कहा की एबीवीपी के छात्र जैसे उनके ओर बढ़ने लगे तो उन्होंने वहां से भागने का प्रयास किया! छात्रओं ने कहा कि उन्हें भागते देख एबीवीपी के गुंडों ने उन्हें मारने की धमकी देते हुए चेताया की अगर वे विश्विद्यालय परिसर में कहीं भी दिखाई दीं तो उठा कर ले जायेंगे!

छात्राओं ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि जब ये घटना हो रही थी उस समय पुलिस बल भी वंही मौजूद था पर सभी पुलिस कर्मी मूक दर्शक की तरह खड़े रहे! किसी ने भी मदद नहीं की न ही उस समय किसी कार्यवाही को अंजाम दिया जो की बहुत शर्मनाक है!

पढ़ें:एचपीयू छात्र गुटों के बीच खूनी झड़प, खूंखरी और तेज हथियारों से कई छात्र घायल

लिखित पत्र में दोनों छात्रओं ने पुलिस के आला अधिकारीयों से निवेदन करते हुए कहा है कि उन्हें इन उपद्रवियों से उन्हें खतरा है व उनकी व्यक्तिगत स्वंतत्रा उनसे पुलिस की मौजूदगी में छीनी जा रही है! छात्रओं ने ये भी कहा कि उन्हें इन उपद्रवियों से सुरक्षा प्रदान की जाये और इनके खिलाफ जल्द से जल्द उचित कार्यवाही की जाये!

पुलिस कर रही एक तरफा कार्यवाही, एबीवीपी के छात्रों को दे रही है शेह: एसएफआई

एसएफआई ने पुलिस पर आरोप लगते हुए कहा है कि पुलिस द्वारा एबीवीपी के लोगो को पूरी तरह से शेह दी जा रही है और पुलिस के सामने ही एसएफआई से सम्बन्धित छात्रों को पीटा जा रहा है! छात्र संघठन ने कहा कि पुलिस द्वारा अब तक उनके 14 लोगो को गिरफ्तार कर लिया गया है लेकिन एबीवीपी के एक भी छात्र को गिरिफ्तार नहीं किया गया है जो की पुलिस प्रशासन की कार्यवाही पर बड़ा प्रश्न चिन्ह खड़ा करती है! छात्र संघठन ने मांग करते हुए कहा कि इस घटना की जल्द से जल्द जाँच की जाये और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के कार्यकर्तओं पर कार्यवाही की जाये!

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

1 COMMENT

Comments are closed.