अज्ञात शरारती तत्वों ने सोलन स्कूल के पेयजल टैंक में मिला दिया कीटनाशक, बाल-2 बची 300 बच्चों की जान

0
842

सोलन- हिमाचल के जिला सोलन के कक्कड़हट्टी मिडल स्कूल और गांव के पेयजल टैंक में सोमवार को अज्ञात शरारती तत्वों ने जहरीला पदार्थ मिला दिया। सुबह स्कूल पहुंचे बच्चे टंकी से पानी पीने लगे तो उन्हें दुर्गंध आई। पानी का रंग भी दूधिया था।

वे पानी पी ही नहीं सके। उन्होंने इसकी जानकारी मुख्याध्यापक को दी। इसके बाद तुरंत आईपीएच के अधिकारियों को सूचित किया और टीम ने मौके का दौरा करके पानी के सैंपल लिए। जांच में निवान नामक कीटनाशक मिलने की पुष्टि हुई है।

विभाग ने तुरंत सभी को सूचित कर स्कूल और गांव की पेयजल सप्लाई पर रोक लगा दी और लोगों को पानी न पीने के लिए सचेत किया। दिनभर ग्रामीणों और अभिभावकों में हड़कंप मचा रहा, हालांकि किसी की सेहत बिगड़ने की सूचना नहीं है।

जांच में हुआ खुलासा, पानी में मिलाया गया निवान कीटनाशक

nivan-poisen-mix-in-school-water-tank-solan

कक्कड़हट्टी मिडल स्कूल में 300 छात्र शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। गांव की आबादी भी करीब 300 है। ऐन मौके पर सभी की जान बच गई। स्कूल के मुख्याध्यापक कमल देव परिहार ने इसकी पुष्टि की है।

आईपीएच विभाग की शिकायत पर पुलिस चौकी सुबाथू में अज्ञात शरारती तत्वों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। पंचायत के पूर्व प्रधान दिनेश चंद ठाकुर ने बताया कि किसी ने स्कूल और गांव के पेयजल टैंक में कीटनाशक मिलाया है।

आईपीएच के कनिष्ठ अभियंता ने बताया कि स्कूल प्रधानाचार्य के माध्यम से उन्हें पानी के दूधिया और उसमें दुर्गंध होने की शिकायत मिली। त्वरित कार्रवाई करते हुए स्कूल की पानी की टंकी और साथ लगते सार्वजनिक स्टोरेज टैंक से पानी के सैंपल लिए गए। जांच में निवान नामक कीटनाशक पाया गया।

खुले टैंकों में बढ़ा खतरा, दहशत में लोग

uncovered-water-tank-solan-shimla

ग्रामीण सुनील कुमार, बिशन दत्त, बेली राम और संजय का कहना है कि स्टोरेज टैंक के ढक्कन कहीं खुले हैं तो कहीं टूटे हुए हैं। उधर, प्रारंभिक शिक्षा उपनिदेशक चंद्रेश्वर शर्मा ने कहा मामले की जानकारी नहीं है।

मामले की सूचना मिली है। जानी नुकसान या किसी की तबीयत बिगड़ने की सूचना नहीं है। जांच के आदेश दिए गए हैं। पुलिस और विभाग की टीम मौके पर पहुंची है। इसमें किसी की कोताही निकली तो नियमानुसार कार्रवाई होगी।-राकेश कंवर, उपायुक्त सोलन

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS