मेडिकल कॉलेज चंबा के लिए 40 करोड़ स्वीकृत, अगले सत्र से शरू होंगी मेडिकल कक्षाएं

0
177

चंबा स्थित क्षय रोग वार्ड और सरोल स्थित कुष्ठ रोग अस्पताल को भी मेडिकल कॉलेज के साथ संबद्ध किया जाएगा ।इसके अलावा मेडिकल कॉलेज की 20 किलोमीटर की परिधि में आने वाले 3 सरकारी अस्पतालों को भी मेडिकल कॉलेज के साथ जोड़कर 30-30 बेडो की क्षमता वाला बनाया जाएगा ।

चंबा- जवाहरलाल नेहरू राजकीय मेडिकल कॉलेज चंबा में अगले सत्र से मेडिकल कक्षाएं शुरू करने को लेकर काम शुरु हो गया है। कॉलेज के नवनियुक्त प्रिंसिपल प्रोफेसर अनिल ओहरी ने जानकारी देते हुए बताया की चंबा कॉलेज के पुराने भवन में मेडिकल कक्षाएं अगले सत्र से शुरू करने के अलावा अन्य आधारभूत सुविधाओं को जुटाने के लिए सरकार द्वारा स्वीकृत 40 करोड़ की राशि इस कार्य के लिए प्राप्त हो चुकी है ।उन्होंने बताया कि इस दिशा में प्रभावी कदम उठाकर अगले सत्र से यहां एम बी बी एस के पहले वर्ष की कक्षाओं को शुरू करना पूरी तरह से सुनिश्चित बनाया जाएगा।

उन्होंने यह भी बताया कि आने वाले समय में मेडिकल कॉलेज के लिए मेडिकल कॉलेज के लिए आवश्यक फेकल्टी के अलावा अन्य स्टाफ की भी नियुक्ति होने वाली है ।उन्होंने कहा कि मिनिस्टीरियल स्टाफ के 4 पदों के लिए आदेश जारी किए जा चुके हैं। उन्होंने यह भी जानकारी दी कि चंबा स्थित क्षय रोग वार्ड और सरोल स्थित कुष्ठ रोग अस्पताल को भी मेडिकल कॉलेज के साथ संबद्ध किया जाएगा ।इसके अलावा मेडिकल कॉलेज की 20 किलोमीटर की परिधि में आने वाले 3 सरकारी अस्पतालों को भी मेडिकल कॉलेज के साथ जोड़कर 30-30 बेडो की क्षमता वाला बनाया जाएगा ।

इनमें पुखरी , चनेड और चूड़ी स्थित अस्पताल शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज के लिए आवश्यक 4 ऑपरेशन थिएटरों में से दो ऑपरेशन थिएटर उपलब्ध हैं जबकि अस्पताल के नए ब्लॉक में दो और अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस ऑपरेशन थिएटर तैयार किए जाएंगे ।प्रोफेसर ओहरी ने बताया कि मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की टीम दिसंबर माह में चंबा का दौरा करेगी ।टीम के दौरे से पहले मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के मानको के अनुसार प्रबंध को अंतिम रुप दिया जाएगा ।

उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज शुरू हो जाने पर चंबा में चौबीसों घंटे बेहतरीन चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध होंगी। प्रोफेसर कोहली ने यह भी कहा कि मेडिकल कॉलेज शुरू हो जाने पर चंबा का मौजूदा क्षेत्रीय अस्पताल मेडिकल कॉलेज अस्पताल हो जाएगा और उसमें मल्टी स्पेशियलिटी चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध हो पाएंगी।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS