Jathia Devi Township
Photo: The Tribune


शिमला-
हिमाचल सरकार ने शिमला के समीप जाठिया देवी में एक स्मार्ट इंटेग्रेटिड टाऊनशिप विकसित करने के लिए सिंगापुर सरकार के साथ एक शुरूआती समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर आज यहां आयोजित बैठक में शहरी विकास, नगर नियोजन व आवास मंत्री सुधीर शर्मा की उपस्थिति में हिमुडा तथा एशियन पैसिफिक सिंगापुर एंटरप्राईज के बीच हुए हैं।

सिंगापुर सरकार की सिंगापुर कोऑप्रेशन एंटरप्राईज के प्रतिनिधियों तथा हिमुडा के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए सुधीर शर्मा ने कहा कि राज्य की राजधानी के समीप स्मार्ट एकीकृत टाऊनशिप का विकास सरकार की एक महत्वकांक्षी परियोजना है जो इस भारी जनसंख्या वाले शहर पर दबाव को कम करने में मददगार साबित होगा। उन्होंने कहा कि शिमला शहर की आबादी में 10 गुना वृद्धि हुई है। आरम्भ में यह शहर 25,000 की आबादी के लिए विकसित किया गया था। आबादी बढ़ने से भीड़ भाड़ की स्थिति उत्पन्न हुई है और अधोसंरचना का अत्याधिक उपयोग बढ़ा है। शहर के बाहर अत्याधुनिक सामाजिक, भौतिक, संस्थागत व आर्थिक बुनियादी सुविधायुक्त स्मार्ट एकीकृत टाऊनशिप विकसित करने के लिए यह उपयुक्त समय है।

उन्होंने कहा कि तीन राष्ट्रीय उच्च मार्गों से जुड़ा जुब्बडहटटी हवाई पटटी के समीप जाठिया देवी में इस नगर के विकास के लिए हिमुडा ने पहले ही 32 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण कर लिया है। इसके लिए सिंगापुर के अनुभवी विशेषज्ञांं की सेवाएं ली जाएंगी।

सुधीर शर्मा ने कहा कि इस परियोजना के लिए आज शुरूआती समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर हुए हैं, जिसे दोनों सरकारों के बीच विस्तृत परिचर्चा के उपरांत शीघ्र आगे बढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में ऐसी और आवासीय परियोजनाओं के लिए इस समझौता ज्ञापन के विस्तार की संभावनाओं का पता लगाने का प्रयास कर रही है।

उन्होंने कहा कि इस नये नगर के लिए योजना बनाने, विचारों का आदान-प्रदान तथा मुख्य बिंदुओं पर कार्य के लिए एक कार्य समूह का गठन किया गया है जिसमें दोनों सरकारों के प्रतिनिधि शामिल किए गए हैं।

शर्मा ने कहा कि नागरिकों के जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाने तथा सामाजिक भागीदारी सुनिश्चित बनाने, आर्थिक एवं पर्यावरण माहौल को प्रोत्साहित करने के मददेनजर राज्य सरकार भविष्य की योजनाओं के साथ-साथ मौजूदा मध्य वर्गीय शहरों के आधुनिकीकरण एवं पुनर्संरचना सहित स्मार्ट एकीकृत टाऊनशिप विकसित करने की दिशा में कार्य कर रही हैं।

उन्होंने कहा कि हिमुडा की आवासीय परियोजनाएं सोलन, कसौली सहित राज्य के अनेक अन्य स्थानों विकसित की गई हैं और इन परियोजनाओं को विकसित करते समय यह सुनिश्चित बनाया जा रहा है कि इनसे न केवल राज्य के लोगों बल्कि अप्रवासी भारतीयों सहित बाहर के लोगों की आवश्यकताएं भी पूरी हों। नये नगरों को मौजूदा नगरों के साथ जोड़ने तथा गतिशील बनाने पर भी बल दिया जा रहा है।

एशिया पैसिफिक के निदेशक केविन चोंग ने कहा कि सिंगापुर को-आप्रेशन एंटरप्राईज इस परियोजना में हिमुडा का सहयोग करने की इच्छुक है तथा नई टाउनशिप को कम लागत तथा एशियन अवधारणा के अनुरूप बेहतर ढंग से विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि टाउनशिप राज्य सरकार की अपेक्षाओं और इस पर्वतीय राज्य की भौगोलिक एवं अन्य परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए विकसित किया जाएगा।

अतिरिक्त मुख्य सचिव शहरी विकास, आवास एवं नगर नियोजन मनीषा नंदा ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में तेजी से शहरीकरण हो रहा है तथा गतिशीलता, जलापूर्ति, मल निकासी, सफाई इत्यादि आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए सरकार चरणबद्ध तरीके से और नगरों को विकसित करने पर विचार कर रही है।

उन्होंने कहा कि नगर नियोजन विभाग ने डिवेलपरों की सुविधा के लिए मानदंडों को सरल बनाया गया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश देश में ऑन-लाईन स्वीकृतियां प्रदान करने वाला पहला प्रदेश है। इसी प्रकार सभी आवेदनों की स्थिति का एक जगह पर पता लगाने के लिए एक मोबाईल एप भी शुरू की गई है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS