कथित बाउंसर्स ने हड़ताली शोंगटोंग मजदूरों से मारपीट कर उनके आवास किये आग के हवाले, क्षेत्र में तनाव का माहौल

0
441
Kinnaur laborers protest

शिमला- शौंगटौंग परियोजना क्षेत्र में रविवार को फिर खूनी संघर्ष हुआ, जिसमें इंटक से जुडे़ सात लोग घायल हुए हैं। घायलों को क्षेत्रीय अस्पताल रिकांगपिओ में भर्ती करवाया गया है। इस पूरे मामले में एक ओर इंटक यूनियन से जुड़े कुछ लोगों ने सीटू से संबंधित मजदूरों के खिलाफ रिकांगपिओ पुलिस थाना में मामला दर्ज करवाया है तो वहीं दूसरी और सीटू मजदूर यूनियन के लोगों ने भी इंटक यूनियन के मजदूरों पर उनके आवास जलाने व मारपीट करने का मामला दर्ज करवाया है।

रविवार को इस घटना के बाद इंटक के पदाधिकारियों और मजदूरों ने रिकांगपिओ पुलिस थाना का घेराव किया और सीटू से जुडे़ लोगों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने तथा परियोजना निर्माण कार्य में लगे मजदूरों को पुलिस सुरक्षा देने की मांग उठाई। उधर, सीटू यूनियन से जुड़े लोगों ने भी रिकांगपिओ पुलिस थाना में शिकायत दर्ज करवाई कि रविवार सुबह परियोजना की डैम साइट पर अपने कमरों में सो रहे सीटू के आठ मजदूरों पर इंटक से संबंधित लोगों ने पथराव किया। ऐसे में सीटू मजदूर वहां से भाग गए तो इंटक के कश्मीरी युवकों ने हमारे आवास को आग के हवाले कर दिया। घटनाक्रम के बाद पूरे परियोजना क्षेत्र में तनाव का माहौल है। पुलिस ने भी किसी बड़ी घटना की आशंका को देखते हुए यूनियन से जुडे़ लोगों को परियोजना क्षेत्र में धरना-प्रदर्शन करने से रोक दिया है।

सीटू पदाधिकारी ने जड़े गंभीर आरोप

सीटू के मजदूरों ने पटेल कंपनी के उप-ठेकेदारों पर आरोप लगाया है कि इन ठेकेदारों के कई मजदूरों ने रविवार को सीटू मजदूरों के कमरों पर पथराव करने के बाद आवास को ही आग के हवाले कर दिया। सीटू के महासचिव शक्ति कुमार सहित अन्य पदाधिकारियों ने बयान जारी कर कहा कि 4 अप्रैल, 2016 से श्रम विभाग ने शौंगटौंग परियोजना में मजदूरों की नई भर्ती में रोक लगाई है। इसके बावजूद कई उप-ठेकेदारों द्वारा हड़ताल के बीच जम्मू-कश्मीर के कई मजदूरों को भर्ती किया गया है। उन्होंने आरोप लगया कि रविवार सुबह जम्मू—कश्मीर के मजदूरों ने पहले मजदूर कैंप में पथराव किया, उसके बाद कमरों में आग लगा दी गई। इसक साथ ही कई ठेकेदारों ने मजदूरों के बहाने कथित बाउंसर लाए हैं ताकि हड़ताली मजदूरों के साथ मारपीट करके खौफ पैदा किया जा सके।

Photo: News Views Post

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS