भूख हड़ताल पर बैठा एचपीयू छात्र बेहोश, 60 दिन बाद भी प्रशासन का असंवेदनशील रवैया जारी

0
374

61वें दिन भी जारी रहा अनशन

शिमला- एचपी यूनिवर्सिटी में एसएफआई के अनशन पर बैठा छात्र चक्कर खाकर गिर पड़ा। इसे एचपीयू की डिस्पेंसरी में उपचार के बाद आईजीएमसी में भर्ती किया गया है। सोमवार सुबह अचानक इसकी तबीयत खराब हुई। यहां इसका उपचार जारी है।

HPU Student faint  during hunger strike

इसकी हालत स्थित है। छात्र अजय कुमार अर्थशास्त्र विभाग से है। छात्र के बेहोश होने के बाद गुस्साए कार्यकर्ताओं ने एचपीयू में जोरदार प्रदर्शन किया और वीसी पर संगठन की मांगों की अनदेखी का आरोप लगाया।

Students Protest HP University

हैरानी की बात है कि छात्र के बेहोश होने की खबर एचपीयू में फैलने के बाद वीसी और अन्य अफसर मौके पर नहीं पहुंचे। इससे संगठन के कार्यकर्ता गुस्सा गए। कुलपति कार्यालय के बाहर नारेबाजी शुरू कर दी। कुलपति से मिलने गए तो वो नहीं मिले। इस पर कार्यकर्ता कुलसचिव से मिलने पहुंचे।

जब तक मांगें नही मानते, तब तक जारी रहेगा आंदोलन

छात्र नेता नोवल ठाकुर और सचिव विपिन सहित अन्य एसएफआई नेताओं ने बताया कि कुलसचिव ने मांग मानने का आश्वासन जरूर दिया है, मगर कुलपति जान बूझ कर आम छात्रों की मांगों को लेकर लड़े जा रहे इस आंदोलन को हलके में ले रहे हैं।

इसे अपनी प्रतिष्ठा का सवाल बनाकर चल रहे हैं। नोवल ने कहा कि जब तक मांगें नहीं मानी जाती, तब तक एसएफआई का यह आंदोलन जारी रहेगा। इस बीच यदि किसी छात्र को कुछ होता है तो इसके लिए सिर्फ और सिर्फ कुलपति जिम्मेदार होंगे। उन्हीं की हठ के कारण आज छात्रों को परीक्षा के दिनों में दो दो दिन भूख हड़ताल पर बैठने पर मजबूर होना पड़ रहा है। नोवल ने कहा कि अनशन पर बैठ रहे छात्रों की तबीयत खराब होने उन्हें उल्टी आने और बेहोश होने की घटनाएं होने लगी है।

कुलपति मांगे मानने के बजाय विवि परिसर से गायब रह कर अपनी जिम्मेदारियों से भागने का प्रयास कर रहे है। उन्होंने कहा कि एक भी छात्र को यदि कुछ हुआ तो, एसएफआई उग्र हो आंदोलन पर उतरेगी, जिसके लिए कुलपति ही जिम्मेदार होंगे। संगठन का अनशन 61वें दिन भी जारी रहा।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS