एनजीटी का रोहतांग दर्रे पर अंतिम फैसला: अब 800 पेट्रोल और 400 डीजल वाहनों को अनुमति, स्टॉल व छोटे ढाबों पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध

1
1273
Rohtang Pass Ban

शिमला- यहां मनाली और रोहतांग दर्रे समेत अन्य पर्यटन-स्थलों पर सफाई व्यवस्था व पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली गतिविधियों पर पूर्ण प्रतिबंध को लेकर एनजीटी ने सोमवार को अपना अंतिम फैसला सुना दिया है। एनजीटी के इस फैसले में जहां साहसिक गतिविधियों को चलाने की सहमत्ति व्यक्त की गई है, वहीं खाने-पीने के स्टॉल व छोटे ढाबों पर अभी भी पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा रहेगा।

एनजीटी के इस फैसले को कई विशेषज्ञ जन-हितैषी मान रहे हैं। सोमवार को दिल्ली में एनजीटी के अध्यक्ष स्वतंत्र कुमार की खण्डपीठ ने अपने फैसला सुनाते हुए कहा है कि रोहतांग के लिए अब 800 पेट्रोल और 400 डीजल वाहनों को पर्यटन गतिविधियों के लिए भेजने की अनुमति दी है, जबकि पिछले फैसलों में इनकी संख्या 1000 पेट्रोल तथा 500 डीजल थी। इसी प्रकार सोलंगनाला और मढ़ी में पैराग्लाईडिंग को भी अनुमति दे दी है, लेकिन सफाई व्यवस्था का ध्यान रखने को भी कहा है।

एनजीटी ने 50 चार पहिया स्नो मोबाइल और 50 एटीवी को चिन्हित स्थान मढ़ी, ब्यासनाला, सागूफॉल और गुलाबा में चलाने की अनुमति दी है।

एनजीटी ने 200 घोड़ों को भी चिन्हित रूट पर चलाने की भी अनुमति दी है, बशर्ते घोड़ों से फैलने वाली गंदगी साफ की जाए। आदेश की पालना न करने पर पांच हजार जुर्माना घोड़े के मालिक को देना पड़ेगा।

रोहतांग टॉप पर फोटोग्रॉफी और कुल्लुवी ड्रेस को फोटोग्रॉफी के लिए किराये के लिए देने की अनुमति दी है। इसके अलावा किसी भी तरह की पर्यटन गतिविधियां कहीं भी किसी भी स्थान पर नहीं होगी।

Picture: Motoroids

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

1 COMMENT

Comments are closed.