शिमला कूड़ा संयंत्र में दूसरी बड़ी आग, धुएं, बदबू के कारण नज़दीकी गावों में जीना हुआ दूभर

0
362

शिमला-भरयाल स्थित नगर निगम के कूड़ा संयंत्र में बुधवार सुबह फिर से आग लग गई। इससे संयंत्र के साथ लगते कई गांव धुएं में गुम हो गए। यह धुआं करीब पांच किलोमीटर के दायरे में पूरी तरह से फैल गया। कूड़े से निकलने वाले गंदे धुएं की बदबू के कारण लोगों का आसपास से निकलना भी दूभर हो गया।

Bharyal garbde Plant Tara Devi

संयंत्र के साथ लगते कई गांव के किसान अपने खेतों में काम तक नहीं कर पाए। गौर रहे कि संयंत्र के आसपास लगभग चार हजार की आबादी अपना जीवन बसर कर रही है। दिनभर लोगों का सांस लेना मुश्किल हो गया है।

हालांकि आग लगने के कारण का अभी तक पता नहीं चल पाया है। स्थानीय लोगों की माने तो यह अाग किसी ने जानबूझ कर लगाई है। बीते वर्ष जुलाई में भी इस संयंत्र में आग लगाई गई थी बुधबार रात लगी संयंत्र की सूचना फायर ब्रिगेड को सुबह करीब 7 बजे मिली।

bharyal Shimla

उसके बाद दिनभर आग बुझाने के लिए जद्दोजहद चलती रही। संयंत्र में लगी आग के बाद दमकल विभाग के तीन फायर टेंडर और कई दमकल कर्मचारी आग को बुझाने के लिए सुबह से जुटे हैं। इसके अलावा नगर निगम प्रशासन भी आग बुझाने के लिए दमकल विभाग को अपने दो टैंकरों के माध्यम से पानी की आपूर्ति में सुबह से जुटा है।

Tara Devi Shimla

दमकल विभाग के अधिकारियों का कहना है कि आग काफी फैल चुकी है। कूड़े में लगी आग की वजह धुएं और बदबू के माहौल में दमकल विभाग के कर्मचारियों को दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है। संयंत्र में लगे कूड़े के ढेर में लगी आग की वजह से पुरे क्षेत्र धुआं फैला हुआ है। इसके अलावा इस आग की वजह से ही बदबू भी फैल रही है जिससे भी लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

भरयाल कूड़ा संयंत्र में आग की यह दूसरी घटना है। संयंत्र में इससे पहले भी आग लग चुकी है। जिसको लेकर निगम प्रशासन की ओर से कूड़ा संयंत्र के संचालक के ऊपर एफआईआर दर्ज करवाई गई थी। कूड़ा संयंत्र में लगने वाली इस आग की वजह से पर्यावरण के नुकसान के साथ निगम की संपत्ति को भी लाखों का नुकसान उठाना पड़ता है।

हमें सुबह सात बजे सूचना मिली है कि भरयाल कूड़ा संयंत्र में फिर से आग लगी गई है। आग लगने के कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है। निगम की ओर से अज्ञात लोगों पर एफआईआर भी दर्ज करवाई गई है। सुबह से लेकर हमारे टैंकर अाग बुझाने के लिए पानी की सप्लाई कर रहे हैं।

सोनम नेगी, स्वास्थ्य अधिकारी नगर निगम शिमला

पिछले साल से बंद है संयंत्र

16 करोड़ रुपए की लागत से तैयार यह कूड़ा संयंत्र नगर निगम और ठेकेदार का सही तालमेल न होने की वजह से पिछले वर्ष से बंद चल रहा है। कूड़ा संयंत्र में लगे कूड़े के ढेरों में सैकडों टन कूड़ा पड़ा हुआ है।

हजारों से अधिक आबादी प्रभावित:बलराज

टुटू मजठाई पंचायत के पूर्व प्रधान बलराज सिंह ने कहा कि आग लगने से रामपुर व टुटू मजठाई पंचायत के तीन गांव की हजारों से अधिक आबादी पूरी तरह से प्रभावित हो रही हैं। उन्होंने कहा कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशों की पूरी तरह से अवहेलना की जा रही है। स्थानीय लोगों को अपनी जमीन में कार्य करना भी मुश्किल हो गया है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS