एक करोड़ के चक्कर में 15 लाख लुटा बैठा रिटायर्ड इंजीनियर

0
317

शिमला- रिटायर्ड एग्जीक्यूटिव इंजीनियर एक करोड़ के बोनस के लालच में आकर 15 लाख रुपए गंवा बैठा। धोखाधड़ी करने के आरोप में पुलिस ने एक शख्स को गिरफ्तार किया है। मामला हिमाचल के शिमला जिले के संजौली का है। एक करोड़ के बोनस का झांसा देकर रिटायर्ड एग्जीक्यूटिव इंजीनियर से 15 लाख ऐंठने के आरोप में एक शख्स को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान दीपक शर्मा निवासी सदर बाजार करनाल हरियाणा के तौर पर हुई है।

आरोपी तीन दिन के पुलिस रिमांड पर है। आरोपी एक निजी कंपनी में सेल्स मैनेजर बताया जा रहा है। यह एक पूरा गिरोह है जो कॉल कर लोगों को झांसा देकर पैसे ऐंठते हैं। रिटायर्ड अधिशासी अभियंता ने रिलायंस कंपनी की एक इंश्योरेंस पालिसी ले रखी है। इन्हें एक कॉल आया और पालिसी के बारे में पूछने लगे।

शिकायतकर्ता को लगा कि यह कॉल इंश्योरेंस कंपनी से आ रहा है। उन्होंने कहा कि पालिसी की स्टेटमेंट उन्हें समय पर नहीं मिल रही है। इसके बाद शातिरों ने इन्हें झांसे में लिया और कहा कि आप ने जो पालिसी ले रखी है उसमें एक करोड़ का बोनस बनता है।

रिटायरमेंट से मिले सारे पैसे लुटा बैठा

यह रकम आपको दे रहे हैं लेकिन इससे पहले टैक्स के तौर पर पैसा देना होगा। हामी भरने के बाद शातिरों ने उनसे किस्तों में अलग-अलग खातों में पैसा डलवाने के लिए कहा। यह सिलसिला जुलाई से अक्तूबर तक चलता रहा। इस दौरान एग्जीक्यूटिव इंजीनियर सेवानिवृत्ति के समय मिले सारे पैसे लुटा चुके थे। इसके बाद शातिरों ने मोबाइल नंबर भी बंद कर दिए। इस मामले की जानकारी संजौली पुलिस को दी और मुकदमा दर्ज हुआ।

Sanjauli-shimla-fraud

जांच में पाया गया कि पंद्रह लाख रुपये अलग-अलग बैंक खातों में जमा करवाया गया था। आरोपी दीपक शर्मा के खाते में साढ़े आठ लाख रुपये जमा करवाए गए थे। शुरुआती पूछताछ में दीपक ने कुछ और लोगों के नामों का भी खुलासा किया है। इस दिशा में पुलिस जांच कर रही है। उधर इस बारे में एसपी शिमला डी डब्ल्यू नेगी ने कहा कि काफी मेहनत के बाद संजौली पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है। इससे पूछताछ चल रही है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS