राजधानी शिमला में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया 66वां हिमाचल दिवस

0
406

“शिमला में हिमाचल दिवस के अवसर पर जिला स्तरीय समारोह आयोजित किया गया इसके साथ ही 66वां हिमाचल दिवस के मौके पर राज्य एवं जिला स्तर पर समारोह आयोजित किए गए जिसमें ध्वजारोहण ए मार्च पास्ट एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन ए समारोहों के मुख्य आकर्षण रहे”

आज ही के दिन 15 अप्रैल 1948 को 30 पहाड़ी रियासतों के विलय से हिमाचल प्रदेश अस्त्तिव में आया था और आज प्रदेश भर में 66वां हिमाचल दिवस पूरे पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर राज्य एवं जिला स्तर पर समारोह आयोजित किए गए जिसमें ध्वजारोहण, मार्च पास्ट एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन, समारोहों के मुख्य आकर्षण रहे!

वहीं राजधानी शिमला में 66वां हिमाचल दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। ऊर्जा मंत्री सुजान सिंह पठानिया ने शिमला के ऐतिहासिक रिज़ मैदान पर आयोजित जि़ला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता की। उन्होंने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और पुलिस, होमगार्ड तथा एनसीसी द्वारा प्रस्तुत भव्य मार्च पास्ट की सलामी ली। हिमाचल दिवस के इस अवसर पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया।

पठानिया ने इस अवसर पर कहा कि प्रदेश में चिन्हित 27436 मैगावाट जल विद्युत क्षमता के दोहन के लिए प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस वित्त वर्ष में 1918 मैगावाट जल विद्युत क्षमता के दोहन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। घरेलू उपभोक्ताओं को सस्ती दरों पर बिजली उपलब्ध करवाने के लिए 270 करोड़ रुपये का उपदान दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वितरण संरचना को सुदृढ़ करने पर 363 करोड़ रुपये व्यय होंगे, ताकि उपभोक्ताओं को निर्बाध विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित हो सके।

साथ ही उन्होंने कहा कि इस वित्त वर्ष में 475 किलोमीटर वाहन योग्य सड़क और 40 किलोमीटर जीप योग्य सड़कांे का निर्माण किया जाएगा।

इस अवसर पर विधायक सुरेश भरद्वाज, नगर निगम शिमला के महापौर संजय चैहान, सचिव कार्मिक एस. के. बी. एस. नेगी तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS