हिमानी चामुण्डा मंदिर को धार्मिक पर्यटक स्थल के रूप किया जाएगा विकसित

0
519
chamunda-mandir

himani-chamunda-mandir-kangra

“हिमानी चामुण्डा मंदिर को धार्मिक पर्यटक स्थल के रुप में विकसित करने से और श्रीचामुण्डा नन्दिकेश्वर धाम से हिमानी चामुण्डा को सड़क सुविधा से जोड़ने के बाद जहां इस धार्मिक स्थल पर हर वर्ष हजारों श्रद्धालु 12 किलोमीटर की पैदल यात्रा कर यहां पहुंचते थे वहीं सड़क सुविधा उपलब्ध होने पर यहां पर्यटकों की संख्या में वृद्धि होने से जिससे स्थानीय लोगों को स्वरोज़गार के बेहतर अवसर मिलेंगे”

कांगड़ा जिले में स्थित हिमानी चामुण्डा मंदिर में हर साल हजारों की संख्या में श्रद्धालु 12 किलोमीटर का पैदल सफर तय करके इस धार्मिक स्थल पर आते है और इस स्थल की प्राकृतिक सुदंरता को करिब से देखते है ।पहाड़ो पर बसा ये धार्मिक स्थल अपनी प्राकृतिक सुदंरता के लिए भी जाना जाता है और अब सरकार द्वारा हिमानी चामुण्डा मंदिर को वैष्णो देवी की तर्ज पर धार्मिक पर्यटक स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि श्रीचामुण्डा नन्दिकेश्वर धाम से हिमानी चामुण्डा को सड़क सुविधा से जोड़ा जाएगा ए जिसके लिए लोक निर्माण विभाग को सर्वेक्षण एवं विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं।

himani-chamunda-mandir-mountains

इस धार्मिक स्थल पर हर वर्ष हजारों श्रद्धालु 12 किलोमीटर की पैदल यात्रा कर यहां पहुंचते हैं क्योंकि इस धार्मिक स्थल तक पहुचने के लिए किसी भी तरह की सड़क सुविधा अभी तक नहीं दी गई है लेकिन अब इस और सरकार द्वारा कदम उठाए जा रहे है और इस धार्मिक स्थल को सड़क सुविधा के साथ जोड़ने पर योजना बनाई जा रही है।

जहां एक ओर सड़क सुविधा उपलब्ध होने पर इस धार्मिक पर्यटक स्थल पर पर्यटकों की संख्या में वृद्धि होगी वहीं दूसरी और इससे स्थानीय लोगों को स्वरोज़गार के बेहतर अवसर भी मिलेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांगड़ा जिले के चामुण्डा से चम्बा जिले के होली के मध्य सुरंग का निर्माण सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है और इस कार्य के लिए भी लोक निर्माण विभाग को आवश्यक सर्वेक्षण एवं डीपीआर तैयार करने के निर्देश दिये गये हैं। सुरंग के बनने से चम्बा और धर्मशाला व पालमपुर के बीच की दूरी 270 किलोमीटर कम होगा तथा लोगों को वर्षभर आवागमन की सुविधा मिलेगी।

वहीं वीरभद्र सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार ने बजट में शिमला , भुंतर और कांगड़ा में हवाई उड़ानों को प्रोत्साहित करने के लिये एवियेशन टरबाइन फयूल पर वैट दर को 5 प्रतिशत से घटाकर एक प्रतिशत करने का प्रस्ताव रखा है। इससे प्रदेश में हैलीटैक्सी सेवाएं आरम्भ करने के लिये निजी कम्पनियां निवेश के लिए आगे आएंगी।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS