शिमला शहर में सीसीटीवी कमेरें करेगें महिलाओं की सुरक्षा

0
289
CCTV-camera-in-Himachal-2

CCTV-camera-in-Himachal-2

“महिलाआंे के साथ छेड़खानी की वारदातों को रोकने के लिए शिमला पुलिस सीसीटीवी का सहारा लेगी। शिक्षण संस्थानों , बजारों और सुनसान सड़को पर मनचलों पर नजर रखेगी तीसरी आंख”

देश भर में महिलाओं के प्रति बढ़ते क्राइम को मददेनजर रखते हुए शिमला पुलिस ने शहर में महिलाओं की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए शिमला शहर के शिक्षण संस्थानों , बजारों और शहर की सूनसान सड़को पर असमाजिक तत्वों पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने की बात कही है।शहर में महिलाओं के साथ बढ़ती हुई छेड़खानी की घटनाओं पर रोक लगाने के लिए पुलिस इस तकनीक का सहारा ले रही है जिसके लिए शहर के कई इलाकांे और शिक्षण संस्थानों में 40 से भी ज्यादा सीसीटीवी कैमरें लगाएगी जिससे युवतियों और महिलाओं के साथ छेडछाड़ करने वाले मनचलों पर नजर रखी जाएगी ।

करिब 3 साल पहले भी शिमला पुलिस ने इस तरह की तकनीक का प्रस्ताव तैयार कर सरकार को भेजा था , पर उस प्रस्ताव को कुछ खामियों के चलते अमल में नहीं लाया जा सका , लेकिन इस बार नए तरिके से प्रस्ताव को बनाया गया है जिस पर पुलिस को हरी झंडी मिलने की उम्मीद है। प्रस्ताव में शिमला पुलिस ने शहर के 42 इलाकों सहित शिमला के सभी पुलिस थानों में भी सीसीटीवी कैमरे लगाए जाए की निति बनाई है ।

एसपी शिमला अभिषेक दुल्लर ने कहा कि वो इस बात को मानते है कि पुलिस स्टेशन भी महिलाओं के लिए सूरक्षित नहीं है जिसको नजर में रखते हुए प्रस्ताव में शहर के पुलिस स्टेशनों में भी सीसीटीवी कैमरा लगाने की मांग को रखा गया है ताकि पुलिस स्टेशन में महिलाओं के साथ दुरव्यवहार करने वाले पुलिस कर्मियों पर नकेल कसी जा सके।

उन्होंने कहा कि शहर में महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की घटनाए बढ़ती जा रही है , और पुलिस जवानों की कम तादात के चलते हर जगह पुलिस की तैनाती कर पाना मुश्किल है , जिसके लिए शहर के शिक्षण संस्थानों और भीड़भाड़ वाले इलाकों के साथ-साथ पैदल मार्गों में भी सीसीटीवी कैमरों को स्थापित करने के बारे में विचार किया जा रहा है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS