अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2017: शिमला के युवाओं ने दिया समानता और सशक्तिकरण का सन्देश

0
747
women-empowerment-in-india

शिमला- महिला के सम्मान का दिन उनकी ताकत को पहचानें का दिन उनकी शक्ति को उभारने का दिन 8 मार्च का दिन अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस महिलाओं को समर्पित किया गया है। इस दिन पूरे विश्व में महिलाओं को सम्मान दिया जाता है। विश्व के अलग-अलग हिस्सों में वुमेन्स डे के मौके पर कार्यक्रमों को आयोजन किया जाता है।

Gender-Equality

वहीं अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर हर साल यूनाइटेड नेशन द्वारा एक थीम दी जाती है। इस बार यूनाइटेड नेशन ने “बी बोल्ड फॉर चेंज थीम” (Be Bold For Change) रखी है। इस थीम के पीछे मकसद है जेंडर इक्वालिटी (Gender Equality) को बढ़ावा मिले। इस थीम के जरिए जेंडर इक्वालिटी के लिए लोग प्रोत्साहित हो।

international-women's-day

बी बोल्ड फॉर चेंज थीम (Be Bold For Change) के साथ महिलाओं और लड़कियों को सशक्त बनाना है और उन्हें पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करना है। इसके अलावा नई तकनीकों के इस्तेमाल के लिए महिलाओं को बढ़ावा मिले। कई महिलाए ऐसी भी हैं जो घर पर 24 घंटे काम करती है लेकिन उन्हें कोई पहचान नहीं मिल पाती है उन्हें भी पहचान मिलनी चाहिए। क्योंकि कहीं न कहीं उनके अप्रत्यक्ष सहयोग से समाज को योगदान मिल रहा है। कई बार जॉब करने वाली महिलाओं के साथ उस जगह पर हिंसा जैसी घटना हो जाती है उन सबको रोकना भी अहम मकसद है।

Shimla-Youth-Celebrate-International-Wome's-day

वहीँ अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर हिमाचल की युवा पीढ़ी ने लिखित संदेश के जरिये अपनी दिल की बात कही और यह बताने का प्रत्यन किया कि पुरुष महिलाओं के बारे क्या सोचते हैं और महिलाएं पुरुषों के बारे में और खुद के बारे में क्या सोचती है। #हमसमानहैं (#wearequeal) इस हैश टैग के जरिये हिमाचल की युवा पीढ़ी और शिमला घूमने आए पर्यटकों ने भी महिलाओं के प्रति और अपने जीवन साथी के प्रति अपनी प्रतिक्रियाएं लिख कर जाहिर की।

international-women's-day-celebrating-in-Himachal

हर साल हम 8 मार्च को विश्व की प्रत्येक महिला के सम्मान में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाते हैं। लेकिन महिला दिवस मनाए जाने का इतिहास हर कोई नहीं जानता। केवल हर साल 8 मार्च के दिन ही महिलाओं को सम्मान देना सही नहीं है।महिलाएं हर समय सम्मान की हक़दार और भागीदार है।

Shimla-Girls

जानिए महिला दिवस मनाने का इतिहास

8 मार्च को मनाए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सम्पूर्ण विश्व की महिलाएं देश, जात-पात, भाषा, राजनीतिक, सांस्कृतिक भेदभाव से परे एकजुट होकर इस दिन को मनाती हैं। साथ ही पुरुष वर्ग भी इस दिन को महिलाओं के सम्मान में समर्पित करता है।

international-women's-day-2017

दरअसल इतिहास के अनुसार समानाधिकार की यह लड़ाई आम महिलाओं द्वारा शुरू की गई थी। प्राचीन ग्रीस में लीसिसट्राटा (Lysistrata) नाम की एक महिला ने फ्रेंच क्रांति के दौरान युद्ध समाप्ति की मांग रखते हुए इस आंदोलन की शुरूआत की, फारसी महिलाओं के एक समूह ने वरसेल्स में इस दिन एक मोर्चा निकाला, इस मोर्चे का उद्देश्य युद्ध की वजह से महिलाओं पर बढ़ते हुए अत्याचार को रोकना था।

we-are-equal-international-womens-day

सबसे पहला महिला दिवस अमेरिका में सोशलिस्ट पार्टी के आह्वाहन पर 28 फरवरी 1909 को मनाया गया था। अमेरिका में उस समय महिला दिवस का उत्सव मनाए जाने के पीछे महिलाओं को वोट देने का अधिकार हासिल करना था क्योंकि तत्कालीन परिस्थियों में अधिकांश देशों में महिलाओं को वोट देने का अधिकार नहीं था। इस उत्सव की महत्ता तब और बढ़ गई जब रूस की महिलाओं ने 1997 में रोटी और कपड़े के लिए वहां की सरकार के खिलाफ़ आन्दोलन छेड़ दिया। जब यह आन्दोलन शुरू हुआ था तो उस समय वहां जुलियन कैलेण्डर के मुताबिक रविवार 23 फ़रवरी का दिन था जबकि दुनिया के बाकि के देशों में ग्रेगेरियन कैलेण्डर का प्रयोग किया जाता था जिसके अनुसार 8 मार्च का दिन था। इसलिए 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस(International Women Day) मनाया जाने लगा।

Be-Bold-for-Change-Women's-day-theme

भारत में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

भारत में भी अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का उत्सव महिलाओं की उपलब्धियों और उनका सम्मान करने के रूप में मनाया जाता है। लेकिन भारतीय संस्कृति के पुरातन नारी को जो स्वतंत्रता प्राप्त थी क्या आज भी उतनी ही सवतंत्रता उन्हें प्राप्त है? महिला दिवस पर भाषण देना तो आसान है लेकिन क्या इस पुरुष प्रधान समाज में महिलाओं को वह सम्मान प्राप्त है जो उसका अधिकार है।

International-Women-Day-celebrating-in-India

इतिहास गवाह है कि भारतीय नारी पुरुष को प्रतिष्ठा और उपलब्धि के सर्वोच्च शिखर पर आरूढ़ करने के लिए स्वयं को भी दाव पर लगा दिया करती है। नारी के इसी अभिनव व्यक्तित्व और कृतित्व को लक्ष्य कर कही गयी यह उक्ति एक सर्वमान्य सत्य बनकर स्थापित हो गई है कि प्रत्येक पुरुष के सफलता में एक स्त्री का हाथ होता है।

international-women's-day-2017-1

गूगल ने डूडल के जरिए किया महिलाओं को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस समर्पित

इस खास दिन को दुनिया का बड़ा सर्च ईंजन गूगल (Google) अपने ही अंदाज में सेलिब्रेट कर रहा है। गूगल ने डूडल (Doodle) के जरिए दुनिया की महिलाओं के सशक्तिकरण, शिक्षा और विश्व में उनके योगदान को याद कर रहा है। मंगलवार रात जैसे ही घड़ी की सूई 12 पर पहुंची अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस को समर्पित डूडल गूगल के होम पेज पर आ गया। इस डूडल में 8 तस्वीरें लगाई गई हैं, या यूं कहें कि इस पिक्चर गैलरी बनाई गई है। तस्वीरों में महिला के चित्रकार, शिक्षक, गायक, अंतरिक्ष यात्री, डॉक्टर, डांसर जैसे रूप में दर्शाया गया है।

International Women's Day 1
चित्र: गूगल

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS