hp-cm-convoy

बिलासपुर- हिमाचल प्रदेश के शिक्षा मंत्री वीरभद्र सिंह पिछले कल बिलासपुर जिला के कुठेड़ा में कई घोषणाओं के बाद वहां मौजूद लोगों की समस्याएं सुनने में व्यस्त हो गए। लेकिन इस दौरान प्रशासन ने बीच सड़क पर मुख्यमंत्री के काफिले की सारी गाडिय़ां बीच सड़क में खड़ी कर दीं। शाम करीब सवा 3 बजे पूरा ट्रैफिक रोक दिया गया क्योंकि काफिले की गाडिय़ां बीच सड़क में पार्क थीं।

वैसे तो आम जनता कई सालो कई इस वीआईपी कलचर से ग्रस्त है लेकिन इस बार स्कूल से छुट्टी कर स्कूल बस में सवार भूख से बिलखते बच्चे इस वीआईपी ड्रामे से ग्रस्त हुए। जनता की परेशानी को सुनने वाले मुख्यमंत्री आम जनता की ही परेशानी बन गए।

विडियो

जानिए कैसे लगा मुख्यमंत्री के काफिले की वजह से जाम

लाल बत्ती वाली गाड़ियां सायरन बजाते हुए आईं। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह नीचे उतरे और बिलासपुर जिला के कुठेड़ा में लोगों की समस्याएं सुनने में व्यस्त हो गए। उधर, प्रशासन ने मुख्यमंत्री के काफिले की सारी गाडिय़ां बीच सड़क में खड़ी कर दीं। शाम करीब सवा 3 बजे पूरा ट्रैफिक रोक दिया गया क्योंकि काफिले की गाडिय़ां बीच सड़क में पार्क थीं।

करीब 3 घंटे तक स्कूल के छोटे-छोटे बच्चे भूख से बस में ही बिलखते रहे और प्रशासन असंवेदनशील बना रहा। कोई गाड़ी गुजर नहीं सकी क्योंकि सड़क ही सरकारी पार्किंग बन गई। इधर स्कूल से छुट्टी कर घर जाने का इंतजार कर रहे बच्चे परेशान रहे तो उधर, उनके मां-बाप। मगर कर भी क्या सकते हैं अब सबको इस बात का इंतजार था कि कब सरकारी कार्यक्रम खत्म हो और ट्रैफिक को रास्ता मिले।

करीब 3 घंटे के बाद जब कार्यक्रम खत्म हुआ और मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह का काफिला वहां से निकला, उसके बाद ही स्कूल बसें वहां से निकल पाईं। अब इस घटना की पूरे इलाके में चर्चा है। लोग प्रशासन की व्यवस्था पर सवाल उठा रहे हैं। लोगों को कहना है कि क्या सीएम के कार्यक्रम के लिए लोगों की सहूलियत का ध्यान नहीं रखा जाना चाहिए।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS