Brijeshwari Devi Baag Construction Scam
फोटो: जागरण

कागड़ा- माँ बज्रेश्वरी देवी आपके बाग का कोई माली नहीं है। कोई नहीं सुनता और कोई नहीं देखता कि माँ का बाग बदहाल है। किसी जमाने फल-फूलों से भरा रहने वाला बाग न केवल हरा-भरा था बल्कि इसके तालाबों में भी जल रहता था। वक्त के बदलते परिवेश में आज न तो फल है और न फूल हैं। तालाब भी कबके सूख चुके हैं। यहा बनाए तालाब शौचालय का काम दे रहे हैं। खुले में शौचमुक्त अभियान को इससे बड़ा आईना शायद नहीं होगा कि बाग में खुले में शौच हो रही है।

बताते हैं कि माता के बाग को संवारने का काम पूर्व मंत्री चौधरी विद्यासागर ने शुरू किया था। उस वक्त कृषि विकास मंत्री रहते चौधरी विद्यासागर ने बाग के लिए कुछ तालाब बनाए थे। उस समय बाग में काफी काम किया गया। यहां चारदीवारी व कृत्रिम तालाब सहित अन्य कार्य शुरू हुए लेकिन इसके बाद सरकार बदल गई और काम भी ठप हो गए। इसके बाद माता के बाग की सुध लेने वाला कोई नहीं दिखा। वर्तमान में बाग को लेकर न तो पंचायत संवेदनशील है और न मंदिर ट्रस्ट संवेदनशीलता दिखा रहा है। यह संवेदनहीनता बाग के आसपास की जनता में देखी जा रही है। फाइलों में ही माता का बाग संवारा जा रहा है। फाइलों में ही बाग से भाग उखाड़ी जा रही है और फाइलों में ही इसे व्यवस्थित किया जा रहा है। जमीनी हकीकत इन सब बातों से परे है। मंदिर प्रशासन ने अभी तक बाग के सुंदरीकरण के लिए कोई भी योजना नहीं बनाई है और न ही कोई ऐसा प्रावधान किया है।

मंदिर प्रशासन बाग की देखरेख करता है लेकिन बाग को लेकर अभी कोई योजना नहीं है। स्थानीय विधायक पवन काजल बाग को लेकर योजना बना रहे है इस बारे में भी जानकारी नहीं है।’

पवन बड़ियाल, बज्रेश्वरी माता मंदिर अधिकारी

बाग को संवारने की जिम्मेदारी मंदिर ट्रस्ट की है। यह मंदिर ट्रस्ट के अधीन है लेकिन इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। भाग उखाड़ो अभियान के तहत पंचायत सदस्यों ने भांग उखाड़नी चाही थी लेकिन मंदिर प्रशासन ने पहले खुद ही भाग उखाड़ने की बात की थी। मंदिर प्रशासन के कर्मियों ने गेट के पास फोटो खींचे और लौट गए। इसके बाद यहा कोई भी सफाई अभियान नहीं चला। पंचायत ने यहा पार्क बनाने के लिए विधायक से बात की है लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ है।’

किरणबाला प्रधान, हलेड़कला

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS