बंदरो का निर्यात नही, कांग्रेस सरकार भ्रष्ट मंत्रियों और अपराधियों को प्रदेश से निर्यात करे

0
207
Himachal Congress vs Himachal BJP

प्रदेश सरकार के ‘‘समग्र विकास’’ के दावे पूरी तरह से खोखले हैं । कांग्रेस सरकार के इस कार्यकाल में ‘‘समग्र विकास’’ केवल कांग्रेस नेताओं और असमाजिक तत्वों का हुआ है। हमेशा की भांति सत्ताधारियों में आते ही कांग्रेस की नीति और नियम दोनों बदल जाते है। विपक्ष में रहते हुए ‘‘कांग्रेस का हाथ – गरीब के साथ’’ का नारा देने वाली कांग्रेस की नीति अब ‘‘कांग्रेस का हाथ – अपराधियों के साथ’ है। ये आरोप लगायें हैं
भाजपा मीडिया प्रमुख एवं प्रदेश सचिव प्रवीण शर्मा

प्रवीण शर्मा ने कहा कि शुक्रवार को जिला उना में नकाबपोसों द्वारा युवक को गोली मारने की घटना, पांवटा में चाकू की नोक पर डाक्टर से लूटपाट, अम्ब में आबकारी विभाग की टीम पर हमला व मैहतपुर में पांच वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म की कोशिश जैसी घटनाओं ने साबित कर दिया है कि प्रदेश में कानून व्यवस्था का जनाजा निकल गया है। असमाजिक तत्वों को सत्ताधारियों के संरक्षण के चलते अपराधियों में कानून का भय खत्म हो गया है।

कि कांग्रेस राज में अपराधों की संख्या में डेढ गुणा वृद्धि हुई है। इस समय अवधि में अपराधिक घटनाओं के मामलें में हिमाचल देश भर में ‘‘समग्र विकास’’ करते हुए 20वें स्थान से उछलकर 15वें स्थान पर आ गया है। वर्ष 2012 में प्रदेश में एक लाख व्यक्तियों पर अपराधिक घटनाओं के मामले 182 थे जो अब बढ़कर 196 हो गए हैं। प्रदेश मंे पुलिस विभाग का काम सत्ताधारियों की जी हजूरी, नेताओं की सुरक्षा व ट्रैफिक के चालान काटना भर रहा गया है।

भाजपा सचिव एवं मीडिया प्रमुख ने कहा कि प्रदेश में व्याप्त किसी भी समस्या के प्रति कांग्रेस की सोच, शब्द और समाधान हमेशा नकारात्मक रहते हैं । बन्दरों को निर्यात करने की बात करने वाले कांग्रेस सरकार के मंत्रियों को चाहिए कि वह अपराधियों (वन माफिया, खनन माफिया, भू-माफिया, शराब माफिया) को प्रदेश से निर्यात करने के बारे में सोचे इससे श्रय मिलेगा, वन भी सुरक्षित होंगे और प्रदेश में कानून व्यवस्था भी बनी रहेगी।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS