मुख्यमंत्री की कुल्लू जिलाधीश पर निम्न स्तरीय टिप्पणियां और तबादले के आदेश सरासर अवांछनीय, प्रदेश में जंगलराज: भाजपा

0
482
DC Kullu Transfer orders

टायर्ड और रिटायर्ड अधिकारियों को अहम पदो पर सुशोभित किया गया है और उनकी शह पर कानून का पालन और सम्मान करने वाले अधिकारियों को प्रताड़ित किया जा रहा है।

शिमला- मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पर भाजपा नेताओं ने आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री प्रदेश को रजवाड़ाशाही की तर्ज पर चला रहे हैं। उनका व्यक्गित अहम प्रदेश हितों पर भारी पड़ रहा है। व्यक्तिगत अहम की संतुष्टि न होने पर जिस तरह उन्होनें कुल्लू के जिलाधीश पर निम्न स्तरीय टिप्पणियां की और उनके तबादले के आदेश जारी किए वह सरासर अवांछनीय था। भाजपा ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री को इस तरह की टिप्पणियां शोभा नहीं देती है।

मुख्यमंत्री हंसराज चौहान के खिलाफ सोमवार को जनसभा में ही बरस पडे़ थे। रघुनाथ मंदिर के अधिग्रहण पर प्रशासनिक ढील से खफा नजर आए मुख्यमंत्री ने था कहा कि, ‘ऐसे अधिकारियों को अहम पदों पर बने रहने का हक नहीं है जो सरकारी आदेशों का पालन न करवा सकें।’ उन्होंने अधिकारी के खिलाफ भरपूर गुस्सा दिखाया। इस पूरे प्रकरण को रघुनाथ मंदिर अधिग्रहण की प्रक्रिया से जोड़कर देखा जा रहा है। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह सोमवार को बंजार में लोगों को संबोधित कर रहे थे।

भाजपा ने कहा कि प्रदेश में कानून नहीं बल्कि जंगलराज चल रहा है। टायर्ड और रिटायर्ड अधिकारियों को अहम पदो पर सुशोभित किया गया है और उनकी शह पर कानून का पालन और सम्मान करने वाले अधिकारियों को प्रताड़ित किया जा रहा है। इससे ईमानदार अफसरशाही में घोर असंतोष व निराशा का वातावरण है। ईमानदार व कर्तव्यनिष्ठ अधिकारियों के बेवजह तबादलों का संज्ञान माननीय उच्च न्यायालय भी ले चुका है। बावजूद इसके प्रदेश सरकार का तानाशाही रवैया बरकरार है। इसका सीधा असर प्रदेश के विकास पर पड़ रहा है।

भाजपा के नेताओं का कहना है कि सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि किन परिस्थ्तिियों और कारणो के चलते जिलाधीश कुल्लू के तबादले के आदेश सार्वजनिक मंच से करने पड़े और प्रदेश की जनता यह भी जानना चाह रही है कि आखिरकार क्या कारण है कि प्रदेशभर में ईमानदार अधिकारियों को प्रताड़ित किया जा रहा है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS