hpu-summerhill

शिमला -विश्वविद्यालय गैर शिक्षक कर्मचारी संघ की मासिक बैठक मे कर्मचारियों के विभिन्न मांगो को लेकर चर्चा की गई। इस मे गैर शिक्षक कर्मचारी संगठन की कार्यप्रणाली पर सन्तोष व्यक्त किया गया। यदपि गैर शिक्षक कर्मचारी संघ के चुनाव के मुद्दे पर भी चर्चा हुई। इस बारे मे महासचिव महेश कुमार ने बताया कि वर्तमान मे कर्मचारी संघ गैर शिक्षक कर्मचारी संघ के संविधान के अंतर्गत निहित प्रावधानों के अनुसार ही कार्य कर रही है।

महासचिव ने कहा गैर शिक्षक कर्मचारी संघ के संविधान मे प्रावधान है कि यदि संगठन द्वारा जनहित के कार्य प्रशासन के अनुमोदनध्स्वीकृति लंबित है और शीघ्र ही कर्मचारी हित मे निर्णीत होने अपेक्षित है तो संगठन 6 माह का कार्य अवधि मे विस्तार ले सकता है। इसके वावजूद यदि आवश्यक हो तो संघ के संविधान के अनुसार संगठन द्वारा आम सभा का आयोजन कर कर्मचारी संगठन के चुनावों करवाने से सम्वन्धी रूपरेखा तैयार कर आम सभा की स्वीकृति हेतु प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाता है। आम सभा मे बहुमत प्राप्त होने पर ही चुनाव करवाए जाने संभावित होते है। महासचिव ने बताया यदि आवश्यक हुआ तो संगठन शीघ्र ही आम सभा की बैठक बुला सकता है।

महासचिव ने कहा कि सयुंक्त संघर्ष समिति द्वारा प्रशासन को सौंपे गए 15 सूत्रीय मांग पत्र पर प्रशासन द्वारा कार्यवाही जारी है और प्रशासन द्वारा की जा रही कार्यवाही का प्रतिवेदन(Action Taken Report) दिनाक 26 सितम्बर को अधिसूचित कर दिया गया है तथा संगठन द्वारा विश्व विद्यालय प्रशासन के साथ शीघ्र ही एक बैठक का आयोजन कर कर्मचारियों की मांगो को अमली जामा पहनाया जाएगा।

संगठन द्वारा कुछ अलग विचारधारा के मुट्ठी भर गैर शिक्षक कर्मचारियों द्वारा अपने निजी स्वार्थों की पूर्ति हेतु संगठन के चुनावों के संबन्धित समाचार पत्रों मे की जा रही अनावश्यक एवं भ्रामक टिप्पणियों का कड़ा संज्ञान लिया है और ऐसे कर्मचारियों को भ्रामक और कर्मचारी विरोधी टिप्पणियां न करने को आगाह किया है ।

गौर तलब रहे कि पहले भी भी गैर शिक्षक कर्मचारी संघ कर्मचारी हितो के मद्देनज़र अपने कार्यकाल मे भी विस्तार लेता रहा है तथा निवर्तमान गैर शिक्षक कर्मचारी संघ का कार्यकाल 22 महीनों का रहा था।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS