एचआरटीसी टैक्सियों में ओवरलोडिंग, 12 सीटर टैक्सी में 20 से अधिक सवारिया कर रही सफर

0
273
HRTC-Taxi

पुलिस भी मोटर सील्ड व प्रतिबंधित मार्गो के नियमों की धज्जिया उड़ता देख मूक बनी हुई है,सील्ड व प्रतिबंधित मागरें पर तैनात ट्रैफिक पुलिस कर्मियों की भी टैक्सी चालकों से साठ-गाठ की चर्चाएं आए दिन होती रहती है

शिमला- राजधानी शिमला से विभिन्न क्षेत्रों के लिए चलाई जा रही एचआरटीसी टैक्सियों में ओवरलोडिंग कर लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ किया जा रहा है। टैक्सी चालक अधिक कमाई के चक्कर में 12 सीटर टैक्सी में 20 से अधिक सवारिया भर रहे हैं। सील्ड व प्रतिबंधित मार्ग में वाहन की गति व ओवरलोडिंग के नियमों की टैक्सी सेवा धज्जिया उड़ा रही है।

शिमला की पुलिस जिसका डंडा सिर्फ आम चालकों पर ही चलता है, एचआरटीसी की टैक्सी सेवा पर मेहरबान बनी हुई है। न तो पुलिस एचआरटीसी की टैक्सियों की तेज रफ्तारी का चालान करती है और न ही ओवरलोडिंग का जबकि सील्ड रोड पर टैक्सिया 50 से अधिक की तेज रफ्तार से दौड़ाई जा रही है।

लक्कड़ बाजार से संजौली जाने वाली टैक्सी में प्रतिदिन ऐसा ही हाल होता है। सुबह से शाम तक चलने वाली टैक्सी में सीट के लिए हर वख्त जद्दोजहद होती है। ऐसे में कई बार सवारियों में नोकझोंक की घटनाएं भी होती रहती हैं।

यह है नियम

शिमला रोड यूजर एक्ट के मुताबिक सील्ड व प्रतिबंधित मार्ग पर वाहनों की गति 20 से नीचे होनी चाहिए, लेकिन यह एचआरटीसी की टैक्सिया 50 से ज्यादा तेज गति से दौड़ाई जा रही है। पुलिस भी मोटर सील्ड व प्रतिबंधित मार्गो के नियमों की धज्जिया उड़ता देख मूक बनी हुई है।

सील्ड व प्रतिबंधित मागरें पर तैनात ट्रैफिक पुलिस कर्मियों की भी टैक्सी चालकों से साठ-गाठ की चर्चाएं आए दिन होती रहती है। अगर यूं ही कायदे कानून को ठेंगा दिखाकर टैक्सिया सील्ड व प्रतिबंधित मार्ग पर दौड़ती रही तो कभी अनहोनी हो सकती है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS