दिहाड़ीदार पिता के होनहार बेटे ने 94.2 % अंक हासिल कर हिमाचल में किया टॉप, आईएएस बनना चाहता है रोशन

0
1109
Roshan Lal Sahni

शिमला- घर की हालत ठीक नहीं, पिता को घरों में सफेदी करने से मिली आमदनी से पूरे परिवार का लालन-पोषण करना पड़ता है। बावजूद इसके राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला (ब्वॉयज) के छात्र रोशन लाल साहनी ने 94.2 प्रतिशत अंक हासिल कर समूचे प्रदेश में टॉप कर लिया। कई बार परिवार की स्थिति यहां तक पहुंच जाती थी कि रोशन को किताबें व पढ़ाई की जरूरी सामग्री नहीं मिल पाती थी। बमुश्किल पिता सोनू साहनी फीस ही चुका पाते थे। अब रोशन के सामने आगे की पढ़ाई की चुनौती है।

विशेष बातचीत के दौरान रोशन ने साफ कर दिया कि उसका अल्टीमेट लक्ष्य आईएएस बनना है। इसके लिए चाहे नौकरी कर पैसा जुटाना पड़े। कमाल देखिए, मात्र दो घंटे ही पढ़ाई करने पर रोशन को यह सफलता मिल गई है। कल्पना कीजिए अगर रोशन को तमाम सुविधाएं मिल जाएं तो आने वाले वक्त में आईएएस का भी टॉपर बन सकता है। मूलत: बिहार के रहने वाले रोशन के पिता काम की तलाश में एक अरसा पहले अर्की पहुंचे थे। पिता सुबह की दिहाड़ी पर निकल जाते हैं तो उनके घर लौटने तक छोटे-मोटे कामकाज में भी रोशन को अपनी मां रंजना का हाथ बंटाना पड़ता है। साथ ही छोटे भाई-बहन का भी ध्यान रखना पड़ता है।

प्रदेश में टॉप करने की खबर रोशन को बिहार के ग्रामीण क्षेत्र में मिली। खुशी से फूला न समाया रोशन फौरन ही ट्रेन पकड़ कर अर्की पहुंचने के लिए निकल पड़ा है।रोशन ने कहा कि वह आईएएस बनना चाहता है। परिवार की स्थिति ठीक नहीं है, लिहाजा अगर सपने को पूरा करने के लिए पढ़ाई के साथ-साथ नौकरी भी करनी पड़ी तो करूंगा।

उधर स्कूल के प्रधानाचार्य डॉ. एचआर वर्मा ने मेधावी छात्र को इस सफलता पर बधाई देते हुए कहा कि स्कूल प्रबंधन व स्टाफ इस मेधावी छात्र की हर मोड़ पर पूरी मदद करेगा।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS