यहां मेले में एक दूसरे पर बरसाते हैं पत्थर ।

0
324
Himachal’s-traditional-stone-pelting-festival-in-Dhami

शिमला– दिवाली के दूसरे दिन राजधानी शिमला के समीप धामी के चौरा में ऐतिहासिक और रोमांचक पत्थर मेले की परंपरा निभाई गई। इस मेले में हजारों की संख्या में लोग उमड़े। लोगों ने मेले में जमकर खरीदारी की तो पत्थरों की बरसात का लुत्फ भी लिया। मेले के दौरान सैकड़ों लोग दो टोलियों में बंट गए और एक-दूसरे पर पत्थरों की बरसात की गई। करीब पंद्रह मिनट जमोगी और कटेड़ू टोलियों के बीच पत्थर बरसाने के बाद कटेड़ू के हितेश (20) गांव नावटा के सिर पर पत्थर लगने पर यह खेल बंद हुआ।

फोटो: नरेश भारद्वाज
फोटो: नरेश भारद्वाज

इसके तुरंत बाद हितेश के सिर से निकले खून से सती स्मारक में तिलक किया गया। इसके बाद दोनों टोलियों ने नाटी डालकर मस्ती की और क्षेत्र की सुख समृद्धि की कामना की। पत्थर मारने की यह परंपरा काफी पुरानी है। मेले में काफी संख्या में लोग पहुंचे हुए थे। हर साल यह परंपरा दिवाली के दूसरे दिन निभाई जाती है। इसे देखने के लिए काफी दूर-दूर से लोग पहुंचते हैं।

Old Video of stone pelting festival in Dhami

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS