हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय प्रशासन कुछ तो शर्म करो

0
317

hpu-campus1

बड़ी हैरानी की बात है कि प्रवेश परीक्षा और पूरी फीस देने के बावजूद हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय ने 7 छात्रों को सिर्फ इसलिए निष्कासित कर दिया क्योंकि वो भारी फीस वृद्धि के आन्दोलन का नेतृत्व कर रहे थे | यहाँ तक कि विश्वविद्यालय प्रशासन ने परिसर में उनके प्रवेश पर भी पाबंदी लगा दी|

वहीँ दूसरी और तस्वीरों में दिखाई दे रहे ये बिन बुलाये मेहमान पिछले 1 साल से परिसर में खुले आम घूम रहे हैं और ना जाने कितने छात्र-छात्राओं को घायल कर चुके हैं | आलम ये है कि परिसर में छात्रों को इनके कारण सुबह शाम चाय कॉफ़ी पीते हुए, खाना खाते हुए इधर उधर भागने के लिए मजबूर होना पड़ता है | हालांकि प्रदेश उच्च न्यायालय ने पिछले वर्ष ये आदेश जारी किये थे कि आवारा घूम रहे पशुओं की सूचना सम्बंधित विभाग को देकर इन्हें गौ- सदन में भेज दिया जाये लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन को केवल छात्रों के प्रवेश को प्रतिबंधित करने के लिए ही रह गया है | अपने देश में वेसे भी ये परंपरा हि रही है कि जब तक कोई छोटी सी घटना दुर्घटना न बन जाये तब तक प्रशासन कि आँखें नहीं खुलती |
(उम्मीद है कुलपति महोदय अब ये नहीं कहेंगे कि छात्रों ने इसकी सूचना लिखित में प्रशासन को नहीं दी )

उम्मीद है कि इस पोस्ट को पढने के बाद अगर प्रशासन को थोड़ी सी भी शर्म आये तो वे जल्दी ही इस समस्या का समाधान करेंगे |

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS