वाह री एच.आर.टी.सी.,चला रही है वोल्वो,बचा रही है दस रुपये

0
1532
Volvo-himsuta-himachal

हद हो गई प्रशासन की बदइंतजामी की –
सब्र किया दो महीने,खबर न भेजने का –सोचा सुधरेगा विभाग — फिर भी सुधरी नहीं एच.आर.टी.सी.
प्रशासन ने कहा अप्रैल माह से शुरू होगा एक लीटर पानी –अभी भी आधा लीटर पानी
सफर ज्यादा पानी कम –किराए में कोई कमी नहीं —
किराया शिमला से दिल्ली 822 रुपये — बस एच.आर.टी.सी.–पानी की बोतल आधा लीटर
किराया चंडीगढ़ से दिल्ली 520 रुपये –बस हरियाणा रोडवेज -पानी एक लीटर बोतल
सफर ज्यादा पानी कम –नहीं है प्रशासन की बात में दम —

Volvo-himsuta-himachal
​​
पिछले मार्च महीने में अचानक मुझे पहली बार परिवार सहित शिमला से दिल्ली और दिल्ली से शिमला के लिए हिमसुता वॉल्वो में सफर करने का मौक़ा मिला और अचानक इन दो महीनो में चार -पांच मर्तवा एच.आर.टी.सी.वाल्वो के सफर तथा बदइंतजामी का अनुभव हुआ ! यह बात विकास समिति टूटू के अध्यक्ष नागेन्द्र गुप्ता ने एक प्रैस को जारी ब्यान में कही!

उन्होंने कहा की पहली बार उन्होंने 14 मार्च को बस नंबर HP-63-5316 में सुबह 8.30 की बस से सफर किया तो अनुभव किया कि हिमाचल ट्रांसपोर्ट की हिमसुता बसें प्रशासन की समय सारिणी से नहीं बल्कि चालक -परिचालक की मर्जी से चलती हैं ! उन्होंने बताया की पहले तो सही समय पर बस का प्रस्थान नहीं हुआ और निर्धारित समय से 15 मिनट लेट बस स्टैंड से बाहर निकाली गई फिर मर्जी से चालक कभी बस को वाया कालका ले जाते हैं और कभी सीधे वाया परवाणू बाईपास हाईवे से सीधे पंचकुला निकल जाते हैं!

नागेन्द्र गुप्ता ने कहा की इसी प्रकार दिल्ली से शिमला की बस को भी कभी वाया कालका घुमा दिया जाता है और कभी वाया परवाणू बाई-पास घुमा दिया जाता है जिससे न केवल समय की बर्बादी होती है बल्कि सवारियों को भी बेवजह परवाणू बस को कभी पैट्रोल पम्प पर तथा कभी बैरियर पर बेफिजूल में रोक देने से परेशानी उठानी पड़ती है ! उन्होंने कहा कि वॉल्वो जैसी बसों को सफ़र शुरु करने से पूर्व ही डीजल इत्यादि भर कर प्रस्थान स्थान पर लाना चाहिये जिससे आम आदमी को कोई परेशानी न झेलनी पड़े जिस काऱण सफ़र के समय में भी कमी आएगी!

समिति अध्यक्ष ने कहा की उन्होंने इस दौरान यह भी अनुभव किया है कि इन बसों के चालक और परिचालक के व्यवहार में कोई कमी नहीं है परन्तु बेबजह इस एयरकंडीशनर बस के सफर के लुत्फ़ को समय की बर्बादी कर खराब किया जाता है जिससे सफ़र में समय भी ज्यादा लगता है!

volvo-himsuta

गुप्ता ने कहा कि आर.एम.शिमला नेगी का तर्क है कि सर्दी के मौसम में पानी कि खपत कम होने के कारण ऐसी व्यवस्था कि जातीं है और एक अप्रैल से एक लीटर पानी की बोतल शुरु कर दी जाएगी ! गुप्ता ने कहा कि 27 अप्रैल यानी कल रात्रिं द्स बजे वह किसी रिश्तेदार को वाल्वो में बिठाने टुट्टीकडी गये थे तो भी आधा लीटर पानी ही सप्लाई किया जा रहा था जिस पर अन्य सवारियों के परिजन भी प्रशासन की खिल्ली उड़ाते हुये देखे गये! हिमाचल सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी भी अपने बेटे को बस में बिठाने आये हुये थे और उनका तर्क था कि चाहे सर्दी का मौसम हो या गर्मी का निगम प्रशासन को चाहिए कि वह सारा साल एक लीटर बोतल सवारियो को सप्लाई करे इससे एच.आर.टी.सी ही नहीं बल्कि हिमाचल सरकार कि भी छ्वी खऱाब हो रही है !

नागेन्द्र गुप्ता ने कहा कि हरियाणा रोडवेज वॉल्वो बस में कम सफ़र में भीं ज्यादा पानी सप्लाई कर रहा है जबकि हिमाचल ज्यादा सफ़र में भी कम पानी सवारियों को दे रहा है जबकि किराये में कोई कमी नहीं की गई है!

विकास समिति अध्यक्ष ने इस मौके पर वाल्वो में दरवाजे के पास बस नंबर अँकित करने का भी सुझाव दिया जिससे सवारियों को बस से उतरते -चढ़ते हुये अपनी बस की सही पहचान हो सके!
नागेन्द्र गुप्ता

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS