प्रधानमंत्री ने कहा इस्तीफा देने का सवाल ही नहीं

0
218
manmohan-resign-1324350075

manmohan-resign-1324350075

“दागी जन प्रतिनिधियों को संरक्षण प्रदान करने वाले अध्यादेश के मामले पर राहुल गांधी द्वारा उनकी सरकार को खरी खरी सुनाए जाने के मद्देनजर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मंगलवार को इस्तीफा देने की संभावना को सिरे से खारिज कर दिया”

अमेरिका से स्वदेश लौटते ही प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने विपक्ष को करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा, मेरे इस्तीफे का सवाल ही नहीं उठता। मैं इस्तीफा किसी कीमत पर नहीं देने वाला हूं। साथ ही उन्होंने कहा कि दागियों को बचाने वाले अध्यादेश के मुद्दे पर पर बुधवार को मैं राहुल गांधी से बात करुंगा। राहुल गांधी क्यों नाराज हैं इसकी तह तक जाऊंगा।

संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक से लौटते ही प्रधानमंत्री ने अपने इस्तीफे की तमाम अटकलों को खारिज कर दिया। गौरतलब है कि सरकार ने कुछ दिन पहले दागी नेताओं को बचाने के लिए एक अध्यादेश राष्ट्रपति के पास भेजा था। राष्ट्रपति ने उस अध्यादेश पर अपनी आपत्ति जताई। जिसके बाद विपक्षी दलों ने सरकार पर हमले शुरू कर दिए। चारों तरफ से हमला होता देख कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि इस अध्यादेश को फाड़कर फेंक देना चाहिए। इसके बाद से विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री से इस्तीफे की मांग शुरू कर दी थी। हालांकिए इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का बचाव करते हुआ था कि पूरी पार्टी मनमोहन सिंह के साथ खड़ी है।

पत्रकारों से बातचीत करते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि अध्यादेश के मुद्दे पर मैं बुधवार को कैबिनेट में चर्चा करूंगा। साथ ही मैं इस मुद्दे पर राहुल गांधी से बात करूंगा। यह जनाने की कोशिश करूंगा कि आखिर इस मुद्दे पर राहुल गांधी को गुस्सा क्यों आया, इसकी तह तक जाऊंगा कि राहुल गांधी नाराज क्यों हैं।

देश लौटकर पीएम ने पत्रकारों से बातचीत में बीजेपी पर निशाना साधा। मनमोहन सिंह ने देश की सभी सेक्युलर पार्टियों से आह्वान किया कि वे एक मंच पर आएं और बीजेपी के पीएम कैंडिडेट नरेंद्र मोदी का डटकर मुकाबला करें। उन्होंने कहा कि अगर सांप्रदायिक ताकतों को अगले चुनावों में हराना है तो सभी सेक्युलर पार्टियों को एक मंच पर आना होगा।

अमेरिकी में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से बातचीत के मुद्दे पर मनमोहन ने कहा कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से काफी साकारात्मक माहौल में बातचीत हुई।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS