अरुणाचल प्रदेश में 20 किलोमीटर अंदर तक घुसी चीनी सेना

0
422
Chinese troops intrude into Arunachal

Chinese troops intrude into Arunachal

“चीनी सैनिकों ने एक बार फिर भारतीय भू-भाग में प्रवेश किया, वह 13 अगस्त को अरुणाचल प्रदेश के चागलागम इलाके में 20 किलोमीटर अंदर तक घुस आए और दो दिन से अधिक समय तक वहां रहे। चागलागम इलाका भारतीय भूभाग में 20 किमी से अधिक अंदर है”

चीनी सैनिकों ने अरुणाचल प्रदेश में 20 किलोमीटर तक घुसपैठ की है। यह मामला 13 अगस्त का है, जब चीनी सेना की टुकड़ियां अरुणाचल की सीमा में 20 किलोमीटर तक दाखिल हो गईं।

खबर ये भी है कि ये टुकड़ियां 2 दिन तक रुकी रहीं।

बहरहाल, सेना मुख्यालय ने इस घुसपैठ को अधिक महत्व न देने की कोशिश करते हुए कहा कि चीनी सैनिक अपने इलाकों में वापस चले गए। मुख्यालय के अनुसारए ऐसी घटनाएं अक्सर हो जाती हैं क्योंकि विवादित वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गश्त के दौरान दोनों पक्ष एक दूसरे के इलाकों पर अपना दावा करते हुए बढ़ जाते हैं।

सूत्रों ने बताया कि अरुणाचल प्रदेश के चागलगाम इलाके में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के जवान भारतीय भूभाग के अंदर 20 किमी से अधिक अंदर आ गए थे। चीनी टुकड़ियां चागलगाम में फिश टेल इलाके से यहां दाखिल हुईं। इस इलाके की सुरक्षा का जिम्मा भारत−तिब्बत सीमा पुलिस के पास है। कहा जा रहा है कि जब भारतीय सेना को बुलाया गयाए तो चीनी टुकड़ियां यहां से लौट गईं। इसके बाद भारतीय जवानों ने उन्हें रोका। दोनों पक्षों ने एक दूसरे को इलाके से चले जाने के लिए एक दूसरे को बैनर दिखाए।
हालांकिए लोगों का कहना है कि चीनी सैनिक टुकड़ियां इलाके में अभी भी ही हैं। सेना ने फिलहाल पूरे इलाके में चौकसी बढ़ा दी है।

सूत्रों के अनुसार , यह इलाका सेना की सेकंड डिवीजन के अंतर्गत आता है और मुद्दे के हल के लिए बल के उप-कमांडर ने भी हस्तक्षेप किया।

उन्होंने बताया कि वास्तविक नियंत्रण रेखा की निगरानी के लिए अर्धसैनिक बल भारत तिब्बत सीमा पुलिस भी इलाके में मौजूद है।

गत अप्रैल में चीनी सैनिक भारतीय भूभाग में 19 किमी अंदर तक घुस गए थे और लद्दाख के देसपांग में अपने तंबू लगा लिए थे। दोनों देशों के बीच तीन सप्ताह के गतिरोध और शीर्ष अधिकारियों के बीच बातचीत के कई दौर के बाद ये सैनिक वापस गए थे।

सेना के सूत्रों ने बताया कि बीते 8 माह में, चीनी पक्ष की ओर से 150 से अधिक बार घुसपैठ की गई और भारतीय सैनिक भी गश्त के दौरान उन इलाकों में चले गए जिन पर वह दावा करते हैं। PTI

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS