देश का चौथा ज्योतिर्लिंग हिमाचल के जिला काँगड़ा में है स्थित

0
1274
Jaladhari-temple-kangra

Jaladhari-temple-kangra
“जलधारी के नाम से परसिद्ध इस मंदिर में हजारों की तादात में आते हैं श्रद्धालु, मंदिर में आज भी मौजूद हैं कामधेनु गाय के थन और गिरता है शिव लिंग पर पानी, किसी युग में गिरता था दूध और इस गुफा में भगवान् शिव शंकर स्वयं बिराज मान हैं ”

जिला काँगड़ा के क्यारबाँ में स्तिथ यह जलधारी मंदिर बहुत पुराना मंदिर है और यह मंदिर एक गुफा में स्तिथ है कहा जाता है की किसी समय में यहाँ पर कामधेनु गाय के थनो से दूध निकल कर शिव लिंग पर गिरता था लेकिन अब वह दूघ पानी में बदल गया है और इस दूध के पानी में बदलने को लेकर जिस घटना को कहा जाता है वो ये एक गद्दी समुदाय के व्यक्ति श्यामु ने यहाँ पर कामधेनु गाय के दूध से खीर बना दी और उसके ऐसा करने से यह दूध पानी में बदल गया था ।

jaladhaari-temple

वहीं उसी गुफा में ही श्यामू को भगवान् शिव शंकर ने साक्षात दर्शन दिए और जिसके बाद से श्यामू उसी गुफा में शिव शंकर की भक्ति में लींन हो गया और जब एक वर्ष तक वह अपने घर नहीं गया तो उसके घर वालों ने उसका चोथा मनाने की मन में ठान ली, लेकिन कुछ ही देर में श्यामू होश में आ कर अपने घर को चल दिया जब श्यामू घर पहुंचा तो घर वालों ने उससे एक वर्ष घर से बाहर रहने का कारण पूछा तो उसने पूरी घटना अपने घर वालों को बताई।

घर वालों ने उस स्थान पर जाकर देखा तो वहां पर शिव लिंग पर पानी गिर रहा था , और उसी समय से ले कर आज तक इस मंदिर को जलधारी के नाम से पूजा जाने लगा ।

Himachal-Jaladhari-temple

कहा जाता है की इस मंदिर के आस- पास हर समय गाय माता घुमती रहती और हजारों की संख्या में श्रद्धालु माथा टेकने आते है। वहीं इस मंदिर की ये भी मान्यता है कि यहाँ आने वाले श्रद्धालुओं की हर तरह की मनोकामनाए पूरी होती है तथा यहाँ के पानी पीने से कई तरह की बीमारियाँ भी दूर हो जाती है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS