सरबजीत हार गया जिदंगी की जंग, अस्पताल में तोड़ा दम भारत पहंुचा शव

0
253
Sarabjit-Singh-dies-in-Pakistan

Sarabjit-Singh-dies-in-Pakistan
Photo:REUTERS/Mohsin Raza

पाकिस्तान की जेल में बर्बरता का शिकार हुए भारतीय कैदी सरबजीत सिंह जीवन से अपनी जंग हार गया , 6 दिनों तक जिंदगी और मौत से जंग के बाद सरबजीत ने अस्पताल में दम तोड़ दिया अंतिम संस्कार के लिए सरबजीत का शव पाकिस्तान ने परिवार को सौंप दिया गया है”

भारत सरकार की मांग पर पाकिस्तान ने सरबजीत के शव को अंतिम संस्कार करने के लिए भारत भेजा है। भारतीय अधिकारियों को सरबजीत के शव सौंपने से पहले पाकिस्तान में ही छह डॉक्टरों की एक टीम ने सरबजीत का पोस्टमार्टम किया भारत सरकार का खास विमान लाहौर से शव को लेकर अमृतसर पहुंचा है।

अमृतसर से सरबजीत का शव एयर फ़ोर्स से स्पेशल हेलिकॉप्टर के ज़रिये तरन तारन के भिखिविंड ले जाया गया है। यही के पट्टी नामक जगह पर सरबजीत का दोबारा पोस्टमॉर्टम किया जाएगा। पंजाब सरकार ने सरबजीत का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ करने का ऐलान किया है।

वहीं दूसरी ओर सरबजीत के पैतृक गांव पंजाब के बिखीविंद में और इसके अलावा देश के अलग अलग हिस्सों में सरबजीत की मौत के विरोध में लोगों ने प्रदर्शन किया है

सरबजीत की बहन दलबीर ने मीडिया के सामने कहा कि पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी ने सरबजीत की रिहाई के लिए मांगे थे 25 करोड़ रुपए और अगर वो 25 करोड़ दे दिए होते तो सरबजीत जिंदा होता। दलबीर ने पाकिस्तान को ललकारते हुए कहा कि वो उन सरबजीतों के लिए लड़ती रहेंगी जो पाकिस्तान की जेलों में कैद हैं। उन्होंने कहा कि वो देखेंगी कि तालिबान उनका क्या बिगाड़ लेगाघ्

उन्होंने कहा कि उनका भाई देश के लिए शहीद हुआ है। सरबजीत के साथ जो कुछ हुआ वह एक हिंदुस्तानी होने की वजह से हुआ। पाकिस्तान में चुनाव की वजह से राष्ट्रपति जरदारी ने उसका कत्ल करवाया। दलबीर ने कहा कि वह 2005 से कह रही हैं कि उनका भाई निर्दोष है और निर्दोष को सजा नहीं होती उसका कत्ल किया जाता है।

उन्होंने कहा कि लाहौर के जिन्ना अस्पताल में मेरे पूछे जाने पर वहां के नर्स और डॉक्टर हंसते थे। मुझे उनकी हंसी देखकर लगता था कि वो कुछ छिपा रहे हैं। उनको पता था कि सरबजीत तो जिंदा नहीं है। सरबजीत पहले ही मर चूका था। आज पूरे हिंदुस्तान को एक होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि सरबजीत की मौत की जांच होनी चाहिए। दलबीर ने बताया कि गृहमंत्री शिंदे ने भरोसा दिया है कि इसकी जांच होगी। उन्होंने कहा कि सरकारी तौर पर अंतिम संस्कार किया जाएगा। शहीद का दर्जा दिया जाएगा। सरबजीत के होते अगर ये सब किया जाता तो हम सभी खुश होतें ।
-IBN

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS