दिल्ली में फिर हैवानियत पांच साल की बच्ची से रेप

0
300
stop-rape-now-shame

stop-rape-now-shame

“दिल्ली में पाँच साल की एक लड़की बलात्कार के बाद ज़िंदगी की जंग लड़ रही है 5 साल की यह मासूम लड़की 14 अप्रैल से गायब थी उसे उसी बिल्डिंग में ग्राउंड प्लोर में रहने वाले एक युवक ने अपने कमरे में हाथ.पैर बांध कर कैद कर रखा था”

एक दरिंदे ने उसके साथ बलात्कार किया। गांधीनगर इलाके में हुई इस घटना के बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार बच्ची दो दिनों से लापता थी। दो दिन वह लहूलुहान हालत में पड़ोसी के घर से मिली। बच्ची की हालत फिलहाल गंभीर है। डॉक्टरों ने बच्ची के पेट से एक मोमबत्ती और एक शीशी भी निकाली है। बताया जाता है कि आरोपी फरार है।

बच्ची के साथ आरोपी किस दरिंदगी से पेश आया इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसे ब्लेड मारकर मारने की कोशिश भी की गई। फिलहाल मासूम अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रही है।

डॉक्टरों ने बच्ची के साथ बलात्कार की पुष्टि की है। बच्ची की हालत बेहद खराब है, उसका ऑपरेशन भी करना पड़ा है। उसे अभी ऑक्सीजन पर रखा गया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और फरार आरोपी की तलाश जारी है।

डॉक्टरों के मुताबिक लड़की इस कदर तकलीफ और खौफ से गुजरी है कि वह ठीक से कुछ बता भी नहीं पा रही। उसके पेट के निचले हिस्से से प्लास्टिक की शीशी और मोमबत्ती निकली है। इलाज कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि ऐसी क्रूरता का केस उनके सामने कभी नहीं आया।

उसकी हालत अब भी गंभीर है। डॉक्टर अगले 48 घंटों को उसकी जिन्दगी के लिए बेहद अहम बता रहे हैं।
वहीं जंहा एक और इस घटना के विरोध में लोग प्रर्दशन कर रहे थे वहीं पीड़ीत लड़की से मिलने के लिए अस्पताल जा रही एक 17 वर्षीया प्रदर्शनकारी छात्रा को दिल्ली पुलिस के एक सहायक पुलिस आयुक्त ;एसीपी ने जोरदार थप्पड़ मार दी जिससे उसके कान से खून बहने लगा। इस घटना के बाद एसीपी को बाद में निलंबित कर दिया गया है।

वहीं पुलिस पर दूसरा आरोप यह भी है कि जिसमें पीड़ीत बच्ची के पिता ने कहा कि परिवार को बुधवार को बच्ची के गुम होने का पता चला। पुलिस ने उन्हें बच्ची के साथ हुई घटना अपने परिवार के समक्ष उजागर नहीं करने के लिए कहा और यहां तक कि चुप रहने के लिए उन्हें 2,000 रुपये की पेशकश कर डाली। बच्ची के पिता ने कहा कि पुलिस ने हमसे कहा कि हमें मीडिया में यह मामला नहीं लाना चाहिए। उन्होंने हमें खर्चा.पानी के तौर पर 2,000 रुपये स्वीकार करने के लिए कहा और हमसे हमारी बेटी को घर ले जाने और उसके जल्द ठीक होने के लिए प्रार्थना करने को कहा।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS