बिलासपुर में बनेगा नया मिनी सचिवालय वीरभद्र सिंह

0
335
cm23march13c

cm23march13c

“बिलासपुर मुख्यालय में बनाया जाएगा नया मिनी सचिवालय, जिससे प्रशासन व आम लोगों को मिलेगी सुविधा”

मुख्यमंत्री आज बिलासपुर के लुहणू मैदान में राज्य स्तरीय नलवाड़ी मेले के समापन अवसर पर बोलते हुए कहा कि बिलासपुर मुख्यालय में नया मिनी सचिवालय बनाया जाएगा, जिससे प्रशासन व आम लोगों को मिलेगी सुविधा

उन्होंने मेले के दौरान विभिन्न विभागों द्वारा आयोजित विकासात्मक प्रदर्शनियांे का अवलोकन भी किया।

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर नलवाड़ी मेले के उपलक्ष्य में प्रकाशित स्मारिका का विमोचन भी किया।

उन्होंने विभिन्न खेल स्पर्धाओं के विजेताओं को पुरस्कार भी वितरित किए। दंगल प्रतियोगिता का खिताब सुन्दरनगर के जौनी चैधरी ने जीता जिन्हें पुरस्कार में गुर्ज और 71 हजार रुपये का नकद पुरस्कार प्रदान किया गया। पंजाब के सन्नी लल्लियां दूसरे स्थान पर रहे जिन्हें 51 हजार रुपये का नकद पुरस्कार दिया गया। तीसरे स्थान पर रहे धमेन्द्र आलमगीर को 25 हजार रुपये और चैथे स्थान पर रहे दिल्ली के मन्नू को 20 हजार रुपये का नकद पुरस्कार प्रदान किया गया।

( हिम कुमार) का खिताब कांगड़ा के रजत कुमार को प्रदान किया गया ए जिन्हें गुर्ज के साथ 31 हजार रुपये का पुरस्कार दिया गया। दूसरे स्थान पर रहे नालागढ़ के गुरबचन को 21 हजार रुपये तथा तीसरे स्थान पर रहे जुखाला के चमन को 15 हजार रुपये का नकद पुरस्कार प्रदान किया गया।

उपायुक्त एवं नलवाड़ी मेला आयोजन समिति के अध्यक्ष अजय शर्मा ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया।

इससे पूर्व ए मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय उच्च मार्ग.21 व 88 पर अलीखड्ड पर 5.81 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित घागस पुल का लोकार्पण किया। उन्होंने चंगर सैक्टर में जिला अटाॅर्नी भवन का भी उद्घाटन किया, जिस पर एक करोड़ 68 लाख रुपये व्यय किए गए हैं।

वीरभद्र सिहं ने अपने संबोधन में कहा कि बिलासपुर शहर के लिए 21 करोड़ 55 लाख रुपये की मल निकासी योजना स्वीकृत की गई है, जिसके लिए भूमि अधिग्रहण का कार्य प्रगति पर है। इसके अलावा, 64.66 करोड़ रुपये की कोलडैम उठाऊ पेयजल योजना का कार्य भी प्रगति पर है, जो सदर, घुमारवीं तथा नैनादेवी चुनाव क्षेत्रों की विभिन्न पेयजल योजनाओं को जोड़ेगी। इसका लगभग 65 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है और इस वर्ष के अंत तक यह परियोजना पूरी हो जाएगी।

वहीं मुख्यमंत्री ने कहा कि बागछाल पुल का निर्माण कार्य जनवरी ए 2006 में आरंभ हुआ था, जिसे गेमन इंडिया फर्म को सौंपा गया था तथा इस पर 18 करोड़ 49 लाख रुपये खर्च किए जा चुके हैं। संपर्क सड़क बनाने के लिए 4 करोड़ 85 लाख रुपये खर्च किए जा चुके हैं, लेकिन भू.तकनीकी कारणों के चलते इस पुल के कार्य को रोक दिया गया है और इस संदर्भ में गेमन इंडिया फर्म से बातचीत की जाएगी ताकि यह कार्य शीघ्र पूरा किया जा सके।

उन्होंने कहा कि बेरी.दड़ोलां पुल को वर्ष 2006.07 में विधायक प्राथमिकता में डाला गया था जिसके लिए 33 करोड़ 66 लाख रुपये स्वीकृत हुए थे। वर्तमान में इस पुल के लिए 165 करोड़ रुपये की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट स्वीकृति के लिए विचाराधीन है।

इसकें साथ ही वीरभद्र सिंह ने कहा कि जिन लोगों की जमीन गोबिंद सागर झील में चली गई थी, उनमें से छूट गए विस्थापितों के लिए पहले चरण में एचआरटीसी वर्कशाप के नजदीक चयनित दो सैक्टरों में प्लाॅट आबंटित करने के निर्देश प्रशासन को दिए गए हैं।

उन्होंने कहा कि बजट में बिलासपुर के लिए हाईड्रो इंजीनियरिंग कालेज प्रस्तावित किया गया है। उन्होंने वन विभाग को बिलासपुर में पौधरोपण के आदेश दिए जिससे सौंदर्यीकरण के साथ.साथ पर्यावरण में भी सुधार होगा।

राज्य स्तरीय योजना विकास और 20 सूत्री कार्यक्रम के अध्यक्ष रामलाल ठाकुर, मुख्य संसदीय सचिव राजेश धर्माणी, स्थानीय विधायक बंबर ठाकुर, पूर्व विधायक बाबू राम गौतम ए डाॅ. बीरू राम किशोर एवं तिलक राज शर्मा, प्रदेश सरकार के वरिष्ठ अधिकारी एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS