परशुराम पुरस्कार विजेताओं की पुरस्कार राशि 50 हजार रुपये से बढ़ाकर की जाएगी 1 लाख:मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह

0
388
virbhadra-singh-himachal-congress

virbhadra-singh-himachal-congress

“धर्मशाला में आयोजित 61वीं अखिल भारतीय पुलिस खेलों में हैंडबॉल प्रतियोगिता में हिमाचल प्रदेश के पुलिस के रजत पदक विजेता खिलाडि़यों को एक पदोन्नति देने की घोषणा के साथ ही धर्मशाला पुलिस स्टेडियम को स्तरोन्नत करने पर 50 लाख रुपये की राशि की जाएगी व्यय”

मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कांगड़ा जिले के धर्मशाला में आयोजित 61वीं अखिल भारतीय पुलिस खेलों में हैंडबाॅल प्रतियोगिता में हिमाचल प्रदेश के पुलिस के रजत पदक विजेता खिलाडि़यों को एक पदोन्नति देने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि धर्मशाला पुलिस स्टेडियम को स्तरोन्नत करने पर 50 लाख रुपये की राशि व्यय की जाएगी। मुख्यमंत्री आज धर्मशाला में 61वीं अखिल भारतीय पुलिस खेल प्रतियोगिता के समापन अवसर पर बोल रहे थे।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि प्रदेश सरकार ने उत्कृष्ट खिलाडि़यों को दी जाने वाली सम्मान राशि को बढ़ाकर दोगुना करने का निर्णय लिया है और परशुराम पुरस्कार विजेताओं की पुरस्कार राशि को 50 हजार रुपये से बढ़ाकर 1 लाख रुपये करने की घोषणा भी की ।

वीरभद्र सिंह ने कहा कि देश के 32 विभिन्न राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों और अर्द्ध.सैनिक बलों के 1500 खिलाडि़यों ने इस प्रतियोगिता में भाग लेकर खेल भावना का परिचय दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस के जवान दिन.रात अपने कार्य के प्रति समर्पित रहकर प्रदेशवासियों की सुरक्षा करते हैं। अपनी व्यस्तताओं और अधिक कार्यभार के बावजूद भी ये जवान खेल प्रतियोगिताओं में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार ने खिलाडि़यों को प्रोत्साहित करने के लिए अनेक योजनाएं चलाई हैं और उन्हें कई प्रकार के ईनाम प्रदान करने का प्रावधान भी किया गया है और सरकार का यह प्रयास रहेगा कि हिमाचल प्रदेश पुलिस के प्रतिभाशाली खिलाडि़यों को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं प्रदान हों और उनके लिए उन्नति के अवसर भी बढ़ाए जाएं।

उन्होंने कहा कि खेलों से तनाव कम करने में भी सहायता मिलती है। खेलों के माध्यम से खिलाड़ी जीवन के सभी क्षेत्रों विशेषकर कार्य क्षेत्र में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने में भी सक्षम होते हैं ए क्योंकि खेल हमारा मानसिक एवं शारीरिक विकास सुनिश्चित बनाते हैं। खेल प्रतियोगिताओं में दूसरे राज्यों के खिलाडि़यों मिलने का अवसर मिलता है ए जिससे भाईचारा और सुदृढ़ होता है।

मुख्यमंत्री ने विश्वास जताया कि ये खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपना विशेष स्थान बनाएंगे और अपने.अपने राज्य व देश का नाम रोशन करेंगे। उन्होंने कहा कि हाल ही में हुई ओलंपिक्स खेलों में खिलाडि़यों ने शानदार प्रदर्शन कर देश का नाम ऊंचा किया है। उन्होंने कहा कि प्रदेशवासियों के लिए यह गौरव की बात है कि प्रदेश के हमीरपुर जिले के निवासी विजय कुमार ने ओलंपिक्स खेलों में शूटिंग में रजत पदक हासिल किया है।

उन्होंने विजय कुमार के परिजनों को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी। उन्होने कहा कि राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले प्रदेश के प्रतिभावान खिलाडि़यों को समय पर सम्मानित कर प्रोत्साहित किया जाता है।

वीरभद्र सिंह ने कहा कि प्रदेश के युवाओं में खेल प्रतिभा को प्रोत्साहित करने के लिए राज्य सरकार खेलों के लिए आधार सुविधाओं के विकास पर बल दे रही है। नए स्टेडियमों के निर्माण के साथ.साथ प्रदेश के मौजूदा स्टेडियमों को भी विकसित किया जाएगा।

उन्होंने विजेता खिलाडि़यों को बधाई देते हुए आशा जताई कि अन्य राज्यों से आए खिलाडि़यों ने हिमाचल की इस सुंदर व स्वर्णिम वादियों का आनंद उठाया होगा। उन्होंने आयोजकों को प्रतियोगिता के सफल आयोजन के लिए बधाई दी।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर विजेता खिलाडि़यों को पुरस्कार वितरित किए। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के सुरेन्द्र ने प्रतियोगिता के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का पुरस्कार प्राप्त किया।

इससे पूर्वए प्रदेश पुलिस के महानिदेशक बी.कमल कुमार ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि यह दूसरा मौका है कि धर्मशाला में अखिल भारतीय पुलिस खेलों का आयोजन किया गया है। इससे पूर्व, वर्ष 2005 में यहां इन खेलों का आयोजन किया गया था। उन्होंने इस दौरान आयोजित विभिन्न स्पर्धाओं की विस्तृत जानकारी भी दी।

अन्वेषण ब्यूरो के विशेष निदेशक धनेश्वर शर्मा ने इस अवसर पर खेल रिपोर्ट प्रस्तुत की। उन्होंने कहा कि देश के 82 पुलिस कर्मियों को अब तक अर्जुन पुरस्कार प्रदान किया जा चुका है। जबकि लंदन आॅलोम्पिक खेलों में भी दो पुलिस कर्मियों को पदक हासिल हुए।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS