मुख्यमंत्री ने दिया कानूनविदों से आईटी के व्यापक उपयोग करने पर बल

0
255
cm6march13

cm6march13

“मुख्यमंत्री ने सूचना प्रौद्योगिकी के वर्तमान दौर में न्यायालय के बार सदस्यों को अन्य न्यायालयों, उच्च न्यायालयों एवं सर्वोच्च न्यायालय की नवीनतम व्यवस्थाए दिशा.निर्देश एवं निर्णयों की नवीनतम जानकारी के लिए इंटरनेट की सुविधाओं का प्रयोग करने के दिशा.निर्देश दिये”

मुख्यमंत्री ने कांगड़ा जिला के ज्वाली उपमण्डल के न्यायिक परिसर के बार सदस्यों को सम्बोधित करते हुए कहा की सूचना प्रौद्योगिकी के इस वर्तमान दौर मे न्यायालय के बार सदस्यों को अन्य न्यायालयों, उच्च न्यायालयों एवं सर्वोच्च न्यायालय की नवीनतम व्यवस्था, दिशा.निर्देश एवं निर्णयों की नवीनतम जानकारी के लिए इंटरनेट की सुविधाओं का प्रयोग को इस्तेमाल में लाना चाहिए । मुख्यमंत्री ने कहा बार के सदस्य लोगों को न्याय दिलवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं और इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने बार सदस्यों से गरीब एवं जरूरतमंद लोगों को न्याय दिलवाने में अपना सहयोग देने का भी आग्रह किया।

ज्वाली बार एसोसियेशन के अध्यक्ष हरनेक सिंह ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया और साथ ही संघ की विभिन्न मांगों से भी अवगत करवाया। उन्होंने वीरभद्र सिंह के छठी बार प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने पर उन्हें बधाई दी। उन्होंने कहा कि वीरभद्र सिंह तथा पूर्व मंत्री एवं सांसद प्रो. चन्द्र कुमार के प्रयासों से ज्वाली में न्यायिक परिसर संभव हो पाया।

वहीं इस अवसर पर वीरभद्र सिंह ने कांगड़ा जिला के उपायुक्त को न्यायिक परिसर ज्वाली के लिए आवंटित भूमि के अधिग्रहण के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बार के पुस्तकालय में पुस्तकों की खरीद के लिए पर्याप्त धनराशि उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के लोगों की सुविधा के लिए ज्वाली में अतिरिक्त जिला जज सर्किट कोर्ट एवं उप मण्डल स्तरीय कोर्ट कैम्प का मामला उच्च न्यायालय एवं कांगड़ा के मण्डलायुक्त के समक्ष उठाया जाएगा।

पूर्व मंत्री एवं सांसद प्रो. चन्द्र कुमार, मुख्य संसदीय सचिव नीरज भारतीय, हिमाचल पथ परिवहन निगम के उपाध्यक्ष केवल सिंह पठानिया, पूर्व विधायक सुरेन्द्र काकू, रंजीत सिंह एवं बोध राज, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं अन्य अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

इससे पूर्व पन्द्रेहड़ ग्राम पंचायत के एक प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री से भेंट कर थाना गांव से शराब के ठेके को हटाने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री से अन्य प्रतिनिधिमण्डलों एवं आम लोगों ने भी भेंट की और उन्हें अपनी शिकायतों एवं मांगों से अवगत करवाया।

मुख्यमंत्री ने उन्हें आश्वासन दिया कि उनकी सभी जायज मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS