कांग्रेस नें नहीं बनने दिया पिछड़े वर्ग के कल्याण के लिए विधेयक: केंद्रीय मंत्री गहलोत का आरोप

0
54
HP elections thawar chand gehlot

शिमला: केंद्रीय सामाजिक न्याय व अधिकारिकता मंत्री व बीजेपी के वरिष्ठ नेता थावर चंद गहलोत ने आरोप लगाया कि पिछड़े वर्ग के कल्याण के लिए बनने वाले विधेयक पर कांग्रेस ने अड़ंगा लगाया है।

हिमाचल से ताल्लुक रखने वाले कांग्रेस नेता आनंद शर्मा और विप्लव ठाकुर ने इसकी खिलाफत की।

गहलोत ने कहा कि पिछड़े वर्ग के लिए मोदी सरकार ने कार्य किया है और इसके लिए संवैधानिक आयोग बनाने को प्रयास किए और लोकसभा में पास हुआ, लेकिन कांग्रेस ने राज्यसभा इसका विरोध किया।

राज्यसभा के उपनेता आनंद शर्मा और राज्यसभा सदस्य विप्लव ठाकुर ने विरोध किया। उन्होंने कहा कि बीजेपी पिछड़े वर्ग के लिए कार्य करना चाह रही है, लेकिन कांग्रेस इसमें अड़ंगा लगा रही है और तुष्टिकरण की राजनीति कर रही है।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने जन धन योजना में गरीबों के खाते खुलवाए और इसमें कई लाभ भी दिए। इसके अलावा प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में दस लाख रूपए तक लोन का प्रावधान किया। इसके अलावा कई और कल्याणकारी योजनाएं भी चलाई हैं।

उन्होंने कहा कि दिल्ली में इंटरनेशनल स्टडी सेंटर बन रहा है और जल्द इसका उद्घाटन होगा। उन्होंने कहा कि डॉ. अंबेडकर को सम्मान देने को 26 नवंबर को सम्मान दिवस मनाया और गंणतंत्र दिवस पर राजपथ पर उनके जीवन पर झांकी भी निकाली।

बीजेपी नेता ने कहा कि केंद्र सरकार ने हाथ से मैल ढोने की प्रथा को समाप्त करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि इस काम में जुड़े लोगों को दूसरे कामों में लगाया है और सभी राज्यों को इसका लाभ दिया है।

उन्होंने कहा कि एससी सब प्लान में बजट बढ़ाया है और सभी राज्यों को इसका लाभ दिया और बिना किसी भेदभाव के मदद की है और कुल मिलाकर करीब 50 फीसदी मदद केंद्र से दी जा रही है।

जहां जहां पर बीजेपी सरकारें हैं , वहां पर राज्य सरकार अच्छा कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि इन राज्यों में जीडीपी ग्रोथ भी दस फीसदी से ऊपर बना रखी है और किसानों की आय भी बढ़ाई है।

उन्होंने कहा कि हिमाचल में भी बीजेपी तीन चौथाई बहुत से सरकार बनाएगी। गहलोत ने कहा कि बीजेपी विकास और केवल विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ रही है। केंद्र सरकार ने समाज के सभी वर्गों के विकास के लिये कार्य किया है और जाति के आधार पर बीजेपी चुनाव नहीं लड़ रही।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS